पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पीरियड्स डेट आगे बढ़ाने की दवा:किसी यात्रा, पूजा या फंक्शन की वजह से आप भी लेती हैं ये गोलियां?

4 महीने पहलेलेखक: श्वेता कुमारी
  • कॉपी लिंक

घर में कोई खास पूजा पाठ हो या फिर किसी फंक्शन या यात्रा पर जाना हो और उसी बीच पीरियड्स की भी डेट आ जाए, तो महिलाओं को सबसे आसान तरीका दवा खाकर अपनी डेट को आगे बढ़ाना ही सही लगता है। पीरियड्स डेट आगे बढ़ाने वाली गोलियां आसानी से मेडिकल स्टोर पर मिल जाती हैं। इन्हें लेने के लिए न किसी प्रिस्क्रिप्शन की जरुरत पड़ती है और न ही फार्मेसी स्टोर में इसके डोज पर किसी तरह की पाबंदी होती है। दो गोली की जरूरत हो या दस, मेडिकल स्टोर में क्वांटिटी बता दीजिए और गोलियां आपके सामने हाजिर कर दी जाएंगी। इसे लेने के क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं, बता रही हैं गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. सृष्टि अग्रवाल।

दवाओं से कैसे रुक जाते हैं पीरियड्स

गायनेकोलॉजिस्ट डॉ. सृष्टि अग्रवाल कहती हैं कि कोई अच्छा डॉक्टर इस तरह गोलियां लेने की सलाह नहीं देगा,लेकिन अपने प्लान में किसी तरह के उलट-फेर से बचने के लिए महिलाएं यह रास्ता अपनाती हैं। वह कहती हैं कि शरीर का अपना एक सिस्टम और रूटीन है। इसे छेड़ना सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है। महिलाओं के पीरियड्स शरीर में मौजूद एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरॉन पर निर्भर रहते हैं। जब पीरियड्स रोकने के लिए दवाएं ली जाती हैं, तो शरीर में प्रोजेस्टेरॉन हॉर्मोन का लेवल बढ़ जाता है। हॉर्मोन के प्रभावित होने की वजह से पीरियड्स बंद हो जाते हैं।

पीरियड्स डिले करने की दवाओं के सेहत पर कई दुष्प्रभाव देखे जाते हैं।
पीरियड्स डिले करने की दवाओं के सेहत पर कई दुष्प्रभाव देखे जाते हैं।

पीरियड्स रोकने की गोलियां क्यों हैं खतरनाक?

अगर छोटे-बड़े कारणों की वजह से आप इन गोलियों को लेने की आदत डाल लेती हैं, तो भविष्य में शरीर कई तरह के रोगों का शिकार हो सकता है। थकान, सुस्ती, चिढ़चिढ़ेपन के अलावा, लीवर में भी दिक्कत आ सकती है। अगले पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग, इर्रेगुलर पीरियड्स, यूट्रस सम्बंधी समस्याएं, हाथ-पैरों में सूजन, उल्टी, पीरियड्स के बिना ब्लीडिंग या मूड स्विंग्स जैसी परेशानियों से सामना हो सकता है।

क्या डॉक्टर देते हैं दवा लेने का सुझाव?

डॉ. अग्रवाल कहती हैं कि ऐसे दवा लेने के सुझाव डॉक्टर्स दो ही कंडीशन में देते हैं। पहला, तब जब पेशेंट आकर किसी तरह की प्रॉब्लम बताती हैं, जिनमें कोई जरूरी वजह हो, जो उन्हें दवा लेने को मजबूर करे। ऐसी स्थिति में उनकी फिजिकल हेल्थ को मॉनिटर करने के बाद ही उन्हें दवा लेने की सलाह दी जाती है। दूसरी वजह, जब किसी ट्रीटमेंट या सर्जरी के लिए पीरियड्स को टालना जरूरी हो जाए। इन दोनों स्थिति में ही डॉक्टर्स इन दवाओं को लेने की सलाह देते हैं।

कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स की जगह इसे न लें

डॉक्टर के अनुसार उन्होंने कुछ मामलों में देखा पीरियड्स टालने की गोलियों को महिलाएं ना-समझी में कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के तौर पर देखती और इस्तेमाल करती हैं। कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स प्रेग्नेंसी को कंट्रोल करती हैं। इनका इस्तेमाल पीरियड्स को आगे पीछे खिसकाने के लिए नहीं करना चाहिए।