पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %
  • Business News
  • Women
  • Be Careful While Keeping A Servant Or Maid: Is Your House, Shop And Garage In Safe Hands? Your One Carelessness Can Put The Whole Family In Trouble

नौकर या नौकरानी रखते वक्त बरतें सावधानी:क्या सुरक्षित हाथों में है आपका घर, दुकान और गैराज? पूरे परिवार को मुश्किल में डाल सकती है आपकी एक लापरवाही

नई दिल्लीएक महीने पहलेलेखक: दीप्ति मिश्रा
  • कॉपी लिंक

राजस्थान की राजधानी जयपुर के सांगानेर इलाके से उन लोगों को आगाह करने वाली घटना सामने आई है, जो घरेलू कामकाज या फिर दुकान और वर्कशॉप के लिए नौकर रखते हैं। एक घर में कई सालों से काम कर रही महिला, गहने-पैसे लेकर गायब हो गई। पता लगाने की कोशिश की गई, लेकिन भरोसेमंद मानी जाती उस महिला का असल नाम-पता तक किसी को पता नहीं था।

नकदी-गहने चोरी के अलावा अचानक घर के सदस्यों को नुकसान पहुंचाने की घटनाएं भी बढ़ गईं है। अगर आप भी अपने घर में नौकर/नौकरानी रखते हैं, तो सतर्क हो जाएं। वेरिफिकेशन किए बगैर किसी को घर में एंट्री देना भारी पड़ सकता है।

नौकरानियों ने किया हाथ साफ

1. गुरुग्राम: 13 महीने की बच्ची के रोने पर नैनी ने की पिटाई

हरियाणा के गुरुग्राम से एक दिल दहलाने वाली घटना में एक छोटी बच्ची गंभीर हालत में अस्पताल लाई गई। तहकीकात में पता चला कि बच्ची लगातार रोए जा रही थी और इसपर गुस्साई दाई ने उसकी पिटाई कर ली। पिटाई इतनी जबर्दस्त थी कि बच्ची की पसलियां तक टूट गईं।

2. मंडी: ऑनलाइन बुलाई नौकरानी, 3.81 लाख की चोरी कर फरार

हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के सुंदरनगर के व्यापारी को ऑनलाइन नौकरानी बुलाना काफी मंहगा पड़ गया। पुलिस के मुताबिक, सुंदरनगर के भोजपुर निवासी व्यापारी चूड़ामणि के घर काम पर आने के एक दिन बाद ही 14 सितंबर को नौकरानी 3.81 लाख रुपये की चोरी कर फरार हो गई। चूड़ामणि ने नौकरानी को एक निजी कंपनी से ऑनलाइन बुलाकर उसे आठ महीने का वेतन भी एडवांस में दे दिया था।

बरतें ये सावधानियां
छत्तीसगढ़ के कबीरधाम जिले में तैनात एडिशनल एसपी मनीषा ठाकुर रावते कहती हैं कि छोटी-छोटी सावधानियां बरतकर इस तरह की अनहोनी को टाला जा सकता है। इस बात पर ध्यान दें कि अपने घर में कामकाज के लिए नौकर/नौकरानी, कुक और ड्राइवर कहां से हायर कर रहे हैं। एजेंसी या फिर आसपास एरिया से। एजेंसी ने वेरिफिकेशन किया है या नहीं? अगर किया है तो क्या-क्या डॉक्यूमेंट हैं? इससे पहले उसने कहां काम किया है और वहां से नौकरी क्यों छोड़ी? अगर संभव हो, तो जहां पहले काम किया है, वहां जाकर पता कर लें।

मनीषा बताती हैं कि नौकर/नौकरानी, कुक और ड्राइवर का पुलिस वेरिफिकेशन जरूर कराएं। इसके अलावा उनका फोटो, आधार कार्ड, फैमिली डिटेल और मूल निवास प्रमाण पत्र जैसे डॉक्यूमेंट लें, जिससे उन पर साइकोलॉजिकल दबाव रहे कि अगर उन्होंने कोई गड़बड़ी की, तो उन पर कानूनी कार्रवाई हो सकती है। साथ ही उन पर निगरानी बनाए रखें ताकि कुछ भी संदिग्ध लगे तो तुरंत एक्शन लिया जा सके।

क्या है वेरिफिकेशन प्रोसेस
नौकर/नौकरानी, कुक और ड्राइवर का पुलिस वेरिफिकेशन ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से करवा सकते हैं।

  • ऑफलाइन के लिए सबसे पहले आपको स्थानीय पुलिस स्टेशन से पुलिस सत्यापन फॉर्म लेना होगा। कई बार यह आपकी सोसायटी के अध्यक्ष के पास भी मिल जाता है। नौकर/नौकरानी, कुक और ड्राइवर जो भी आप रख रहे हैं, उसकी पूरी जानकारी फॉर्म में भरें। जरूरी दस्तावेज की कॉपी लगाकर निकटतम पुलिस स्टेशन में जमा कर दें।पुलिस सत्यापन के कुछ दिन बाद सत्यापित कॉपी आपको दे देती है।
  • ऑनलाइन बैकग्राउंड वेरिफिकेशन पेज पर जाकर फॉर्म भरें। साथ ही जरूरी दस्तावेज अपलोड कर दें। 7 से 10 दिन के भीतर आपको वेरिफिकेशन की कॉपी मिल जाएगी।