पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रात में सोते समय क्यों सूखता है मुंह:लार की कमी, मुंह में छाले, स्वाद बदलना है इसकी वजह, लापरवाही पड़ सकती है महंगी

2 महीने पहलेलेखक: मरजिया जाफर
  • कॉपी लिंक

कई लोगों को रात में मुंह सूखने की प्रॉब्लम होती है। अगर लंबे समय तक मुंह सूखा रहेगा, तो बेचैनी होगी। मुंह सूखना कोई बीमारी नहीं है, लेकिन इसकी वजह से ओरल हेल्थ प्रॉब्लम्स होने की आशंका बढ़ जाती है। इसके बारे में जानते हैं यूनानी डॉ. सुबास राय से ।

रात में क्यों सूखता है मुंह

डॉ. सुबास राय कहते हैं कि मुंह में सूखेपन की समस्या अक्सर बढ़ती उम्र में सामने आती है। ज्यादा उम्र हो जाने पर मुंह में लार या सलाइवा का बनना कम हो जाता है। इसके अलावा दवाइयों के साइड-इफेक्ट्स या मुंह से सांस लेने से भी सोते समय मुंह में सूखापन हो सकता है। पानी की कमी से भी मुंह सूखने लगता है। इस समस्या के कई और कारण भी हो सकते हैं।

नाक से सांस लें
अक्सर सांस लेने में दिक्कत होने के चलते सोते समय कुछ लोगों का मुंह खुल जाता है। तब वे नाक की बजाय मुंह से सांस लेने लगते हैं। इससे भी मुंह सूख जाता है। कोशिश करें कि नाक से ही सांस लें, मुंह से नहीं। सर्दी-जुकाम की परेशानी है तो इसका खास ख्याल रखें। सोते समय किसी भी वजह से नाक बंद हो जाए तो मुंह से सांस लेने के बजाय उठकर बैठ जाएं।

कैफीन और निकोटीन वाली चीजों से दूरी बनाएं
चाय-कॉफ़ी का सेवन कम करें। सिगरेट तथा निकोटीन वाली चीजों से भी बचें। ऐसा न करने पर मुंह में सूखेपन की समस्या से छुटकारा पाना मुश्किल है। ज्यादा दवाइयां खाने से भी मुंह सूखता है।

सर्दी-जुकाम से नाक बंद होने पर कई लोग नाक की बजाय मुंह से सांस लेने लगते हैं।
सर्दी-जुकाम से नाक बंद होने पर कई लोग नाक की बजाय मुंह से सांस लेने लगते हैं।

मुंह सूखने के लक्षण

  • मुंह में छाले
  • स्वाद बदलना
  • गले में खराश
  • बदबूदार सांसें
  • लार की कमी
  • मुंह में चिपचिपाहट

ड्राई माउथ से बचाव के उपाय

रात में मुंह सूखने की स्‍थ‍ित‍ि से बचने के लिए कुछ आसान उपाय आजमाए जा सकते हैं। जानते हैं इनके बारे में-

पानी प‍िएं- मुंह सूख जाने की समस्या से बचना चाहते हैं, तो सोने से पहले पानी पीएं। कई लोग शाम के बाद पानी कम पीते हैं जिससे ड्राई माउथ की समस्‍या होती है। डिहाइड्रेशन के कारण जीभ और मुंह सूख जाता है, इस स्‍थ‍ित‍ि से बचना चाह‍िए।

जांच करवाएं- रात को मुंह सूख जाने के पीछे ओरल हेल्थ से जुड़ी कोई समस्या भी हो सकती है। लार ग्रंथियां जब पर्याप्त मात्रा में लार का उत्पादन नहीं करती हैं, तो मुंह सूख जाता है। इस स्थ‍ित‍ि‍ का इलाज डॉक्टर बेहतर बता सकते हैं।

कुल्ला करके सोएं- रात को कुल्ला किए बिना सो जाते हैं तो भी मुंह ड्राई होने की समस्या हो सकती है। खाने के बाद मुंह ठीक से साफ नहीं होता और खाने के पदार्थ मुंह में चिपके रहते हैं जिसके कारण मुंह सूख जाता है। ऐसे में कुछ खाने के बाद और सोने से पहले कुल्ला करना चाह‍िए।

अल्कोहल और तंबाकू से बचें- तंबाकू का ज्यादा सेवन करते हैं, तो भी मुंह सूखने की समस्या हो सकती है। अल्कोहल और तंबाकू शरीर और ओरल हेल्‍थ के लिए हानिकारक होते हैं। इनके सेवन से मुंह सूखने की समस्या हो सकती है इसलिए इनसे दूरी बनाएं।

सब्जी और फल का जूस पिएं- शरीर में एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा कम होने से भी ड्राई माउथ की समस्या होती है। सब्जी और फलों के रस में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट इस कमी को पूरा करते हैं। फ्रेश जूस और सूप को डाइट में शामिल करें। जंक फूड से बचें।

हर्बल टी प‍िएं- सोने से पहले हर्बल टी का सेवन करने से भी रात को ड्राई माउथ की समस्या से बच सकते हैं। रात को कॉफी या चाय का सेवन करने से बचें। इससे मुंह सूख सकता है। रात की दवाओं का सेवन सोने से 1 से 2 घंटे पहले कर लें।

शरीर में पानी की कमी, खराब रूटीन, भूखे रहना आदि ड्राई माउथ के कारण हो सकते हैं।
शरीर में पानी की कमी, खराब रूटीन, भूखे रहना आदि ड्राई माउथ के कारण हो सकते हैं।

मुंह सूखने का कारण

प्यास के कारण मुंह और जीभ का सूखना आम बात है, ऐसा कई लोगों के साथ होता है। अगर मुंह बार-बार और लगातार सूख रहा है, तो ये शरीर की किसी परेशानी का संकेत भी हो सकता है। आमतौर पर मुंह तब सूखता है जब मुंह में लार बनने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। कई बार इस परेशानी पर आपने ध्यान नहीं दिया होगा, क्योंकि मुंह अगर थोड़े समय के लिए सूखे, तो इससे व्यक्ति को किसी परेशानी का अनुभव नहीं होता। लेकिन ये जानना जरूरी है कि मुंह क्यों सूखता है और ये किन बीमारियों का संकेत हो सकता है।

दवाइयां और खराब रूटीन

कैंसर का इलाज करने वाले ड्रग्स लार को मोटा बना सकते हैं, जिसके कारण मुंह सूखता है। कैंसर के इलाज के दौरान रेडिएशन के संपर्क में आने से भी स्लेवरी ग्लैंड डैमेज हो सकती हैं। हाई ब्लड प्रेशर और तनाव में खाई जाने वाली दवाइयों से अक्सर मुंह सूखता है। सिर या गर्दन की चोट कई बार नसों को नुकसान पहुंचा सकती हैं जिससे लार ग्रंथियां प्रभावित होती हैं। ड्राई माउथ के कई कारण होते हैं, जैसे- पानी में फ्लोराइड की मात्रा में कमी, शरीर में पानी की कमी, खराब रूटीन, भूखे रहना।

देर रात तक जागना

पौष्टिक खानपान की कमी, एसिडिटी के कारण मुंह में लार कम बनती है। अस्थमा के रोगी, जो रोजाना पंप लेते हैं, उन्हें भी यह परेशानी होती है। मुंह सूखने की वजह से कई बार चखने, चबाने, निगलने और बोलने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा मुंह सूखने के कारण दांतों से संबंधित कई रोगों और मुंह के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

क्यों जरूरी है मुंह की लार

लार मुंह को गीला रखने के साथ कई काम करती है। मुंह में लार न बने तो दांत गल सकते हैं और मुंह में कई तरह के खतरनाक इन्फेक्शन पैदा हो सकते हैं। इसके अलावा लार में एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो मुंह में पैदा होने वाले तमाम बैक्टीरिया को मारकर सेहत सही रखते हैं। लार दांतों की रक्षा करता है, भोजन पचाने में मदद करता है। इसकी वजह से आप चबा और खाना निगल सकते हैं। बैक्टीरिया को कंट्रोल कर संक्रमण को रोकता है।

मुंह सूखना किन बीमारियों का संकेत

मुंह में जो ग्रंथियां लार बनाती हैं, जब वो ठीक से काम नहीं कर रही होती हैं, तो मुंह सूखने लगता है, क्योंकि पर्याप्त लार नहीं बन पाती है। इन ग्रंथियों के लारिवेरी ग्रंथियां कहा जाता है। इन ग्रंथियों के ठीक से काम न कर पाने के कई कारण हो सकते हैं।

डिस्क्लेमर- लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं, हम इनकी पुष्टि नहीं करते। अमल करने से पहले विशेषज्ञ की सलाह लें।

खबरें और भी हैं...