पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दही खाएं रोग दूर भगाएं:दही के साथ मिलाकर खाएं जीरा, चीनी, सेंधा नमक, अजवाइन, काली मिर्च, दूर हो जाएंगी कई बीमारियां

2 महीने पहलेलेखक: मरजिया जाफर
  • कॉपी लिंक

हम भारतीय अपनी थाली में दही जरूर शामिल करते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम, प्रोटीन और विटामिन पाया जाता है। इसमें लैक्टोज, आयरन और फास्फोरस भी होता है जो सेहत के लिए फायदेमंद है। पूर्व चिकित्सा प्रभारी, यूनानी डॉ. सुबास राय से जानते हैं दही खाने के फायदे।

दही और जीरा- बढ़ते वजन से परेशान रहते हैं तो दही में जीरा मिलाकर खाएं, इससे वजन कम होता है। इसके लिए पहले जीरा भूनकर पीस लें, फिर इसे दही में मिलाकर सेवन करें। रोजाना ऐसा करने से फर्क महसूस होगा।

दही और चीनी- दही के साथ चीनी मिलाकर खाने से कफ की समस्या दूर होती है। इससे शरीर को इंस्टेंट एनर्जी मिलती है। कई लोग घर से निकलने से पहले दही-चीनी खाते हैं।

दही और सेंधा नमक- एसिडिटी की समस्या से परेशान हैं तो दही में सेंधा नमक मिलाकर सेवन करें। ये शरीर में एसिड का लेवल बैलेंस करने में मदद करता है, जिससे जल्दी राहत मिलती है।

दही और अजवाइन- दांतों की समस्या है तो दही और अजवाइन को एक साथ मिलाकर खाएं। इससे दांतों की समस्या से निजात मिलती है। मुंह के छालों से परेशान हैं तो दही में अजवाइन मिलाकर खाने से फायदा होगा।

दही और काली मिर्च- कब्ज की समस्या है तो दही में काली मिर्च मिलाकर खाएं। इसे खाने से डाइजेशन ठीक रहता है। दही और काली मिर्च बाल झड़ने की समस्या के लिए भी कारगर है। इसके लिए तीन चम्मच दही में दो चम्मच काली मिर्च पाउडर डालकर पेस्ट तैयार कर लें। इसे बालों पर लगाकर एक घंटे के लिए ऐसे ही छोड़ दें, फिर बाल धो लें। ऐसा करने से बाल सिल्की हो जाएंगे।

पेट के लिए फायदेमंद- अनियमित खानपान का असर पेट पर भी पड़ता है, जिसके कारण पेट में कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं। पेट की समस्याओं के लिए दही का सेवन लाभकारी है।

प्रोटीन का अच्छा स्रोत- दही में दूध के मुकाबले ज्यादा मात्रा में प्रोटीन पाया जाता हैं। प्रोटीन मसल्स के विकास, शरीर में ऊर्जा बढ़ाने, त्वचा और बालों को स्वस्थ रखने के लिए बहुत जरूरी है। वेजीटेरियन लोगों के लिए दही प्रोटीन का अच्छा स्रोत है।

हड्डियां रहती हैं मजबूत- दही में प्रचुर मात्रा में कैल्शियम होता है। यह हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने के लिए जरूरी है। जोड़ों के दर्द के लिए भी दही का सेवन फायदेमंद है।

डाइजेशन मजबूत करे- दही में मौजूद गुड बैक्टीरिया डाइजेस्टिव सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। कमजोर पाचन तंत्र की समस्या से जूझ रहे हैं तो दही को भोजन में जरूर शामिल करें।

एनर्जी और स्टेमिना बढ़ाए- दही में मौजूद पोषक तत्व शरीर की ऊर्जा और स्टेमिना बढ़ाते हैं। शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए भी दही एक सुपरफूड है।

दही की तासीर ठंडी होती है जो पेट की गर्मी दूर करती है
दही की तासीर ठंडी होती है जो पेट की गर्मी दूर करती है

इम्यूनिटी बढ़ाए

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए दही का सेवन करें। इसमें मौजूद गुड बैक्टीरिया शरीर को विषाक्त पदार्थों से लड़ने में मदद करते हैं और इम्यून सिस्टम मजबूत बनाते हैं। दही में मौजूद पोषक तत्व भी इम्यूनिटी बढ़ाते हैं।

मोटापा कम करे

दही में मौजूद प्रोटीन और कैल्शियम मोटापा कम करते हैं। वजन कम करने के लिए दही का सेवन चीनी के साथ न करके काले नमक या सेंधा नमक के साथ करना चाहिए। दही से बनी छाछ भी वजन कम करने में सहायक है।

शरीर की गर्मी दूर करने में सहायक

शरीर की गर्मी यानी बॉडी हीट दूर करने के लिए गर्मियों में दही खाना फायदेमंद है। दही की तासीर ठंडी होती है जो शरीर को अंदर से ठंडा रखने का काम करती है, साथ ही पेट की गर्मी दूर करती है।

लिवर की परेशानी दूर करे

दही में मौजूद प्रोबायोटिक्स यानी गुड बैक्टीरिया शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने का काम करते हैं जो लिवर के लिए फायदेमंद है।

तनाव कम करे

दही खाने का फायदा यह भी है कि इससे दिमाग को आराम मिलता है और तनाव कम होता है। दही में मौजूद गुड बैक्टीरिया मेंटल हेल्थ के लिए भी अच्छे होते हैं, ये दिमाग को शांत करने और तनाव कम करने में मदद करते हैं।

भूख बढ़ाए

जिन लोगों को भूख कम लगती है या कुछ खाने का मन नहीं करता, उन्हें हमेशा दही खाने की सलाह दी जाती है। दही में थोड़ा काला नमक मिक्स करके खाने से भूख तेजी से बढ़ती है और पाचन क्षमता भी मजबूत होती है।

प्रेग्नेंसी में दही का सेवन शिशु के विकास के लिए फायदेमंद है
प्रेग्नेंसी में दही का सेवन शिशु के विकास के लिए फायदेमंद है

प्रेग्नेंसी में दही खाने के फायदे

प्रेग्नेंसी में दही खाना क्यों फायदेमंद है, इससे मां और गर्भस्थ शिशु को क्या फायदा मिलता है,​​​​ आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं-

प्रेग्नेंसी में एक दिन में कितना दही खाएं

न्यूट्रिशन से भरपूर डाइट और प्रोबायोटिक्स के साथ अच्छी क्वालिटी का दही खा रहे हैं, तो एक दिन में तीन छोटी कटोरी दही खा सकते हैं यानी प्रेग्नेंसी में पूरे दिन में 200 से 300 ग्राम दही का सेवन कर सकते हैं। यह बिल्कुल सुरक्षित है।

मां और शिशु दोनों के लिए फायदेमंद

प्रेग्नेंसी में दही का सेवन मां और शिशु दोनों के लिए फायदेमंद है। इसमें मौजूद कैल्शियम शिशु के विकास के लिए लाभकारी है।

  • इम्यूनिटी बूस्ट करने में दही काफी फायदेमंद है।
  • प्रेग्नेंसी में दही खाने से पाचन दुरुस्त और हड्डियां मजबूत होती हैं।
  • प्रेग्नेंसी में दही का सेवन करने से शरीर का टेम्परेचर कंट्रोल रहता है।
  • शारीरिक और मानसिक समस्याओं को कंट्रोल करने में भी दही फायदेमंद है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान एसिडिटी, पेट में जलन की शिकायत बढ़ जाती है। दही का सेवन पाचन से जुड़ी परेशानियों को कंट्रोल करता है।
  • प्रेग्नेंसी में कई महिलाओं को हाई ब्लड प्रेशर की तकलीफ होने लगती है। ऐसे में दही खाना फायदेमंद है, यह हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है।
  • प्रेग्नेंसी में यदि दही खाने से किसी तरह की समस्या है, तो डॉक्टर से सलाह लें।
सुबह खाली पेट दही खाने से पेट की परेशानी हो सकती है
सुबह खाली पेट दही खाने से पेट की परेशानी हो सकती है

दही खाने का सही समय और सही तरीका

दही खाने का सही समय

हमारे देश में दही लगभग हर घर में खाई जाती है, इसके बावजूद कुछ लोगों को पता नहीं होता कि दही खाने का सही समय क्या है या दही कब खाना चाहिए। गलत समय पर दही खाने से नुकसान भी हो सकता है।

सुबह या दिन में खाएं दही

आयुर्वेद कहता है कि दही का सेवन कभी भी रात के समय नहीं करना चाहिए। रात के समय दही खाने से सर्दी, खांसी, जुकाम, गले में दर्द, बुखार जैसी परेशानियां हो सकती हैं। सूर्यास्त के बाद दही का सेवन नहीं करना चाहिए।

दही खाने का तरीका

दही का सेवन चीनी की बजाय मिश्री के साथ करना ज्यादा फायदेमंद है।

दही का सेवन सफेद नमक की जगह सेंधा नमक या काला नमक के साथ करना ज्यादा लाभकारी है।

  • सूर्यास्त के बाद दही का सेवन न करें
  • बुखार में दही का सेवन न करें
  • बरसात के मौसम में भी दही के सेवन से बचना चाहिए
  • दही की तासीर ठंडी होती है इसलिए इसके साथ बहुत ज्यादा गर्म तासीर की चीजों का सेवन न करें

दही खाने के नुकसान

रात के समय दही खाने से सर्दी-जुकाम और बुखार की समस्या हो सकती है। खाली पेट दही खाने से पेट की परेशानी हो सकती है। मांस-मछली के साथ दही खाने से त्वचा संबंधी रोग हो सकते हैं। बुखार में दही का सेवन हानिकारक है।

खबरें और भी हैं...