पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61305.950.94 %
  • NIFTY18338.550.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)478990 %
  • SILVER(MCX 1 KG)629570 %

हंगरी क्या?:अपनी बेतुकी भूख को ऐसे करें शांत

एक महीने पहलेलेखक: गीतांजली
  • कॉपी लिंक
  • नाश्ते में अखरोट के सेवन से लंच में कम भूख लगती है
  • पुदीना बार-बार भूख लगने की प्रॉब्लम का परफेक्ट सॉल्यूशन है

घर हो या ऑफिस प्रिया आजकल अपनी बेतुकी भूख से परेशान रहती है। उसे हर 15 मिनट पर कुछ न कुछ खाने की क्रेविंग होती है। चाहे उसने थोड़ी देर पहले ही क्यों न खाया हो। हमारे आसपास न जाने कितनी प्रिया हैं जो ऐसी प्रॉब्लम्स से गुजर रही हैं।

पर सवाल यह है कि आखिर ऐसा होता क्यों है? यही जानने के लिए भास्कर वुमन टीम ने बात की दिल्ली की डाइटिशियन प्रियंका जायसवाल से। आइए जानते हैं उन्होंने इसकी क्या वजह बताई है।

डाइटिशियन प्रियंका जायसवाल, डॉयरेक्टर ऑफ Diet 2 Nourish
डाइटिशियन प्रियंका जायसवाल, डॉयरेक्टर ऑफ Diet 2 Nourish

प्रियंका का कहना है कि भूख बेसिकली दो तरह की होती है। एक भूख वह होती है जिसमें हमारा पेट भरा नहीं होता। हम सचमुच भूखे होते हैं। वहीं दूसरी भूख ऐसी होती है जिसमें अगर हमारे सामने पसंद की चीज रखी हो तो हम उसे खाने के लिए बैचेन हो उठते हैं। इन दोनों ही तरह की भूख के पीछे की मुख्य वजह इंपरफेक्ट लाइफ बैलेंस है। वे कहती हैं कि आज की इस दौड़ती-भागती जिंदगी में बहुत जरूरी है कि महिलाएं अपनी डाइट का पूरी तरह से ध्यान रखें।

परफेक्ट रुटीन के साथ बैलेंस करें डाइट

बनायें डाइट का परफेक्ट बैलेंस
बनायें डाइट का परफेक्ट बैलेंस

उनका कहना है कि हमारे शरीर की आधी हेल्थ इश्यू सिर्फ और सिर्फ कम पानी पीने की वजह से होती है, इसलिए हमें सही डाइट के साथ-साथ पर्याप्त पानी जरूर पीना चाहिए। आज के समय में ज्यादातर महिलाएं वर्क प्रेशर की वजह से सुबह का ब्रेकफास्ट स्किप कर देती हैं, जो कि पूरी तरह से गलत है। उन्हें प्रॉपर ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर निश्चित रूप से लेनी चाहिए। साथ ही बीच-बीच में जरूरी है कि वे मिड-मॉर्निंग और शाम का स्नैक भी अपनी डाइट में शामिल करें, जिससे काफी हद तक बार-बार लगने वाली बेतुकी भूख की क्रेविंग से बचा जा सकता है।

कई महिलाओं की यह शिकायत होती है कि मैं तो कुछ खाती भी नहीं, लेकिन पता नहीं मोटापा कैसे चढ़ जाता है। इस सवाल का जबाब देते हुए उन्होंने कहा कि यह जरूरी नहीं कि आप कितना खाते हैं, जरूरी यह है कि आप क्या और कैसे खाते हैं। अगर आप पूरे दिन का दो मील-टाइम स्किप कर देते हैं और सिर्फ डिनर करते हैं, तो निश्चित ही आप स्नैक की ओर भागेंगी। और इस तरीके की डाइटिंग शैली बढ़ाती है अनचाहा मोटापा। यह बहुत जरूरी है कि खाने की क्वांटिटी के साथ-साथ क्वालिटी और टाइमिंग का भी ध्यान रखा जाए। आज की टीनएजर लड़कियां कभी भी सोती हैं, कभी भी जागती हैं, इसका सबसे ज्यादा असर उनके खाने की टाइमिंग पर पड़ता है।

पहले के समय में घर के बच्चे-बूढ़े हों या महिलाएं सब दाल-रोटी खा परफेक्ट हेल्दी लाइफ जीते थे, पर आज इस दाल-रोटी की जगह जिस तरह से पिज्जा-बर्गर ने ले ली है, वह पूरी तरह से घातक है। पिज्जा-बर्गर खाना बुरा नहीं, पर बिना प्रॉपर डाइट लिए आज की लड़कियां सिर्फ और सिर्फ इन जंक फूड पर निर्भर हो गई हैं जो पूरी तरह से गलत है। वीकेंड में रेस्टोरेंट में खाने का जो ट्रेंड बदला है उसने बॉडी के पूरे डाइट सिस्टम को बदल कर रख दिया है। एक कंप्लीट मील बॉडी को तभी मिलता है, जब वह इन हल्के-फुल्के स्नैक्स आइटम्स के साथ-साथ प्रॉपर मील को अपनी डाइट में शामिल करें। हमारे फूड कल्चर में इतने बदलाव महिलाओं में बदले फूड चॉइस और वैराइटी ऑफ फूड की वजह से आए हैं। बदलती हुई फूड वैराइटी के साथ परफेक्ट डाइट बैंलेस हमें खुद ही करना होगा।

इन उपायों के जरिए बार-बार लगने वाली भूख को किया जा सकता है कंट्रोल

अखरोट
अखरोट

- नाश्ते में अखरोट के सेवन से आपको लंच में कम भूख लगती है। इसके अलावा आप दिनभर पेट भरा हुआ महसूस करती हैं। यह भूख पैदा करने वाले हार्मोन को दबाने का काम करता है। साथ ही इसमें चर्बी भी बहुत होती है जो पचने में काफी टाइम लेती है।

- कॉफी भी इस समस्या से निपटने का बेहतर उपाय है। कॉफी पीने से भूख कम लगती है। यह पेट भरे होने का संकेत देने वाले हार्मोन को बढ़ाने का काम करती है।

-सेब अच्छी सेहत के लिए वरदान माना जाता है। इसके छिलके में आर्सेनिक एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यही एसिड भूख न लगने में हमारी मदद करता है।

-पुदीना यानी मिंट बार-बार भूख लगने की समस्या का सर्वोत्तम उपाय है। पुदीने को चाय में इस्तेमाल किया जा सकता है।

खबरें और भी हैं...