पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Women
  • 99.9% Children Below The Age Of One And A Half Years Are Spending 2 Hours A Day On Mobile, Many Countries Are Strict On Online Games, Know What Are The Rules Here

बच्चों में ऑनलाइन गेमिंग का क्रेज:डेढ़ साल से कम उम्र के 99.9 % बच्चे मोबाइल पर रोज बिता रहे 2 घंटे, ऑनलाइन गेम पर कई देश सख्त, जानिए हमारे यहां क्या है नियम

2 महीने पहलेलेखक: राधा तिवारी
  • कॉपी लिंक
  • ऑनलाइन गेम बन रहा बच्चों के लिए काल
  • बच्चों के ऑनलाइन गेम पर पाबंदी
  • बच्चे की दिनचर्या का रखें ख्याल

बच्चों के अधिकारों पर काम करने वाली संस्था नेशनल कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स ने एक स्टडी में चौंकाने वाला खुलासा किया है, जिसके मुताबिक देश भर में दो साल से कम उम्र के 99.9 % बच्चे हर दिन मोबाइल पर दो घंटे से ज्यादा वक्त गुजारते हैं।

बच्चों को ऑनलाइन गेम की लत
बच्चों को ऑनलाइन गेम की लत

ऑनलाइन गेमिंग का क्रेज बच्चों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है। यहां तक कि ऑनलाइन गेम की वजह से कई बच्चों ने अपनी जान तक गंवा दी। अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक की हालिया गाइडलाइन के अनुसार दो साल से कम उम्र के बच्चों के लिए टीवी या मोबाइल पर बिताया गया 5 मिनट भी खतरनाक है। कई देशों ने इसको लेकर पॉलिसी जारी की है और न मानने वालों पर तगड़ा जुर्माना लगाया जा रहा है।

कई देशों ने लाई नई पॉलिसी

ब्रिटेन ने 2 सितंबर से डिजिटल साइट्स के लिए बच्चों के डेटा प्रोटेक्शन और सेफ डिजिटल स्पेस क्रिएट करने के उद्देश्य से नया कानून लागू किया है। ब्रिटेन में काम कर रहीं सभी वेबसाइट्स पर यह कानून लागू होगा। चीन ने भी ऑनलाइन गेमिंग से बच्चों को दूर रखने के लिए नियम कड़े कर दिए हैं। 1 सितंबर से लागू नियमों के तहत अब 18 साल से कम उम्र के बच्चे हफ्ते में सिर्फ तीन घंटे ही ऑनलाइन गेम खेल सकेंगे। यानी शुक्रवार, शनिवार और रविवार को रोज सिर्फ एक घंटा। चीन में ऑनलाइन गेम का क्रेज वहां की युवा पीढ़ी के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है।

बच्चों के ऑनलाइन गेम पर पाबंदी
बच्चों के ऑनलाइन गेम पर पाबंदी

क्या भारत में भी है कोई पॉलिसी

दिल्ली हाईकोर्ट ने 28 जुलाई को ऑनलाइन गेम से जुड़ी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को निर्देश जारी किया था। कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि केंद्र सरकार ऑनलाइन गेमिंग की लत से बच्चों को बचाने के लिए विचार करें। याचिका डिस्ट्रेस मैनेजमेंट कलेक्टिव नाम के एक NGO ने दायर की थी। NGO की तरफ से कोर्ट में कहा गया कि ऑनलाइन गेम से बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। ये गेम इतने खतरनाक हैं कि बच्चे खुदकुशी कर रहे हैं। इसे काफी गंभीरता से लेने की जरूरत है। इसे रोकने के लिए सरकार के पास कोई नीति नहीं है। उन्होंने कोर्ट से ऑनलाइन गेमिंग को रेगुलेट करने के लिए एक बॉडी बनाने की मांग की। कई गेम के कंटेंट काफी हिंसक होते हैं जो बच्चों के दिमाग पर बुरा असर डालते हैं। बच्चों के माता-पिता का भी उन पर नियंत्रण नहीं रह जाता है।

ऑनलाइन गेम बन रहा बच्चों के लिए काल
ऑनलाइन गेम बन रहा बच्चों के लिए काल

क्या कहती हैं साइकोलोजिस्ट

क्लिनिकल साइकोलोजिस्ट बिंदा सिंह कहती हैं कि मोबाइल, टीवी पर ज्यादा समय बिताने वाले बच्चों की आंखों के साथ ही दिमाग पर भी दुष्प्रभाव पड़ रहा है। बच्चे अकेलापन पसंद कर रहे हैं. बच्चे को ऑनलाइन गेम खेलने से नहीं रोका जा सकता लेकिन वह क्या खेल रहे हैं, कितनी देर खेल रहे हैं, उसे कंट्रोल जरूर किया जा सकता है। हम बच्चों का ध्यान बांटने के लिए इनडोर गेम खेल सकते हैं।

ऐसे पहचानें बच्चों की लत

बच्चे की दिनचर्या का रखें ख्याल
बच्चे की दिनचर्या का रखें ख्याल
  • यदि बच्चे की दिनचर्या में बदलाव नजर आए। उसका पूरा समय, फ्री फायर के आस-पास ही दिखाई देने लगे तो समझिए वह इस खेल की गिरफ्त में जा रहा है।
  • उसका स्वभाव आक्रामक और गुस्सैल हो सकता है। गेम खेलने से रोकने पर वह हिंसक हो उठता है या गाली-गलौज भी कर सकता है।
  • इस खेल की लत में आया बच्चा आमतौर पर गुमसुम दिखाई देता है। उसकी याददाश्त में कमी आना, बात बिगड़ने के संकेत हैं।

'आज के बदलते दौर में ये सब थोड़ा मुश्किल है लेकिन समझदारी से ऑनलाइन गेम खेलने से बच्चों को रोकती हूं. उनके साथ बैठ कर इनडोर गेम्स खेलती हूं। ​​​​​ बच्चों के साथ पेंटिंग और डांस भी करती हू. बच्चों को छोटे-मोटे काम करने को कहती हूं'.- प्रनवी पांडे, अभिभावक

बच्चों को मोबाइल से रखें दूर रखने के टिप्स

  • मोबाइल और टीवी की लत छुड़ाने के लिए खुद बच्चे के साथ वक्त बिताएं। बच्चे को अच्छी सीख देने वाली फिल्में, कहानियां, धार्मिक चीजें दिखाएं.
बच्चों के साथ बिताएं वक्त
बच्चों के साथ बिताएं वक्त
  • बच्चे को मोबाइल से दूर रखने के लिए उनके साथ आउटडोर गेम्स खेलें.
बच्चे में आउटडोर गेम्स की आदत डालें
बच्चे में आउटडोर गेम्स की आदत डालें
  • बच्चे को उसकी पसंद के हिसाब से पेंटिंग, डांसिंग, म्यूजिक क्लास भेजें.
बच्चे को पेंटिंग करने को कहें
बच्चे को पेंटिंग करने को कहें
  • अगर आपका बच्चा फ्री है तो उसे पौधों की देखभाल करने के लिए कहें.
पौधों के साथ बेहतर बचपन
पौधों के साथ बेहतर बचपन
  • बच्चे को कोई पेट एनिमल लाकर दे दें, जिससे वह पूरा दिन उसी में बिजी रहे.
पालतू जानवर होते हैं बच्चों के सच्चे दोस्त
पालतू जानवर होते हैं बच्चों के सच्चे दोस्त
  • इसमें सबसे खास ये भी है कि आप भी खुद जब जरूरत हो तब ही मोबाइल का इस्तेमाल करें.
बच्चों के साथ बिताएं उनका बचपन
बच्चों के साथ बिताएं उनका बचपन
खबरें और भी हैं...