पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61350.260.63 %
  • NIFTY18268.40.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479750.13 %
  • SILVER(MCX 1 KG)65231-0.33 %

कैंसर अलर्ट:यंग जनरेशन में शुगर ड्रिंक की वजह से बढ़ रहा है कोलन कैंसर का खतरा, एक दिन में एक शुगर ड्रिंक यानी कैंसर का खतरा 32% ज्यादा

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यंग एडल्ट्स में कोलन और रेक्टल कैंसर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। रिसर्चर्स का मानना है कि ये कैंसर शुगर ड्रिंक की वजह से बढ़ रहे हैं।

हाल के कुछ सालों में 50 साल से कम उम्र के लोगों में कोलोरेक्टल कैंसर की दर में तेजी से वृद्धि हुई है। 1950 के आसपास पैदा हुए लोगों की तुलना में, 1990 के आसपास पैदा हुए लोगों में कोलन कैंसर का खतरा दोगुना और रेक्टल कैंसर का जोखिम चार गुना है।

पिछले कुछ सालों से शुगर ड्रिंक की बिक्री में गिरावट आई है, लेकिन 1977 और 2001 के बीच खपत तेजी से बढ़ी थी। जिसकी वजह से यंग एडल्ट्स में कैलोरी कंज्यूम करने का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ा।

दोगुनी कैलोरी कंज्यूम करने लगे यंग एडल्ट
उन वर्षों के दौरान, 19 से 39 साल के लोगों में कैलोरी कंज्यूम करने की क्षमता 5.1 प्रतिशत से बढ़कर 12.3 प्रतिशत और 18 साल से कम उम्र वाले बच्चों में 4.8 प्रतिशत से बढ़कर 10.3 प्रतिशत हो गई।

हालांकि 2014 से इन आंकड़ों में गिरावट आई है, इसके बावजूद हर अमेरिकी जितनी कैलोरी कंज्यूम करते हैं उसकी 7 प्रतिशत कैलोरी अभी भी शुगर ड्रिंक से मिलती है।

स्टडी में शामिल हुईं 94,464 नर्स
मेडिकल जर्नल गट में एक नई स्टडी पब्लिश हुई है। कोलोरेक्टल कैंसर और शुगर ड्रिंक के बीच संबंध जानने के लिए इस स्टडी में 94,464 नर्सों को शामिल किया गया था। इन नर्सों ने 1991 और 2015 के बीच एक लॉन्गटर्म प्रॉस्पेक्टिव हेल्थ स्टडी के लिए रजिस्टर किया था, जब वे 25 से 42 साल की थीं।

स्टडी के लिए उन 41,272 नर्सों के हेल्थ प्रॉब्लम को भी बारीकी से देखा गया, जिन्होंने 13 से 18 साल के बीच अपने शुगर ड्रिंक इनटेक का रिकॉर्ड रखा था। स्टडी में सॉफ्ट ड्रिंक, स्पोर्ट्स ड्रिंक और अलग-अलग तरह की शुगर टी के साथ ही फ्रूट जूस (सेब, संतरा, अंगूर जैसे फल) का इनटेक भी रिसर्चर्स ने रिकॉर्ड किया था।

हफ्ते में दो या दो से ज्यादा शुगर ड्रिंक लेने वालों में कैंसर का खतरा दोगुना
स्टडी में शामिल महिलाओं के करीब 24 साल के फॉलोअप के बाद रिसर्चर्स को कोलोरेक्टल कैंसर के 109 केस मिले। जो महिलाएं एक हफ्ते में केवल एक शुगर ड्रिंक लेती थीं (एक ड्रिंक जिसमें करीब 227 ग्राम शुगर हो) उनकी तुलना में जो महिलाएं हफ्ते में दो या दो से ज्यादा शुगर ड्रिंक लेती थीं उनमें कैंसर का रिस्क दोगुना पाया गया। स्वीट ड्रिंक की हर एक सर्विंग के साथ कैंसर का खतरा 16 प्रतिशत तक बढ़ जाता है।

एक दिन में एक शुगर ड्रिंक यानी कैंसर का खतरा 32%
यंग जनरेशन में एक दिन में एक शुगर ड्रिंक 32 प्रतिशत तक कैंसर के खतरे को बढ़ा देती है, लेकिन इसे कॉफी के साथ रिप्लेस करने पर कैंसर का खतरा 17 से 36 प्रतिशत तक कम हो सकता है।

यंग जनरेशन में कैंसर का खतरा ज्यादा
सेंट लुइस में वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में सर्जरी की असिस्टेंट प्रोफेसर और स्टडी की सीनियर राइटर यिन काओ कहती हैं कि बुजुर्गों की तुलना में यंग जनरेशन में मोटाबॉलिक प्रॉब्लम जैसे कि इंसुलिन प्रतिरोध या हाई कॉलेस्ट्रॉल, आंत में सूजन जैसी चीजें कैंसर का कारण बनती हैं।

मोटापा भी इस तरह के कैंसर की एक बड़ी वजह हो सकती है। एक स्टडी में पता चला है कि हाई फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप मोटापा और उसके बाद कैंसर के रिस्क को बढ़ा देता है।