पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57100.960.62 %
  • NIFTY16912.250 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476900.69 %
  • SILVER(MCX 1 KG)607550.12 %
  • Business News
  • Women
  • Why Did The Name Of Rakhi Sawant, Who Contested The Election On The Symbol Of Green Chilli, Resonate In Politics From Punjab To UP?

नेताओं का राखी ऑब्सेशन:हरी मिर्च के निशान पर चुनाव लड़ने वाली राखी सावंत का नाम पंजाब से UP तक की राजनीति में क्यों गूंजा?

नई दिल्ली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फिलहाल राखी रामदास आठवले की पार्टी (RPI) में हैं
  • 2014 में निर्दलीय लड़ चुकी हैं लोकसभा का चुनाव

बॉलीवुड एक्ट्रेस राखी सावंत इन दिनों राजनीतिक गलियारों में चर्चा में हैं। हालांकि, ऐसा उनकी किसी पॉलिटिकल एक्टिविटी की वजह से नहीं हुआ है। इसके बावजूद बीते हफ्ते में दो बार वह सुर्खियों में रही हैं। वजह है कि नेता उनका नाम राजनीति में घसीट रहे हैं।

राघव चड्ढा ने की सिद्धू से तुलना
पहला मौका था तीन दिन पहले। आम आदमी पार्टी के नेता राघव चड्ढा ने नवजोत सिंह सिद्धू की तुलना राखी सावंत से की। इस पर खूब हंगामा हुआ। राखी सावंत और उनके पति रितेश ने राघव चड्ढा से कहा कि बेवजह उनका नाम न घसीटा जाए। राखी ने ट्विटर पर आप मुखिया अरविंद केजरीवाल, पंजाब पुलिस, बीजेपी और आम आदमी पार्टी को टैग करके अपनी नाराजगी जाहिर की।

महात्मा गांधी की राखी से तुलना

दूसरी बार, रविवार को उत्तर प्रदेश के विधानसभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के बांगरमऊ में राखी सावंत का जिक्र किया। उन्होंने वहां महात्मा गांधी की तुलना राखी सावंत से कर दी। उन्होंने कहा कि अगर कोई कम कपड़े पहनकर महान बन सकता तो बॉलीवुड अभिनेत्री राखी सावंत भी महात्मा गांधी से बड़ी हो जातीं।

राखी सावंत और राजनीति का रिश्ता
राखी सावंत बॉलीवुड का चर्चित नाम हैं। हरदम अपनी बातों और हरकतों की वजह से सुर्खियों में रहती हैं। वह 2014 में लोकसभा चुनाव भी लड़ीं। हालांकि चुनाव जीतना तो दूर उनकी जमानत जब्त हो गई। लेकिन उन्होंने सुर्खियां खूब बटोरीं। राखी ने उस वक्त बीजेपी से टिकट की आस लगाई थी लेकिन जब बीजेपी ने उन्हें भाव नहीं दिया तो राखी ने खुद की पार्टी बना ली। नाम रखा राष्ट्रीय आम पार्टी। चुनाव चिन्ह मिला हरी मिर्च। जो कि राखी सावंत का कहना था कि उनके मिजाज के अनुसार ही है। मुंबई उत्तर-पश्चिम निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस के नेता गुरुदास कामत के खिलाफ चुनावी मैदान में उतारीं और लगभग दो हजार वोट लेकर छठे नंबर पर रहीं।

अब राजनीति में कहां हैं राखी?

हारने के बाद राखी ने कई बार बीजेपी में जाने की इच्छा जताई। आए दिन सोशल मीडिया पर वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में वीडियो भी बनाती हैं। हालांकि, उनको बीजेपी में जगह नहीं मिली। इसके बाद वह रामदास आठवले की पार्टी (RPI) में शामिल हुई। इस पार्टी में उनके पास महाराष्ट्र की उपाध्यक्ष के साथ रही इसकी महिला विंग की भी जिम्मेदारी है।

खबरें और भी हैं...