पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सब्जियों के राजा आलू की प्याज से है ‘दुश्मनी':हरे रंग का खाया तो हिला सकता है आपका दिमाग, इसकी 3 बातें नहीं जानते होंगे आप

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सब्जियों का राजा आलू भोजन का जरूरी हिस्सा है। यह विटामिन-सी, पोटैशियम, विटामिन-बी6 और फाइबर का अच्छा स्रोत है। आलू में फ्लेवोनॉइड्स नाम के एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो सेहत के लिए बहुत फायदेमंद हैं। पर, आलू सेहत के लिए तभी फायदेमंद होंगे जब आप सही आलू खरीदकर लाएं।
दिल्ली में न्यूट्रीशनिस्ट शैली तोमर का कहना है कि जब आप आलू खरीदने निकलते हैं तो ध्यान रखें कि वह टाइट हो, पिलपिला न हो। आलू दबाने पर वह स्किवीज न हो। आलू की सरफेस पर किसी भी तरह का कट या ज्यादा दाग नहीं होना चाहिए। आलू खरीदते समय किन बातों का रखें ध्यान-
अंकुरित आलू न खरीदें
अगर आलू पर स्प्राउट यानी अंकुर आ गए हैं तो इसका मतलब है कि वह आलू फ्रेश नहीं है। अंकुरित आलू में ग्लाइकोलॉइड और काकोनाइन नाम के केमिकल बन जाते हैं, जो सेहत के लिए नुकसानदायक हैं।
सेंटर फॉर फूड सेफ्टी रिसर्च के मुताबिक, अंकुरित आलू नहीं खाने चाहिए क्योंकि इन स्प्राउटिड आलू में ग्लाइकोलॉइड की अधिक मात्रा पाई जाती है। ग्लाइकोलॉइड आलू के पौधे में पहले से ही पाया जाता है और यह जहरीला पदार्थ होता है। ज्यादा मात्रा में ग्लाइकोलॉइड वाले भोजन खाने से मितली और दस्त जैसी परेशानियां हो सकती हैं। इसलिए, अंकुरित आलू नहीं खरीदने चाहिए। आलू की सरफेस स्मूद हो।

हरे आलू में कड़वापन होता है।
हरे आलू में कड़वापन होता है।

हरा आलू न खरीदें
आलू का रंग हरा होने का मतलब उसके ऊपर एक टॉक्सिन केमिकल का बिल्डअप हो जाना है। इस केमिकल का नाम है-सोलनाइन (solanine)। अगर सतह हल्की-फुल्की हरी है तो उसे काट कर अलग कर दें और बाकी इस्तेमाल कर सकते हैं। आलू अगर ज्यादा हरा है तो इसे इस्तेमाल करने से बचें। सोलनाइन की वजह से आलू में कड़वापन आ जाता है और इसे खाने से इन्फेक्शन भी हो सकता है। उल्टी, पेट दर्द और डायरिया जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं। अधिक मात्रा में सोलनाइन नर्वस सिस्टम को भी डैमेज कर सकता है, क्योंकि ये एक तरह का न्यूरोटॉक्सिन है।
फ्रिज में न रखें आलू
आलू खरीदने के बाद उन्हें फ्रिज में न रखें, क्योंकि फ्रिज में रखने से आलू का स्टार्च शुगर में बदल जाता है, जिससे आलू मीठा हो जाता है। आलू को ऐसी जगह रखें जहां सीधे सूरज की किरणें न आती हों। आलू को पेपर बैग में या परफोरेटेड प्लास्टिक बैग में रखें। गीली सतह पर आलू न रखें और साथ ही ऐसी जगह पर भी न रखें जहां हाई टेंपरेचर हो।

फ्रेश आलू सेहत के लिए सही होते हैं।
फ्रेश आलू सेहत के लिए सही होते हैं।

प्याज के साथ आलू न रखें
आलू को प्याज के साथ भी न रखें। इससे भी स्प्राउटिंग का खतरा रहता है। इन सभी परेशानियों से बचने का यही उपाय है कि आलू उतनी ही मात्रा में खरीदें जितना तुरंत इस्तेमाल में आए। इसे लंबे समय तक स्टोर करने से बचें। साथ ही फ्रिज में, गीली सरफेस या सीधी सूरज की रोशनी में न रखें।