पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऑनलाइन खाना मंगाया तो फूड-पॉइजनिंग का जोखिम:कैंसर, मिसकैरेज और डायबिटीज का खतरा; इग्नोर करने से होगी मौत

5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

केरल में एक 20 साल की लड़की की मौत की वजह बना ऑनलाइन खाना ऑर्डर करना। उसने पास ही के रेस्टोरेंट से ऑनलाइन ऑर्डर कर बिरयानी मंगवाई, जिसे खाकर उसे फूड-पॉइजनिंग हो गई। हफ्तेभर इलाज के बाद लड़की की मौत हो गई।
आज जरूरत की खबर में जानेंगे कि बिना सोचे-समझें बाहर का खाना खाने से क्या नुकसान होगा, कैसे पता करें कि फूड-पॉइजनिंग हो गई है और इससे निपटने के उपाय क्या है…

सवाल: फूड-पॉइजनिंग के लक्षण क्या होते हैं?
जवाब:
नीचे लिखें हुए लक्षणों से आप आसानी से पहचान सकते हैं कि फूड पॉइजनिंग हुई है या नहीं…

  • पेट दर्द
  • डायरिया
  • उल्टी
  • मितली आना
  • बुखार
  • डीहाइड्रेशन

इन सिम्टम्स के आने पर लापरवाही न करें और तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

सवाल: फूड पॉइजनिंग से मौत क्यों होती है?
जवाब:
फूड पॉइजनिंग से कई बार गंभीर डायरिया, जॉन्डिस यानी पीलिया और डिसेंट्री हो जाती है। अगर समय रहते इन्हें कंट्रोल नहीं किया गया तो मौत भी हो सकती है।
इसे अक्सर लोग इग्नोर कर देते हैं। लोग इधर-उधर से कुछ भी खा लेते हैं और उन्हें लूज मोशन्स हो जाते हैं। फूड पॉइजनिंग से इंटस्टाइनल अल्सर भी हो सकते हैं।

सवाल: फूड पॉइजनिंग हो गई है तो क्या करें?
जवाब:
अगर फूड पॉइजनिंग हो गई है तो…

  • आराम करें और ज्यादा भागदौड़ न करें।
  • खूब पानी पिएं जिससे शरीर में पानी का स्तर बना रहे।
  • हल्का भोजन जैसे खिचड़ी, केला, दलिया खाएं।
  • ORS का पानी पीते रहें।

ऐसी स्थिति में तुरंत करें डॉक्टर से संपर्क…

  • आपको लगातार उल्टियां हो रही हैं।
  • 3-4 दिन बाद भी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ है।
  • डिहाइड्रेशन की वजह से आंखें धंसी हुई नजर आ रही हैं और न के बराबर यूरीन आ रहा है।
  • जिसे फूड पॉइजनिंग हुई है वो प्रेग्नेंट है।
  • किसी 60 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्ति को या किसी बच्चे को फूड पॉइजनिंग हुई है।
  • आपको डायबिटीज या किडनी से रिलेटेड कोई बीमारी है।
  • आपकी इम्यूनिटी कमजोर है।
  • कैंसर या HIV के पेशेंट हैं।

सवाल: अगर बाहर से खाना मंगवा रहे हैं या बाहर खाने जा रहे हैं तो क्या सावधानी बरतनी चाहिए?
जवाब:
वैसे तो बाहर का खाना नुकसानदेह हमेशा ही है। इसके बावजूद अगर आप बाहर से खाना मंगवा रहे हैं या बाहर खाने जा रहे हैं तो यह सावधानियां रखें…

  • पॉपुलर और विश्वसनीय जगहों से ही खाना मंगवाएं।
  • ऐसी जगहों पर खाना खाने जाएं जहां साफ-सफाई का ध्यान रखा जाता हो।
  • ऐसा खाना मंगवाएं जो अच्छी तरह से पकाया गया हो।
  • अगर आप बुफे में खाना खा रहे हैं तो टेम्प्रेचर का ख्याल रखें। ठंड़ा खाना न खाएं।
  • अगर घर पर खाना मंगवाया है और वह बच गया है, तो तुरंत उसे फ्रिज में रख दें।
  • कंफर्म करें कि आपको जो खाना दिया जा रहा है वो फ्रेश पकाया हुआ हो।
  • कटे हुए फल और सब्जियां न खरीदें।
  • घर से बाहर नॉन-वेजिटेरियन खाना कम से कम खाएं।
  • बारिश के मौसम में स्ट्रीट फूड खाने से बचें।
  • डीप-फ्राई की हुई चीजों में तेल के खराब होने का रिस्क होता है।

सवाल: घर के खाने में बाहर जैसा टेस्ट नहीं आता। क्या ऐसी कोई ट्रिक्स हैं जिससे बच्चे बाहर की जगह घर का ही खाना खाएं?
जवाब:
बच्चे अक्सर बाहर का ही खाना पसंद करते हैं जो उनकी सेहत के लिए ठीक नहीं। बच्चों को घर का हेल्दी खाना खिलाने के लिए ये ट्रिक्स अपना सकते हैं…

  • जो भी बना रहे हैं, बच्चे के सामने उसे खुद खाकर एक उदाहरण सेट करें।
  • घर पर चिप्स, सोडा और प्रिजर्वेटिव वाले जूस रखने की जगह फल-सब्जियों जैसे हेल्दी ऑप्शन्स रखें।
  • दिन में कम से कम दो बार पूरी फैमिली साथ बैठकर खाना खाएं।
  • घर का राशन खरीदने जा रहे हैं तो बच्चे को भी साथ ले जाएं। खाना बनाने में भी उनकी मदद लें।
  • खाने का टाइम फिक्स करें ताकि बेवक्त की भूख उन्हें न लगे।
  • फ्रिज में या किचन में जंक फूड न रखें।
  • बच्चा छोटा है तो उसे ऐसी चीजें खिलाएं जो देखने में रंग-बिरंगी हों।
  • एक्सपेरिमेंट कर बोरिंग खाने को दिलचस्प बनाकर बच्चों को परोस सकते हैं। जैसे, दाल में सब्जी डाल सकते हैं। अरहर की दाल में लौकी डालकर पका सकते हैं।
  • बर्गर, पिज्जा, पास्ता घर पर बनाएं। मैदा के बेस की जगह होल व्हीट बेस का इस्तेमाल कर सकते हैं।

सवाल: मेरा काम फील्ड का है जिसमें बाहर खाने के अलावा कोई ऑप्शन नहीं है। क्या करूं?
जवाब:
किसी भी तरह का काम करना हो, हेल्दी खाना बहुत जरूरी है। बहुत से काम ऐसे हैं जिसमें दिन का अधिकतर समय फील्ड में निकल जाता है। जैसे, पुलिस, पत्रकार और सेल्समेन।
फील्ड में काम करते हुए हेल्दी खाने के लिए अपनाएं ये 7 टिप्स…

  • स्नैक्स के लिए घर से कुछ पैक करा लें, जैसे फल या ड्राई फ्रूट्स ले सकते हैं।
  • घर से निकलने से पहले अच्छी तरह बैलेंस्ड डाइट खाकर जाएं।
  • बाहर अगर कुछ खा रहे हैं तो अधिक फैट वाला, फ्राइड या स्पाइसी खाना कम से कम खाएं।
  • कैफीन कम कर दें और खूब पानी पिएं।
  • कुछ पैकेज्ड खा रहे हैं तो उसकी न्यूट्रिशनल वैल्यू के बारे में जरूर पढ़ लें।
  • कोल्ड ड्रिंक या सोडा की जगह फ्रेश जूस पिएं।

आज के हमारे एक्सपर्ट हैं डॉ बालकृष्ण, कंसल्टेंट, फिजिशियन और हार्ट स्पेशलिस्ट।

चलते-चलते
जान लें, क्या रेस्टोरेंट और बाहर की दुकानों के खाने से पैकेज्ड फूड बेहतर हैं?
जवाब:
किसी भी तरह का खाना जब गर्म होता है तो वो बेहतर होता है। इस लिहाज से रेस्टोरेंट आदी का खाना पैकेज्ड फूड से बहुत बेहतर है। पैकेज्ड फूड को प्रिजर्व करने के लिए ढ़ेरों केमिकल इस्तेमाल किए जाते हैं। ये केमिकल हमारे शरीर को कई तरह से नुकसान पहुंचा सकते हैं। पैकेज्ड फूड की एक्सपायरी और मैन्यूफैक्चरिंग डेट देखकर ही खरीदें। जिन पैकेज्ड आइटम्स पर ये जरूरी जानकारी नहीं है उन्हें न खरीदें।
हां, पैकेज्ड फूड में ड्राइ चीजें जैसे बिस्कुट वगैराह खाए जा सकते हैं।

जरूरत की खबर के कुछ और आर्टिकल भी पढ़ेंः

1. महाराष्ट्र-अमेरिका में अंडों की कमी:दाल, पनीर, राजमा से प्रोटीन की कमी को करें दूर; बेकिंग के लिए यूज करें केला, दही

महाराष्ट्र और अमेरिका में अंडों की कमी हो रही है। दोनों जगहों पर इसकी वजह अलग हैं।
महाराष्ट्र में डिमांड ज्यादा सप्लाई कम
यहां हर दिन 2.25 करोड़ से भी ज्यादा अंडों की मांग है। मगर राज्य में सिर्फ 1.25 करोड़ अंडे ही पैदा होते हैं। ऐसे में अंडों की डिमांड ज्यादा है और सप्लाई कम। इस वजह से राज्य में लगातार अंडों की कीमत बढ़ रही है। (पढ़िए पूरी खबर)

2. सौतन से छुटकारा, खोया प्यार वापस पाएं:सपने दिखाने वाले बाबाओं के खिलाफ ऐसे करें केस; होगी उम्रकैद

कथा वाचक बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री पर जादू-टोना करने और अंधविश्वास फैलाने का आरोप लगा है। आचार्य धीरेंद्र शास्त्री ने अपने ऊपर उठ रहे आरोपों पर सफाई दे दी है। हम उन पर कोई आरोप नहीं लगा रहे हैं।
लेकिन ये बात भी सच है कि देश में नकली बाबाओं की भी कमी नहीं है। काफी लोग जादू-टोने पर यकीन रखते हैं। कई जगहों पर औरतों को डायन बताकर उनके साथ अत्याचार किया जाता है।(पढ़िए पूरी खबर)

3. शराब की पहली घूंट से बढ़ेगा कैंसर का रिस्क:लिवर ही नहीं, पेट, मुंह में होगा कैंसर; लत छुड़ाने में मदद करेगा मृतसंजीवनी सुरा

WHO ने हाल ही में कहा कि शराब पीने की कोई सेफ लिमिट नहीं है। इससे पहले कैंसर पर रिसर्च करने वाली इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ने शराब को ग्रुप 1 कार्सिनोजेन कहा था।

कैंसर करने वाली चीजों को कार्सिनोजेन कहा जाता है। ग्रुप 1 में शामिल होने वाले कार्सिनोजेन से सबसे ज्यादा खतरा होता है।(पढ़िए पूरी खबर)