पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Women
  • Happy Girls Are More Beautiful And Successful, Happy Hormones Keep The Skin Young

खुश हैं तो खूबसूरत हैं:खुशमिजाज युवतियां होती हैं ज्यादा खूबसूरत और कामयाब, हैप्पी हॉर्मोन्स स्किन को बनाए रखते हैं यंग

2 महीने पहलेलेखक: राधा तिवारी
  • कॉपी लिंक
  • वायरस की तरह फैलते हैं इमोशन भी
  • खुश रहने वाले होते हैं कम बीमार
  • खुशमिजाज लोग होते हैं सक्सेसफुल

पॉजिटिव अप्रोच न केवल आपके दिमाग को हेल्दी बनाता है, बल्कि यह आपको शारीरिक तौर पर भी फिट रखता है। ये बात हम नहीं कह रहे, बल्कि साइंस ने प्रूव किया है। अपनी लाइफ को लेकर पॉजिटिव अप्रोच रखने वाली युवतियां दिल और दिमाग से हेल्दी, ज्यादा खूबसूरत और सक्सेसफुल होती हैं।

दिमाग को हेल्दी बनाता है पॉजिटिव अप्रोच
दिमाग को हेल्दी बनाता है पॉजिटिव अप्रोच

क्या कहती है रिसर्च?

हावर्ड यूनिवर्सिटी के पब्लिक हेल्थ विभाग के प्रोफेसर टी एच चान की एक रिसर्च में यह बात सामने आई। अमेरिकन जर्नल ऑफ एपिडेमियोलॉजी में प्रकाशित इस शोध के मुताबिक, जिंदगी में पॉजिटिव अप्रोच रखने वाली महिलाओं में गंभीर बीमारियों का जोखिम बेहद कम होता है। उनमें हार्ट अटैक, ब्रेन हेमरेज जैसी बीमारियों की आशंका भी न के बराबर होती है। बीमारियों के अलावा एक नई बात ये निकलकर आई है कि खुशमिजाज लोगों के संपर्क में रहने वाले लोग भी पॉजिटिव महसूस करते हैं।

खुशमिजाज लोग होते हैं सक्सेसफुल
खुशमिजाज लोग होते हैं सक्सेसफुल

वायरस की तरह फैलते हैं इमोशन भी

अमेरिकी सोशल साइंटिस्ट जेम्स एच फॉलर की स्टडी में बताया गया कि अगर आप किसी वजह से उदास हों, लेकिन आपका कोई साथी खुश हो तो इससे आपकी उदासी भी लगभग 25% घट जाती है। शोधकर्ताओं ने साल 2004 से 2012 के बीच 70 हजार महिलाओं के मेडिकल डेटा का विश्लेषण किया। इस दौरान उन्होंने प्रतिभागियों की पॉजिटिव अप्रोच के लेवल को भी जांच। इसे साइंस की भाषा में इमोशल कॉन्टेजियन (EC) कहते हैं यानी भावनाओं का एक से दूसरे में फैलना। ये बात उदासी और गुस्से जैसी भावनाओं पर भी लागू होती है। लेकिन देखा गया कि खुशी ज्यादा तेजी से फैलती है।

खुश रहना है जरूरी
खुश रहना है जरूरी

क्या है इमोशल कॉन्टेजियन

जो लोग दूसरों की सफलता में खुश होते हैं, उनके सफल होने की संभावना भी ज्यादा होती है, क्योंकि इस तरह वे दूसरों की सफलता को देखकर उससे सीख लेते हैं और उसे अपने जीवन में लागू करते हैं। सफलता सिर्फ उन्हीं लोगों की तरफ खिंची चली जाती है, जिनका नजरिया सकारात्मक होता है।

खुश रहने वाले लोगों को मिलती है सक्सेस
खुश रहने वाले लोगों को मिलती है सक्सेस

खुश रहना क्यों जरूरी ?

खुश रहकर आप अपने आसपास पॉजिटिव माहौल बनाते हैं। अगर आप उदास रहते हैं तो लोग आपके पास नहीं आयेंगे। खुश रहना इसलिए जरूरी है क्योंकि उदासी की वजह से आसपास निगेटिव माहौल बनता है। अगर आप किसी से मुलाकात के वक्त खुश रहते हैं तो यह आपके व्यक्तित्व को और मजबूत बनाता है। आपका दायरा भी बढ़ेगा। उसमें ज्यादा से ज्यादा लोग शामिल होंगे, जो प्रोफेशनली भी आपकी मदद करेगा।

सक्सेस का फंडा है हैप्पीनेस
सक्सेस का फंडा है हैप्पीनेस

क्या कहते हैं साइकोलॉजिस्ट ?

क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट बिंदा सिंह का कहना है कि उतार-चढ़ाव जिंदगी का हिस्सा है। कोई भी इंसान जिंदगी में हमेशा पॉजिटिव नहीं रह सकता। लेकिन हमें अपनी सोच को बदलना होगा। हम जैसा सोचते हैं। हमारे साथ वैसा ही होता ही होता है। हमें सुख और दुख की महत्व को समझना होगा। यदि जीवन में हमेशा सुख बना रहे तो इसकी वैल्यू कम हो जाती है।जब तक कठिनाइयों और परेशानियां जीवन में नहीं आती हम परफेक्ट नहीं होते और ना ही खुशी की वैल्यू समझ पाते। यदि आप हमेशा सिर्फ एक ही इमोशन में रहेंगे तो आपका जीवन उबाऊ ( बोरिंग ) सा हो जाएगा। यदि आप हमेशा खुश रहेंगे तो जीवन के कई अनुभवों से दूर हो सकते हैं यानी अगर आप सिर्फ एक ही रंग के कपड़े पहनेंगे तो बाकी रंगों के बारे में कैसे जान पाएंगे।

खुश रहने वाले होते हैं कम बीमार

हार्वर्ड में युवतियों पर हुई स्टडी में ये भी दिखा कि पॉजिटिव सोच रखने वालों में हार्ट अटैक से 38% और कैंसर से 16% तक मृत्यु का जोखिम कम हो जाता है। इसके अलावा खुश रहने वाली युवतियों की स्किन ज्यादा तरोताजा दिखती है। इसके पीछे साइंस ये है कि खुशी सेरोटोनिन और एंडॉर्फिन जैसे फील गुड हार्मोन निकलते हैं , जो त्वचा-संबंधी बीमारियों के खतरे को भी कम करते हैं।

पॉजिटिव सोच वाले होते हैं कम बिमार
पॉजिटिव सोच वाले होते हैं कम बिमार

क्या है हैप्पीनेस का फंडा?

जब आप किसी को खांसते और छींकते देखते हैं, तो आप दूरी बनाए रखना चाहते हैं। क्या होगा जब आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखें जो उदास या चिड़चिड़ा हो? हर तरफ निगेटिविटी दिखेगी और आप उससे दूर रहना चाहेंगे। यह सच है, इमोशन्स फैलते हैं। स्टडी से पता चला है आप किसी के सुख-दुःख से संक्रमित हो सकते हैं। मतलब जो लोग खुश हैं उनके साथ में रहने पर आप खुश रहेंगे और दुखी लोगों के पास जाकर हम दुखी हो जाते हैं।

खुश रहने के क्या है फायदे

बेहतर सपोर्ट सिस्टम

हैप्पी रहने वाले लोगों को जीवन में सपोर्ट सिस्टम भी बेहतर मिलता है. दोस्ती हो या अन्य कोई रिश्ता हो, खुश रहने वाले लोगों के लिए हर फील्ड में सपोर्ट ज्यादा होता है। दुखी रहने वाले लोगों का सपोर्ट सिस्टम इतना मजबूत नहीं होता। जीवन के हर पड़ाव में आपको सपोर्ट सिस्टम की आवश्यकता होती है।

क्रिएटिविटी के लिए जरूरी

खुश रहने वाले लोग ज्यादा प्रोडक्टिव और क्रिएटिव होते हैं. इसका सीधा फायदा काम में मिलता है. ये आपको ज्यादा रचनात्मक बनाता है, आप नई-नई चीजें सोचते और कर पाते हैं।

खुश रहने वालों में कॉमन हैं ये 5 आदतें

1. खुशमिजाज लोग अच्छाई खोजते हैं बुराई नहीं। खुश रहने वाले लोग दूसरे लोगों और हर परिस्थिति में अच्छाई ही तलाशते हैं जो उन्हें हमेशा सकारात्मक बनाता है।

2. खुशमिजाज लोग दूसरों को माफ करना जानते हैं। जो लोग दूसरों की छोटी छोटी बातों को दिल पर नहीं लेते और माफ करना जानते हैं, उनके जीवन में हमेशा खुशहाली रहती है।

3. खुश रहने वाले लोग सोशल होते हैं। आपके कितने ऐसे दोस्त हैं जो आपकी मदद करने को किसी भी वक्त तैयार रहते हैं। अगर आप खुश रहना चाहते हैं तो अपने परिवार और दोस्तों को महत्त्व दें और उनसे छोटी छोटी खुशियां भी शेयर करें।

4. खुश रहने वाले अपने काम को पूरी लगन से करते हैं. खुश रहने वाले लोगों में ये बात कॉमन होती है।

5. खुश रहने वाले लोग कभी भी अपने काम में रूकावट आने या असफलता मिलने पर दूसरों को नहीं कोसते बल्कि उसकी जिम्मेदारी खुद लेते हैं।

खबरें और भी हैं...