पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Women
  • Lenny Robredo Taking On Former Dictator's Son, Came Into The Limelight With 'Pink Revolution'

फिलिपींस के राष्ट्रपति की दौड़ में है ये महिला:लेनी रोब्रेडो पूर्व तानाशाह के बेटे से ले रहीं टक्कर, ‘पींक रिवोल्यूशन’ से चर्चा में आईं

मनीला3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फिलिपींस में राष्ट्रपति पद के लिए वोट डाला जा चुका है। यहां के 10 करोड़ लोगों ने अपने नए राष्ट्रपति की किस्मत का फैसला कर लिया है। मौजूदा राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते के 6 साल का कार्यकाल खत्म होने के बाद फिलिपींस अपना नया राष्ट्राध्यक्ष चुन रहा है। इस बार के चुनाव में एक महिला समेत कुल 10 उम्मीदवार मैदान में थे। लेकिन उनमें से 2 को ही सत्ता के मुकाबले में मजबूत माना जा रहा है।

अभी उप राष्ट्रपति हैं, अब बनना चाहती हैं राष्ट्रपति

57 साल की लेनी रोब्रेडो फिलहाल फिलिपींस की उप राष्ट्रपति हैं। वो यहां की लिबरल पार्टी की नेता हैं और उदारवादी मानी जाती हैं। लेनी के पति भी राजनीति में थे। 2012 में उनकी मौत के बाद लेनी अकेले ही राजनीतिक प्रतिद्वंदियों से लोहा ले रही हैं।

लेनी फिलिपींस के इतिहास में उप राष्ट्रपति बनने वाली दूसरी महिला हैं। अगर वे मौजूदा चुनाव जीत जाती हैं। तो वे फिलिपींस की तीसरी महिला राष्ट्रपति होंगी।

मौजूदा उप राष्ट्रपति लेनी रोब्रेडो फिलिपींस की नई राष्ट्रपति हो सकती हैं। उन्हें महिलाओं का काफी समर्थन मिल रहा है।
मौजूदा उप राष्ट्रपति लेनी रोब्रेडो फिलिपींस की नई राष्ट्रपति हो सकती हैं। उन्हें महिलाओं का काफी समर्थन मिल रहा है।

पूर्व तानाशाह के बेटे से है टक्कर, महिलाएं हैं समर्थन में

इस चुनाव में लेनी का मुख्य मुकाबला पूर्व तानाशाह फर्डिनेंड मार्कोस के बेटे फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर से है। लेनी इस चुनाव में मार्कोस को कड़ी टक्कर देती दिख रही हैं। उन्हें फिलिपींस के युवाओं और महिलाओं का समर्थन मिल रहा है। लेनी मार्कोस परिवार और उसकी तानाशाही नीतियों की मुखर विरोधी रही हैं। दूसरी ओर जूनियर मार्कोस अपने पूर्व तानाशाह पिता को ‘पॉलिटिकल जीनियस’ बताते हैं।

महिला अधिकारों की मुखर हिमायती, थाईलैंड में हुआ सम्मान

लेनी रोब्रेडो फिलिपींस में महिला अधिकारों की सबसे मुखर हिमायती नेताओं में शामिल हैं। उप राष्ट्रपति रहते हुए भी उन्होंने महिलाओं, बच्चों और मानवाधिकार के लिए कई महत्वपूर्ण काम किए। जिसके लिए उन्हें कई अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। उन्हें थाईलैंड की सरकार ने भी सम्मानित किया था।

तीन बेटियों की मां हैं लेनी, ‘पिंक’ को बनाया तानाशाह विरोध का प्रतीक

तीन बेटियों की मां लेनी ने इस चुनाव में तानाशाही के विरोध को अपना मुख्य एजेंडा बनाया है। इसके लिए उन्होंने देश भर की महिलाओं से समर्थन मांगा है। उनके रैलियों में पिंक रंग के झंडे लगाए जाते हैं। लेनी भी ज्यादातर पिंक कपड़ों में ही नजर आती हैं। इसे वहां महिलाओं का ‘पिंक रिवोल्यूशन’ कहा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...