पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57684.791.09 %
  • NIFTY17166.91.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47590-0.92 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61821-0.24 %

Vitamins for Women health:वो विटामिन्स जो फीमेल बॉडी के लिए हैं बेहद जरूरी, विशेषज्ञ से जानें कैसे करें इनकी कमी पूरी

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

महिलाओं को स्वस्थ रहने के लिए अपनी फिटनेस का ज्यादा ख्याल रखने की जरूरत होती है। घर-ऑफिस की दोहरी जिम्मेदारी, पीरियड, हार्मोंस में बदलाव, प्रेग्नेंसी और मोनोपॉज के चलते महिलाओं के शरीर में विटामिन, मिनरल और दूसरे जरूरी पोषक तत्वों की कमी पुरुषों के मुकाबले ज्यादा होती है। पोषक तत्वों की कमी की वजह से महिलाएं समय से पहले उम्रदराज दिखने लगती हैं। त्वचा, बालों और हड्डियों से जुड़ी समस्याएं हो जाती हैं। महिलाएं कमर दर्द और पैरों के दर्द की समस्याओं से जूझने लगती हैं। आइए डायटीशियन व नूट्रिशनिस्ट डॉ. रीमा से जानते हैं कि महिलाओं को स्वस्थ रखने के लिए कौन से विटामिन्स और मिनरल्स की जरूरत होती है...

कैल्शियम और विटामिन-डी
महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ ही हड्डियों से जुड़ी समस्या शुरू हो जाती है। कमर दर्द, घुटनों और एड़ियों में दर्द की समस्या पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा होती है। हड्डियों की मजबूती के लिए शरीर में कैल्शियम और विटामिन डी भरपूर मात्रा में होना जरूरी है। डॉ. रीमा कहती हैं कि महिलाएं अपनी डाइट में कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर आहार को शामिल करें।
कहां से मिलेगा: कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर पदार्थों के लिए आप दूध, पनीर, मशरूम, मक्खन, सोया उत्पाद, अंडे और रागी, बाजरा, ज्वार, दलिया आदि ग्रेन्स को खाएं। विटामिन-डी के लिए थोड़ी देर सुबह की धूप में जरूर बैठें।

विटामिन-बी12
भागदौड़ भरी जीवन शैली के चलते ज्यादातर महिलाओं में विटामिन-बी12 की कमी पाई जाती है। विटामिन-बी12 दिल को दुरुस्त रखता है। यह शरीर में खून की कमी दूर करने, हेयर फॉल रोकने, इम्यूनिटी बूस्ट करने और मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए जरूरी होता है। विटामिन-बी12 से त्वचा सुंदर और कोमल दिखती है। यह महिलाओं को ब्रेस्ट, कोलोन, लंग और प्रोस्टेस कैंसर से बचाता है।
कहां से मिलेगा: डाइट में अंडा, चिकन और मछली को शामिल करें। वहीं वेजिटेरियन अपनी डाइट में सोया मिल्क, मूसली और मिल्क प्रोडक्ट शामिल कर विटामिन-बी12 की कमी को पूरा सकते हैं।

विटामिन-ए
डायटीशियन का कहना है कि यूं तो मेल और फीमेल दोनों की बॉडी में विटामिन 'ए' की कमी हो जाए तो स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं शुरू हो जाती हैं, लेकिन महिलाओं को इसका गंभीर खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। विटामिन-ए शरीर में एंटी-ऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। यह बॉडी सेल्स को डैमेज होने से बचाता है। विटामिन-ए त्वचा को ग्लोइंग रखने, झुर्रियों को कम करने, आंखों को ड्राइनेस से बचाने और बॉडी में किसी तरह के इंफेक्शन या फ्री रैडिकल डैमेज से बचाव करने आदि के लिए जरूरी है। खासकर ब्रेस्ट फीडिंग कराने और मोनोपॉज से गुजरने वाली महिलाओं के लिए यह बेहद जरूरी है।
कहां से मिलेगा: विटामिन 'ए' की कमी को दूर करने के लिए हरे पत्ते वाली सब्जियां, चुकंदर, गाजार, शकरकंद, खुबानी, शिमला मिर्च, ब्रोकली, अंडा का येलो पार्ट, कलेजी और मछली आदि खाएं।

विटामिन सी और आयरन
डॉ. रीमा कहती हैं कि 18 से लेकर 45 साल तक की ज्यादातर महिलाओं में पीरियड के चलते आयरन की कमी बनी रहती है। आयरन की कमी के चलते एनीमिया, दिल और फेफड़े संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। साथ ही रेड ब्लड सेल्स कम बनने, थकान, सिरदर्द, चक्कर आना, चिड़चिड़ापन और स्किन कलर डल होने जैसी समस्याएं हो जाती हैं। प्रेग्नेंसी में आयरन की कमी से शिशु का वजन कम, आयरन की कमी और मानसिक रूप से कमजोर होने जैसी समस्याएं हो सकती हैं। आयरन की कमी को दूर करने के लिए आयरन युक्त खाद्य पदार्थों के साथ ही विटामिन सी युक्त चीजें भी खाएं क्योंकि कई बार आयरन की कमी विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थों के बिना पूरी नहीं होती है।
कहां से मिलेगा: आयरन की कमी दूर करने के लिए अपनी डाइट में चुकंदर, लौकी, कद्दू के बीच, हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे- पालक, बथुआ खाएं। इसके अलावा किशमिश और दूसरे सूखे मेवा भी डाइट में शामिल करें। ​वहीं विटामिन सी के लिए आंवाला, मौसमी, नीबू और अमरूद को डाइट में लें।