पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Women
  • Environment
  • Pakistani Minister Advised To Eat Less To Remove Poverty: Know, Which Country Has The Most Eaters, Where Are The Women Of India In The List?

महिलाओं की डायट ज्यादा अनहेल्दी:पाकिस्तान के मंत्री ने गरीबी हटाने के लिए दी कम खाने की सलाह, जानिए, किस देश में सबसे ज्यादा खाऊ, भारत की महिलाएं लिस्ट में कहां?

एक महीने पहलेलेखक: राधा तिवारी
  • कॉपी लिंक
  • किस देश में खाने का कंज्प्शन कितना है.
  • गलत डायट लेने में महिलाओं के हाल और खराब
  • उम्र, वजन और जेंडर, जरूरत के मुताबिक क्या हो डायट

पाकिस्तान में इमरान सरकार के एक मंत्री अली अमीन गंडापुर ने लोगों को महंगाई से निपटने की अजीबोगरीब सलाह दे डाली। उन्होंने लोगों को 'कम रोटी खाने और चाय में कम चीनी डालने' की सलाह दे डाली।अली अमीन ने कहा कि अगर मैं चाय में चीनी के सौ दाने डालता हूं और नौ दाने कम डाल दूं, तो क्या वह कम मीठी हो जाएगी! क्या हम मुल्क के लिए इतनी सी कुर्बानी भी नहीं दे सकते! अली के इस बयान पर जमकर ट्रोलिंग हो रही है, वहीं एक चर्चा ये भी है कि खाने के मामले में कौन सा देश सबसे आगे है।

कौन सा देश कितना खाता है?
ऑस्ट्रिया किसी भी अन्य देश की तुलना में अधिक कैलोरी की खपत करता है, इसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका का स्थान है। खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) के अनुसार एक एडल्ट को रोजाना लगभग 1800 किलोकैलोरी (7500 किलोजूल) की जरूरत होती है। ऑस्ट्रिया और अमेरिका में कंजप्शन इससे कहीं ज्यादा है। इन देशों में सारे ही लोग क्रमशः 3800 और 3750 किलोकैलोरी कंज्यूम करते हैं। एफएओ खपत सूचकांक के अनुसार कुल 172 देशों में से अधिकांश विकसित देश सबसे उपर हैं और विकासशील देशों के अधिकांश देश निचले स्तर पर हैं।

‎संतुलित आहार है जरूरी
‎संतुलित आहार है जरूरी

क्या हैं भारत के हालात
नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे ने साल 2015-16 के लिए अपनी सालाना रिपोर्ट पेश की। इसके मुताबिक अधिकांश भारतीय असंतुलित आहार खाते हैं। उनके खाने में ताजे फल, सब्जियां, दाल, दूध और दूसरे पोषक खाद्य पदार्थ बहुत कम शामिल होते हैं। असंतुलित डायट के मामले में महिलाएं बहुत आगे हैं। सर्वे के अनुसार, भारतीयों, विशेष रूप से महिलाओं की खाने की आदतें हेल्दी नहीं हैं। कुल आबादी में लगभग 10% रोजाना तला हुआ और 36% लोग सप्ताह में एक बार तला हुआ खाना खाते हैं।

अधिकांश भारतीयों का आहार असंतुलित
अधिकांश भारतीयों का आहार असंतुलित

सभी राज्यों में एक समान पैटर्न
लगभग सभी राज्यों में खाने का पैटर्न एक जैसा है। हालांकि, भारत के बाकी हिस्सों की तुलना में राजस्थान (61%), केरल (63%) और उत्तर प्रदेश (73%) में महिलाएं सप्ताह में कम से कम एक बार हरी पत्तेदार सब्जियां खाती हैं। वहीं मिजोरम में 24% महिलाएं, जबकि कर्नाटक में 93% महिलाएं हफ्ते में एक बार दूध या दही खाती हैं। केरल में 83%, जबकि ओडिशा में 19% महिलाएं ही हफ्ते में एक बार फल खाती हैं।

फल और सब्जियां हैं जरूरी
फल और सब्जियां हैं जरूरी

क्या हो महिलाओं के लिए संतुलित आहार
सीनियर डायटीशियन ऋतु गिरी ने बताया कि संतुलित आहार में हरी सब्जियां, फल, फैटी फूड या कम फैट वाले डेयरी उत्पाद, अनाज के साथ-साथ लीन मीट, पोल्ट्री, मछली, बीन्स, अंडेट्स शामिल करने चाहिए। इसके अलावा, सैचुरेटेड और ट्रांस फैट, सोडियम और अतिरिक्त शुगर से दूरी बरती जानी चाहिए। जहां महिलाओं के लिए 1,200-1,500 कैलोरी पर्याप्त हो सकती है, वहीं पुरुषों के लिए 1,500-1,800 कैलोरी वाला आहार काफी है। लेकिन काम और हाइट के मुताबिक इसमें बदलाव हो सकता है।

सीनियर डायटीशियन ऋतु गिरी
सीनियर डायटीशियन ऋतु गिरी

महिलाओं के लिए डायट चार्ट
महिलाओं के लिए पोषण संबंधी आवश्यकताएं पुरुषों से अलग होती है। महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक आयरन की जरूरत होती है। आपकी उम्र के हिसाब से आपके लिए डायट हेल्दी कैसे बनेगी, चलिए जानते हैं:

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक आयरन की जरूरत
महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक आयरन की जरूरत

टीनेज और 20-29
इस उम्र के लोगों को अपनी डायट में कैल्शियम, फॉलेट और आयरन शामिल करना चाहिए। कैल्शियम हड्डियों को मजबूत बनाता है। फॉलेट डीएनए को रिपेयर करने में मदद करता है, जो प्रेग्नेंसी में बेहद जरूरी है। आयरन की पर्याप्त मात्रा शरीर में हो तो इससे मेटाबॉलिज्म बढ़िया होता है। इनके लिए दूध, दही, चीज, सोया, दाल, ब्लैक बीन्स, बीन्स, मूंगफली, पालक आदि का सेवन करना चाहिए।

दूध पीना हड्डियों के लिए जरूरी
दूध पीना हड्डियों के लिए जरूरी

30-39 उम्र की महिलाओं के लिए
इस एज ग्रुप के लोगों का मसल लॉस होने लगता है जो मेटाबॉलिज्म को धीमा कर देता है, इससे बचने के लिए कैलरीज और मैग्नीशियम को अपनी डायट में शामिल करें। मैग्नीशियम की मात्रा इस एज ग्रुप के लोगों का एनर्जी लेवल बढ़ाने में मदद करती है। यह ब्लड प्रेशर और शुगर को मेंटेन रखने के साथ ही शरीर को मजबूती देती है। बादाम, पालक, काजू और दही मैग्नीशियम की कमी को दूर करते हैं।

मैग्नीशियम को अपनी डायट में करें शामिल
मैग्नीशियम को अपनी डायट में करें शामिल

40-54 उम्र की महिलाओं के लिए
इस एज ग्रुप के लोगों को डायट में विटमिन सी, विटमिन ई और एंटीऑक्सिडेंट प्रॉपर्टीज वाले फूड आइटम्स को ज्यादा लेना चाहिए। ये तीनों बढ़ती उम्र में होने वाली परेशाानियों के साथ ही शरीर को हेल्दी बनाए रखने में मदद करते हैं। इसके लिए खट्टे फल, ब्रॉकली, स्प्राउट्स, पीनट बटर, टमाटर, सूरजमुखी के बीच, सनफ्लॉवर ऑइल, बादाम, गाजर और हरी सब्जियों को अपने खाने में शामिल करें।

40-54 उम्र की महिलाओं के लिए ब्रॉकली फायदेमंद
40-54 उम्र की महिलाओं के लिए ब्रॉकली फायदेमंद

55 और उससे ज्यादा की उम्र
50 और उससे ज्यादा की उम्र की महिलाओं के लिए कैल्शियम, विटमिन डी और बी12 जरूर लेना चाहिए। इस उम्र में हड्डियां कमजोर होने लग जाती हैं जिससे बोन लॉस या फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। हड्डियों से जुड़ी बीमारियां भी घेरने लगती हैं. इसके लिए कैल्शियम जरूरी है। वहीं विटामिन बी12 रेड ब्लड सेल्स, नर्व्स और डीएनए को बनाने पर रिपेयर करने में मदद करता है। इनके लिए चिकन, मछली, लो-फैट मिल्क, दही, चीज जैसी चीजों को आहार का हिस्सा बनाएं।

मछली को खाने से मिलते हैं जरबदस्त फायदे
मछली को खाने से मिलते हैं जरबदस्त फायदे
खबरें और भी हैं...