पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गेहूं के पौधे की कोमल पत्तियों में सेहत का खजाना:जोड़ों के दर्द, हाई कोलेस्ट्रॉल में राहत, मेटाबॉलिज्म, इम्यूनिटी बढ़ाए, खून की कमी दूर करे

2 महीने पहलेलेखक: मरजिया जाफर
  • कॉपी लिंक

व्हीटग्रास ताजे अंकुरित गेहूं के पौधे की पहली पत्तियां होती हैं। इनका इस्तेमाल आंतों में सूजन, शुगर हाई कोलेस्ट्रॉल और कई अन्य बीमारियों में किया जाता है। आयरन, कैल्शियम, एंजाइम, मैग्नीशियम, फाइटोन्यूट्रिएंट्स, एमिनो एसिड, विटामिन ए, सी, ई, के, और बी कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन से भरपूर व्हीटग्रास को पाउडर की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। आयुर्वेद में व्हीटग्रास कितना महत्व है जानते हैं आयुर्वेदाचार्य, डॉ सिद्धार्थ सिंह से।

व्हीटग्रास का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है

डॉ. सिंह कहते हैं कि व्हीटग्रास जूस को सुपर फूड भी कहते हैं। यह गेहूं का रस है, क्योंकि इसे गेहूं के हरे पौधों से तैयार किया जाता है। इस जूस का सेवन कमजोरी दूर करता है, क्योंकि इसमें विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं।

बॉडी डिटॉक्स करे

व्हीटग्रास में पाया जाने वाला क्लोरोफिल बॉडी को डिटॉक्स करता है और लिवर फंक्शन को मैनेज करता है। एक बार शरीर साफ हो जाता है तो एनर्जी बूस्ट होती है और व्यक्ति हेल्दी रहता है। बॉडी को डिटॉक्स करने के लिए कई तरीके अपनाए जा सकते हैं, लेकिन व्हीटग्रास का ऑप्शन सबसे बेहतर है।

डाइजेशन दुरुस्त रखे

इसमें मौजूद विटामिन-बी, 17 एमीनो एसिड और एंजाइम्स खाना पचाने में मदद करते हैं। रोजाना सेवन करने से ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है।

जोड़ों के दर्द से निजात

सर्दियों में जॉइंट पेन की प्रॉब्लम बढ़ जाती है। ऐसे में व्हीटग्रास जूस हर तरह के दर्द और जोड़ों में सूजन को दूर करता है।

हाई कोलेस्ट्रॉल

व्हीटग्रास में हाइपोलिपिडेमिक प्रभाव होता है, जो कोलेस्ट्रॉल कम कर सकता है। इससे हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया से जूझ रहे लोगों को राहत मिल सकती है। 10 हफ्ते तक रोजाना व्हीटग्रास पाउडर लेने से कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड कोलेस्ट्रॉल के लेवल में कमी आती है।

मेटाबॉलिज्म बढ़ाए

व्हीटग्रास मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने का काम करता है जिससे वजन कंट्रोल होता है। लो कैलोरी वाले व्हीटग्रास जूस का सेवन करने से पेट भरे होने का एहसास देर तक रहता है इसलिए कुछ खाने की क्रेविंग नहीं होती। वजन कम होने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का लेवल मेंटेन रहता है जिससे हार्ट डिजीज का खतरा भी कम हो जाता है।

व्हीटग्रास ब्लड प्रेशर कम करने के साथ ही ब्लड को प्यूरीफाई भी करता है
व्हीटग्रास ब्लड प्रेशर कम करने के साथ ही ब्लड को प्यूरीफाई भी करता है

इम्यून सिस्टम बेहतर बनाए

व्हीटग्रास इंफेक्शन और बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। जब इम्यून सिस्टम बेहतर तरीके से काम करता है तो व्यक्ति को बेहतर महसूस होता है। स्ट्रांग इम्यून सिस्टम की वजह से बीमारी जल्द ठीक होती है। व्हीटग्रास का सेवन करते हैं तो इसके बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे। एनर्जी लेवल बढ़ेगा। बॉडी से टॉक्सिन बाहर निकलने पर ताजगी का एहसास होगा और आप तरो-ताजा महसूस करेंगे।

ब्लड प्रेशर करता है नॉर्मल

गेंहू के ज्वारे का सेवन करने से हाई बीपी के मरीज को राहत मिलती है। व्हीटग्रास का सेवन करने से ब्लड प्रेशर में कमी आती है। इसमें मौजूद क्लोरोफिल मॉलिक्यूल हीमोग्लोबिन के समान होता है और ब्लड सेल काउंट को बढ़ाने का काम करता है। इस कारण ब्लड प्रेशर नॉर्मल होता है। यह ब्लड प्रेशर कम करने के साथ ही ब्लड को प्यूरीफाई करने का काम भी करता है।

खून की कमी दूर करे

एनीमिया से बचाव में व्हीटग्रास जूस फायदेमंद है। इसमें मौजूद मिनरल, विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट, अमीनो एसिड समेत कई एंजाइम खून की कमी दूर करने में फायदेमंद हैं। व्हीटग्रास को ग्रीन ब्लड भी कहा जाता है। 21 दिनों तक ताजा व्हीटग्रास जूस पीने से हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ सकती है। ऐसे में एनीमिया की समस्या से जूझ रहे लोग व्हीटग्रास का सेवन कर सकते हैं।

सूजन दूर करे

सूजन कम करने के तरीकों में से एक व्हीटग्रास जूस भी है। व्हीटग्रास में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है, जिससे सूजन कम होती है। इससे जोड़ों से संबंधित सूजन और दर्द दोनों को कम किया जा सकता है। यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने से होने वाली सूजन को कम करने के लिए भी व्हीटग्रास जूस का उपयोग किया जाता है।

एलर्जी में राहत

एलर्जी को कम करने के लिए व्हीटग्रास जूस को फायदेमंद माना जाता है। व्हीटग्रास जूस से एलर्जिक राइनाइटिस के असर को कम किया जा सकता है। इसमें व्हीटग्रास में मौजूद क्लोरोफिल को फायदेमंद माना जाता है।

बालों को सफेद होने से बचाए

व्हीटग्रास का उपयोग बालों के लिए भी फायदेमंद है। इसमें मौजूद प्रोटीन शरीर में जाकर अमीनो एसिड के रूप में टूटता है। ये अमीनो एसिड बालों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। इसमें जिंक भी होता है, जो बालों को पोषण देता है। व्हीटग्रास जूस बालों को सफेद होने से भी बचाता है।

व्हीटग्रास में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है, जिससे सूजन कम होती है
व्हीटग्रास में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है, जिससे सूजन कम होती है

व्हीटग्रास जूस का इस्तेमाल

  • व्हीटग्रास जूस को ऐसे ही सामान्य तरीके से पी सकते हैं।
  • व्हीटग्रास जूस का स्वाद पसंद नहीं है, तो शहद मिलाकर पी सकते हैं।
  • नींबू और थोड़ा चाट मसाला डालकर भी व्हीटग्रास जूस पी सकते हैं।
  • व्हीटग्रास जूस को फ्रूट जूस के साथ मिलाकर मिक्स जूस बना सकते हैं।
  • इसे फेस पैक में मिक्स करके स्किन पर भी लगा सकते हैं।
  • व्हीटग्रास जूस को सुबह खाली पेट पीना अच्छा माना जाता है।

व्हीटग्रास जूस कैसे बनाएं

  • एक गिलास पानी
  • दो चम्मच व्हीटग्रास पाउडर
  • एक चम्मच नींबू का रस
  • तीनों को मिक्सर में अच्छी तरह ब्लेंड करें
  • अब इसे छान लें
  • तैयार है व्हीटग्रास जूस

व्हीटग्रास जूस पीने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखना जरूरी है:

  • गेहूं के जवारे का जूस हमेशा ताजा ही पीना चाहिए
  • शुरुआत में व्हीटग्रास जूस को कम मात्रा में लें, धीरे-धीरे इसकी मात्र बढ़ाएं
  • एलर्जी होने पर है, इसका सेवन बंद कर दें

डिस्क्लेमर- लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं, हम इनकी पुष्टि नहीं करते। अमल करने से पहले विशेषज्ञ की सलाह लें।

खबरें और भी हैं...