पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61305.950.94 %
  • NIFTY18338.550.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)478990 %
  • SILVER(MCX 1 KG)629570 %

वजाइनल हेल्थ:जी हां, आपके अंडरगारमेंट से भी पड़ता है वजाइनल हेल्थ पर असर, जानिये क्या है इसके पांच कारण

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अगर आप भी अंडरगारमेंट को इसी तरह करती हैं इस्तेमाल तो हो जाइए सावधान

अगर आपको अक्सर वजाइना से संबंधित परेशानी रहती है तो आपको ये जरूर चेक करना चाहिए कि कहीं इसका कारण आपके अंडरगारमेंट्स तो नहीं है। महिलाओं के लिए वजाइनल हेल्थ पर ध्यान देना बहुत जरूरी है क्योंकि उनके शरीर से जुड़ी कई बीमारियां और परेशानी सीधे तौर पर इसी से जुड़ी होती है और अंडरगारमेंट (पैंटी) सबसे ज्यादा देर तक वजाइना के संपर्क में रहता है, इसलिए महिलाओं को यह समझना सबसे ज्यादा जरूरी है कि वे अपने अंडरगारमेंट को किस तरह पहनें और सेफ रखें ताकि वे इंफेक्शन से दूर रह सकें।

वजाइना की सेफ्टी के लिए अपनाएं ये पांच अंडरगारमेंट टिप्स
1 - हर साल अपने अंडरगारमेंट्स बदलें

आप भले ही घर में पुरानी अंडरवियर को कई बार साफ करें लेकिन एक वक्त के बाद साफ अंडरवियर में भी बैक्टीरिया पनपने का खतरा रहता है, इसलिए महिलाओं को समय-समय पर पैंटी बदलती रहनी चाहिए वरना वे बार-बार इंफेक्शन का शिकार हो सकती हैं।

2 - इंफेक्शन होने पर सोते समय अंडरवियर न पहनें
अगर आप पहले से ही वजाइनल इंफेक्शन से परेशान हैं, तो अंडरवियर के बिना ही सोएं। ऐसा करने से नमी दूर रहती है और इससे बैक्टीरिया को पनपने में मुश्किल होती है।

3 - रोजाना अंडरवियर जरूर बदलें
अगर आप एक भी दिन अपनी अंडरवियर बदलने से चूक जाती हैं तो ये आपके वजाइनल हेल्थ के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। खासकर उन महिलाओं के लिए जिन्हें वाइट डिस्चार्ज ज्यादा होता है और पसीना बहुत आता है, इसलिए हाइजीन का ख्याल रखते हुए रोजाना अंडरवियर जरूर बदलें।

4 - अपने लिए कॉटन के अंडरवियर खरीदें
कॉटन के कपड़े से आसानी से हवा पास हो जाती है, इसलिए अंडरवियर में जल्दी नमी पैदा नहीं होती और महिलाएं बैक्टीरियल इंफेक्शन से खुद को बचा सकती हैं।

5 - एंटी-एलर्जिक डिटर्जेंट का इस्तेमाल करें
वजाइना और उसके पास की स्किन बहुत ही सेंसिटिव होती है, इसलिए जब आप अपने अंडरगारमेंट धोती हैं तो इस बात का खास ख्याल रखें कि आप किस तरह के डिटर्जेंट का इस्तेमाल कर रही हैं। शरीर के बाकी कपड़ों के बजाए अंडरगारमेंट्स को हमेशा एंटी-एलर्जिक डिटर्जेंट से ही धोएं। अंडरगारमेंट को बाकी कपड़ों के साथ न धोएं बल्कि इसके लिए अलग से सॉफ्ट डिटरजेंट का इस्तेमाल करें।

गायनाकोलॉजिस्ट डॉ चित्रा राजू
गायनाकोलॉजिस्ट डॉ चित्रा राजू

वजाइना को हेल्दी रखने के लिए अपनाएं डॉक्टर की सलाह
वजाइना को किस तरह हेल्दी और हाइजीनिक रखें जानिए गायनाकोलॉजिस्ट डॉ चित्रा राजू से :

  • वजाइना को हमेशा क्लीन और ड्राइ रखें, ड्राइनेस के लिए महिलाएं वजाइना के बाहरी पार्ट पर वर्जिन कोकोनट ऑइल का इस्तेमाल कर सकती हैं।
  • मॉर्निंग वॉक, रनिंग और नॉर्मल एक्सरसाइज करने से वजाइनल फंक्शन अच्छा रहता है और इससे पेल्विक फ्लोर को टोन-अप करने में मदद मिलती है।
  • वजाइना का पीएच वैल्यू सही रखना बहुत जरूरी है, क्योंकि वजाइना में बहुत से फायदेमंद बैक्टेरिया भी होते हैं जिन्हें सुरक्षित रखना जरूरी है। इसलिए महिलाएं पीएच (pH value) का खास ख्याल रखें। तरह-तरह की क्रीम और जैल इस्तेमाल करने से बैक्टेरिया और पीएच वैल्यू पर असर पड़ सकता है, साथ ही आगे चलकर वजाइनल इंफेक्शन की परेशानी हो सकती है।
  • वजाइनल पार्ट को पूरी तरह से शेव करने से बचें, क्योंकि वजाइना के पास के बाल उसे बाहर के कई बैक्टेरिया को रोकने में मदद करते हैं। साथ ही खुजली और पैरों के रगढ़ से होने वाली जलन से भी बचाते हैं। अगर जरूरत पड़े तो सिर्फ शेविंग जैल या क्रीम का इस्तेमाल करें या फिर बालों को ट्रिम करें।
  • वजाइनल पार्ट को आगे और पीछे दोनों तरफ से बराबर साफ करने की आदत डालें, ऐसा न करने से ऐनल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।
खबरें और भी हैं...