पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुप्रीम कोर्ट ने गोद लिए बच्चे की पेंशन रोकी:पति या पत्नी के नहीं रहने पर किसे मिलती है पेंशन, जानें नियम

4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकारी कर्मचारी की विधवा अगर पति की मौत के बाद बच्चा गोद लेती है तो वह फैमिली पेंशन का हकदार नहीं होगा। दरअसल, महाराष्ट्र के नागपुर के श्रीधर चिमुरकर साल 1993 में सरकारी नौकरी से रिटायर हुए थे। 1994 में उनकी मौत हो गई। 1996 में उनकी पत्नी माया मोतघरे ने राम श्रीधर चिमुरकर को बेटे के रूप में अपनाया था। कोर्ट ने यह भी कहा कि सरकारी कर्मचारी के जीवनकाल के दौरान कानूनी रूप से गोद लिए गए बच्चे फैमिली पेंशन के हकदार हैं।

आज जरूरत की खबर में जानेंगे कि फैमिली पेंशन को लेकर क्या नियम हैं, बच्चों को कब तक मिलती है फैमिली पेंशन, इसमें मृतक के माता-पिता का क्या हक होता है और अनुकम्पा की नौकरी लेने पर पेंशन कैसे और कितनी मिलती है।

आज के हमारे एक्सपर्ट हैं…

  • अशोक पांडे, एडवोकेट, बॉम्बे हाईकोर्ट
  • सचिन नायक, एडवोकेट, सुप्रीम कोर्ट और मध्य प्रदेश हाईकोर्ट

सवाल: फैमिली पेंशन पाने के क्या नियम हैं?
जवाब:
नौकरी से रिटायरमेंट के बाद सेंट्रल गवर्नमेंट कई कर्मचारियों को पेंशन देती है। कर्मचारी की मौत के बाद उसके परिवार के उन लोगों को फैमिली पेंशन दी जाती है जो उस पर आश्रित हों। फैमिली पेंशन किस आधार पर दी जाती है इसके बारे में डिपार्टमेंट ऑफ पेंशन एंड पेंशनर्स वेलफेयर बताता है।

फैमिली पेंशन से जुड़े ये हैं कुछ नियम…

  • सरकारी सेवक का फैमिली पेंशन पर कोई कंट्रोल नहीं होगा। कर्मचारी यह तय नहीं कर सकता कि उसके बाद पेंशन किसे दी जाएगी।
  • सरकारी सेवक किसी को नॉमिनेट नहीं कर सकता। उसकी मौत के बाद परिवार के सदस्यों को ही फैमिली पेंशन दी जाएगी।
  • कम से कम 1 साल तक लगातार नौकरी करने के बाद ही किसी सरकारी कर्मचारी को फैमिली पेंशन दी जाएगी।

सवाल: बच्चों को कितने समय तक फैमिली पेंशन मिलती है?
जवाब:
सरकारी कर्मचारी की मौत होने पर बच्चों को फैमिली पेंशन मिलने के ये हैं नियम…

  • बच्चों के मामले में फैमिली पेंशन सबसे पहले बड़े बच्चे को मिलती है।
  • यदि परिवार में जुड़वां बच्चे हैं तो दोनों को बराबर- बराबर फैमिली पेंशन मिलेगी।
  • अविवाहित बेटे को फैमिली पेंशन उसके 25 साल पूरे करने तक या शादी करने तक या नौकरी करने तक मिलती है।
  • अगर पति-पत्नी दोनों सरकारी नौकरी करते थे और दोनों की मौत हो जाती है तो जीवित बच्चों को माता और पिता दोनों की यानी दो फैमिली पेंशन मिलेंगी।
  • अगर सरकारी कर्मचारी की मौत के बाद पति या पत्नी कोई बच्चा गोद ले तो उसे परिवार का सदस्य नहीं माना जाएगा। वह फैमिली पेंशन का हकदार नहीं होगा।

दिव्यांग बच्चों के लिए यह है नियम…

  • अगर सरकारी कर्मचारी की संतान दिव्यांग है (शारीरिक व मानसिक रूप से) और 25 साल की उम्र होने के बाद भी कमाई का कोई साधन नहीं हैं, तो जिंदगीभर फैमिली पेंशन दी जाएगी।
  • आजीवन फैमिली पेंशन दिव्यांग बच्चों को तभी दी जाएगी, जब उससे छोटा कोई भाई-बहन न हो।
  • अगर बच्चा माइनर है तो गार्जियन के जरिए फैमिली पेंशन दी जाएगी।
  • शारीरिक और मानसिक दिव्यांग बच्चों को उनके विवाह के बाद भी फैमिली पेंशन दी जाएगी।

बेटी के लिए यह है नियम…

  • अविवाहित या विधवा या तलाकशुदा बेटी को फैमिली पेंशन उसकी शादी या दूसरी शादी तक या उसके नौकरी करने तक दी जाएगी। इसमें उम्र की कोई सीमा नहीं है।
  • बेटी को 25 साल के बाद पेंशन तभी मिलेगी, जब मृतक के सारे अविवाहित बच्चे 25 साल की उम्र पार कर लें या कमाना शुरू कर दें।
  • अगर मृतक का कोई दिव्यांग बच्चा भी है तो उसे पहले फैमिली पेंशन मिलेगी। जब उसकी योग्यता फैमिली पेंशन के लिए खत्म होगी तभी अविवाहित, तलाकशुदा या विधवा बेटी को फैमिली पेंशन मिलेगी।
  • अगर सरकारी कर्मचारी के जीवित रहते हुए उसकी बेटी के तलाक का प्रोसिजर कोर्ट में शुरू हुआ है और कर्मचारी की मौत के बाद तलाक मिलता है, तो भी वह फैमिली पेंशन पाने के लिए योग्य होगी।

सवाल: क्या किसी कंडीशन में फैमिली पेंशन मिलने का हक छीना भी जा सकता है?
जवाब:
हां, बिल्कुल। फैमिली पेंशन मिलने का हक तब छीना जा सकता है जब पेंशन पाने वाला, सरकारी कर्मचारी की हत्या का दोषी या हत्या के लिए उकसाने का दोषी पाया जाता है। ऐसी स्थिति में उस सदस्य के बाद जो भी योग्य सदस्य होता है, उसे फैमिली पेंशन दी जाती है।

सवाल: मृतक की पत्नी अगर दूसरी शादी कर ले तो क्या उसे पेंशन मिलती रहेगी?
जवाब:
मृतक के पति या पत्नी को फैमिली पेंशन आजीवन दी जाती है। मृतक की पत्नी की अगर कोई संतान नहीं है और उसके पास कमाई का कोई साधन नहीं है, तो दूसरी शादी करने पर भी उसे पेंशन दी जाती है।

सवाल: अगर मृतक की पत्नी नौकरी कर ले तो क्या वह पेंशन की हकदार होगी?
जवाब:
मृतक की पत्नी अगर अनुकम्पा की नौकरी लेती है तो वह फैमिली पेंशन की हकदार नहीं होगी।

सवाल: गोद लिए हुए बच्चे को भी क्या पेंशन मिलेगी?
जवाब:
गोद लिए हुए बच्चे के पास बायोलॉजिकल चाइल्ड जितने ही राइट्स होते हैं। इसलिए गोद लिया हुआ बच्चा भी फैमिली पेंशन का हकदार होगा। हालांकि सरकारी कर्मचारी की मृत्यु के बाद गोद लिए गए बच्चे को पेंशन नहीं मिलेगी।

सवाल: क्या गोद लिया हुआ बच्चा भी अनुकम्पा की नौकरी कर सकता है?
जवाब:
हां, बिल्कुल। अगर गोद लिया हुआ बच्चा उस नौकरी के लिए योग्य है तो वह अनुकम्पा की नौकरी कर सकता है।

सवाल: क्या मृतक की लिव इन पार्टनर को पेंशन या अनुकम्पा की नौकरी का अधिकार है?
जवाब:
लिव-इन पार्टनर को शादी जैसा दर्जा दिया गया है, मगर इसे शादी नहीं माना गया है। इसलिए लिव-इन पार्टनर को पेंशन या अनुकम्पा की नौकरी नहीं मिलेगी। मगर लिव-इन रिलेशनशिप में पैदा हुए बच्चों को पेंशन और अनुकम्पा की नौकरी का अधिकार है। इसके लिए उन्हें बाकी बच्चों से एनओसी लेना होगा।

सवाल: माता-पिता को फैमिली पेंशन मिलने को लेकर क्या नियम हैं?
जवाब:
माता-पिता को फैमिली पेंशन मिलने को लेकर यह हैं नियम…

  • सरकारी कर्मचारी की मृत्यु के बाद अगर कोई जीवित विधवा या योग्य बच्चे नहीं हैं और अगर माता-पिता पूरी तरह से मृतक पर निर्भर थे, तो उन्हें फैमिली पेंशन दी जाएगी।
  • इस स्थिति में पहले मां को और उसके बाद पिता को फैमिली पेंशन मिलेगी।
  • माता-पिता को जो फैमिली पेंशन दी जाएगी, वह उनकी मृत्यु तक दी जाएगी।

नीचे लिखे क्रिएटिव से समझें कितनी फैमिली पेंशन मिलती है…

सवाल: मृतक के माता-पिता और पत्नी अगर अलग रहते हैं तो क्या दोनों को अलग-अलग पेंशन मिलेगी?
जवाब:
नहीं, ऐसा नहीं होगा। एक ही पेंशन मिलेगी।

सवाल: क्या अनुकम्पा की नौकरी लेने के लिए पत्नी को मृतक के माता-पिता की परमिशन की जरूरत होती है?
जवाब:
अगर कोई सरकारी कर्मचारी विवाहित है और उसकी मृत्यु हो जाती है, तो अनुकम्पा की नौकरी लेने के लिए पत्नी को उसके माता-पिता से एनओसी की जरूरत होगी।

जरूरत की खबर के कुछ और आर्टिकल भी पढ़ेंः

1. ऑनलाइन खाना मंगाया तो फूड-पॉइजनिंग का जोखिम:कैंसर, मिसकैरेज और डायबिटीज का खतरा; इग्नोर करने से होगी मौत

केरल में एक 20 साल की लड़की की मौत की वजह बना ऑनलाइन खाना ऑर्डर करना। उसने पास ही के रेस्टोरेंट से ऑनलाइन ऑर्डर कर बिरयानी मंगवाई, जिसे खाकर उसे फूड-पॉइजनिंग हो गई। हफ्तेभर इलाज के बाद लड़की की मौत हो गई। (पढ़िए पूरी खबर)

2. महाराष्ट्र-अमेरिका में अंडों की कमी:दाल, पनीर, राजमा से प्रोटीन की कमी को करें दूर; बेकिंग के लिए यूज करें केला, दही

महाराष्ट्र और अमेरिका में अंडों की कमी हो रही है। दोनों जगहों पर इसकी वजह अलग हैं।
महाराष्ट्र में डिमांड ज्यादा सप्लाई कम
यहां हर दिन 2.25 करोड़ से भी ज्यादा अंडों की मांग है। मगर राज्य में सिर्फ 1.25 करोड़ अंडे ही पैदा होते हैं। ऐसे में अंडों की डिमांड ज्यादा है और सप्लाई कम। इस वजह से राज्य में लगातार अंडों की कीमत बढ़ रही है। (पढ़िए पूरी खबर)

3. सौतन से छुटकारा, खोया प्यार वापस पाएं:सपने दिखाने वाले बाबाओं के खिलाफ ऐसे करें केस; होगी उम्रकैद

कथा वाचक बागेश्वर धाम के धीरेंद्र शास्त्री पर जादू-टोना करने और अंधविश्वास फैलाने का आरोप लगा है। आचार्य धीरेंद्र शास्त्री ने अपने ऊपर उठ रहे आरोपों पर सफाई दे दी है। हम उन पर कोई आरोप नहीं लगा रहे हैं।
लेकिन ये बात भी सच है कि देश में नकली बाबाओं की भी कमी नहीं है। काफी लोग जादू-टोने पर यकीन रखते हैं। कई जगहों पर औरतों को डायन बताकर उनके साथ अत्याचार किया जाता है।(पढ़िए पूरी खबर)