पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48832.030.06 %
  • NIFTY14617.850.25 %
  • GOLD(MCX 10 GM)470210.83 %
  • SILVER(MCX 1 KG)689701.52 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जरूरत की खबर:रात में ब्रश करने के बाद भी सुबह मुंह से बदबू आती है? नींद में मुंह सूखने से हो सकता है ऐसा, बचने के लिए अपनाएं ये 6 टिप्स

16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अक्सर लोग कहते हैं कि जब वो सुबह सोकर उठते हैं तो उनके मुंह से दुर्गंध आती है। रात में भले ही सोने से पहले ब्रश किया हो फिर भी सुबह मुंह से बदबू आती ही है। रात भर में मुंह में ऐसा क्या हो जाता है, जिससे बदबू पैदा होती है? पहली बात तो यह कि मुंह में हमेशा ही कुछ बैक्टीरिया रहते हैं। रात में मुंह में थूक का लेवल सामान्य से कम हो जाने की वजह से बैक्टीरिया तेजी से बढ़ते हैं और यही दुर्गंध का सबसे बड़ा कारण बनते हैं।

दरअसल, लगभग 6-9 घंटे की नींद से आपका मुंह पानी न पीने के कारण सूख जाता है। साथ ही रात को जब हमारी लार वाली ग्रंथियां कम मात्रा में लार निकालती हैं तो इसके चलते मुंह थोड़ा सूख जाता है। इस माहौल में मुंह के कुछ बैक्टीरिया खूब फलते-फूलते हैं। यह खास बैक्टीरिया सल्फर-वाले वेस्ट मटेरियल बनाते हैं और इन्हीं के कारण मुंह से बदबू आती है।

जब भी हम कुछ खाते हैं तो मुंह में रहने वाले बैक्टीरिया लार के साथ मिलकर भोजन और प्रोटीन को तोड़ते हैं। इस प्रक्रिया में जो गैस निकलती है, वही सांस की बदबू का कारण बनती है। असल में अमीनो एसिड और प्रोटीन के पाचन से बैक्टीरिया को एनर्जी मिलती है। कुछ अमीनो एसिड में सल्फर पाया जाता है, जिसे बैक्टीरिया इस्तेमाल करते हैं। बैक्टीरिया के इस पाचन की प्रक्रिया में सल्फर के अलावा कुछ बदबूदार गैसें भी निकलती हैं। रिसर्च में पाया गया है कि सांस की दुर्गंध में कई चीजों की मिलावट होती है। यह चीजें हो सकती हैं - कैडावरीन (लाश की गंध), हाइड्रोजन सल्फाइड (सड़े अंडे की गंध), आइसोवैलेरिक एसिड (पसीने वाले पैर की गंध), मिथाइलमेर्काप्टेन (मल की गंध), पट्रीशाइन (गलते मांस की गंध) और ट्राइमिथाइलअमीन (सड़ी मछली जैसी गंध)।

रात को सोने से पहले ब्रश करने और जीभ को साफ करने से अगली सुबह सांस की दुर्गंध में कमी लाई जा सकती है, लेकिन मुंह के बैक्टीरिया रात को जब बंद जगह में नमी पाते हैं तो तेजी से अपनी संख्या बढ़ाते हुए 600 से भी ज्यादा तरह के कंपाउंड बनाते हैं।

कई लोग माउथवॉश का भी इस्तेमाल करते हैं। असल में माउथवॉश में पाए जाने वाले जाइलिटॉल, ट्रिकलोजान और एसेंशियल ऑयल जैसी चीजें बैक्टीरिया को थोड़े समय के लिए कंट्रोल जरूर कर सकती हैं, लेकिन कुछ देर बाद ही यह भी बैक्टीरिया पर बेअसर हो जाते हैं। इसलिए सुबह मुंह से ऐसी गंध आना आम बात है और इसके लिए बहुत परेशान होने की जरूरत नहीं, लेकिन अगर बदबू बहुत तेज हो तो डॉक्टर के पास जरूर जाना चाहिए क्योंकि यह हैलिटोसिस की स्थिति हो सकती है। दांतों में कैविटी, मसूड़ों में सड़न और टॉन्सिल होने पर भी दुर्गंध बढ़ जाती है।

कुछ लोगों के मुंह से ज्यादा बदबू क्यों आती है?
हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार कुछ लोगों के मुंह से सामान्य बातचीत के दौरान भी बदबू आती है। मुंह की सफाई अच्छे से न करना या आपके सांस लेने का तरीका भी इसकी एक बड़ी वजह हो सकता है। जो लोग नाक से नहीं, मुंह से सांस लेते हैं या जिन लोगों को खर्राटे की समस्या होती है, उनके मुंह से अधिक बदबू आती है। इसके अलावा अगर आप किसी प्रकार की दवाएं खाते हैं या किसी एलर्जी से ग्रस्त हैं या धूम्रपान करते हैं तो भी आपके मुंह से सामान्य से अधिक बदबू आ सकती है। अगर ऐसा है तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

हैलिटोसिस

मेडिसिन की भाषा में मुंह से दुर्गंध की स्थिति को हैलिटोसिस कहते हैं। ये मुंह की सफाई ठीक से न करने और खानपान की गलत आदतों से होती है।

हर रोज जीभ की सफाई करें
मुंह से बदबू जीभ, दांतों और मसूड़ों पर जमे बैक्टीरिया के प्लैक के कारण आती है। इसलिए जीभ को रोज साफ करना चाहिए और दिन में दो बार ब्रश करें।

दांतों की सफाई के लिए टूल-सेट जरूर रखें
दांतों पर ब्रश, जीभ की सफाई के लिए मेटल या प्लास्टिक का टंग क्लीनर और डेंटल फ्लॉस मिलाकर पूरा टूल सेट बनता है। यह सेट आपके पास जरूर होना चाहिए ताकि मुंह की सफाई अच्छे से हो सके।

दो दांतों के बीच की जगह अच्छे से साफ करें
अगर आपका खाना दांतों के बीच फंसता है, तो सफाई का और भी ज्यादा ख्याल रखना चाहिए। कुछ भी खाने के बाद कुल्ला जरूर करें और सुबह-शाम दांतों को अच्छी तरह ब्रश करें।

रात में नींद से उठकर पानी पीते रहें
ड्राई माउथ या जेरोस्टोमिया कही जाने वाली बीमारी में लार के बहाव पर असर पड़ता है। लार की कमी के कारण मुंह में ज्यादा बैक्टीरिया पनप सकते हैं और दुर्गंध का कारण बन सकते हैं। कई लोगों में नाक के बजाय मुंह से सांस लेने की आदत से भी ऐसा होता है। इसलिए नींद से उठकर पानी जरूर पिएं।

च्युइंग-गम चबाएं
अगर घर से बाहर हैं और ब्रश करने जैसे उपाय नहीं किए जा सकते हैं तो तुरंत मदद के लिए च्युइंग-गम पास रखें। इसकी तेज महक से मुंह की बदबू दब जाती है और लार के साथ मिलकर सुगंध पैदा होती है।

हेल्दी फूड खाएं
ताजे फल और सब्जियां खाने से दांत और मसूड़े स्वस्थ बनते हैं इसलिए खाने में इनकी मात्रा बढ़ाएं। पेट साफ रखें और दिन में कम से कम 10 गिलास पानी पीने की कोशिश करें।

खबरें और भी हैं...