पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जरूरत की खबर:'लू' में बेफिक्र घूमने वाले हो जाएं सावधान, कहीं जिंदगी से हाथ न धोना पड़े, जानिए इससे कैसे बचें

19 दिन पहलेलेखक: अलिशा सिन्हा
  • कॉपी लिंक

गर्मी। इस शब्द को सुनते ही पसीना, चिलचिलाती धूप, उमस और बहुत कुछ महसूस होने लगता है। अप्रैल में ही गर्मी ने अपना प्रचंड रूप दिखा दिया है। गर्मी जितनी भी बढ़ जाए, पूरे दिन आप घर में AC ऑन कर नहीं बैठ सकते हैं, बाहर तो निकलना ही होगा। और बाहर निकलते ही आपका सामना होगा लू के थपेड़ों से। जो लू को हल्के में लेते हैं, उन्हें बता दें कि लू से लापरवाही मौत का कारण भी बन सकती हैं। हर साल लू की वजह से कई लोग अपनी जान गंवा देते हैं।

देखें कहां कितना है टेंपरेचर

मौसम विभाग के अनुसार…

  • दिल्ली में 29 अप्रैल को तापमान 43.5 डिग्री रिकॉर्ड किया गया।
  • गुरुग्राम में 28 अप्रैल को पारा 45.6 डिग्री दर्ज किया गया।
  • मध्य प्रदेश के खजुराहो और नौगांव में पारा 45.6 डिग्री तक पहुंच चुका है।
  • UP के प्रयागराज में 45.9 डिग्री तापमान दर्ज किया गया।
  • महाराष्ट्र में अकोला 45.4 डिग्री और ब्रम्हपुरी 45.32 डिग्री पारा दर्ज किया गया।

मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान समेत 18 राज्यों के 20 से ज्यादा शहरों में पारा 45 डिग्री से ऊपर जा चुका है।

सबसे पहले जानते हैं कि लू लगने के लक्षण क्या है

फोर्टिस अस्पताल के मेडिसन कंसल्टेंट डॉक्टर बीएन सिंह के अनुसार…

  • शरीर जल्दी थका हुआ महसूस करने लगेगा।
  • दर्द और सर्दी-खांसी की परेशानी हो सकती है।
  • बॉडी डिहाइड्रेट हो सकती है।
  • उल्टी-दस्त की समस्या भी हो सकती है।

क्या लू लगने से किसी इंसान की मौत हो सकती है?

जी हां। कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल के डॉक्टर शरद सेठ के अनुसार, तापमान बढ़ने का सीधा असर इंसान के शरीर पर पड़ता है। तापमान के बढ़ते ही लू चलती है, शरीर की गर्माहट बढ़ने लगती है। जैसे ही आपको लू लगती है इसका असर शरीर के अलग-अलग हिस्से में रक्त पहुंचाने वाली रक्तवाहिनियां पर पड़ना शुरू होता है।

शरीर के हर अंग को काम करने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। इससे ब्रेन, हार्ट, लीवर, किडनी को नुकसान होने लगता है। लू से सबसे ज्यादा किडनी प्रभावित होती है। क्योंकि शरीर में पानी की कमी और पेशाब बंद हो जाता है। ऐसे में मौत भी हो सकती है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने लू चलने के दौरान क्या करना है और क्या नहीं, इसे लेकर कुछ सुझाव की लिस्ट जारी की है। नीचे पढ़ें और उसे फॉलो भी करें।

तेज गर्मी में क्या नहीं करना चाहिए

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार…

  • काम न हो तो धूप में बाहर न जाएं। इससे लू लग सकती है।
  • दोपहर के वक्त बाहर में ज्यादा मेहनत वाला काम न करें।
  • दोपहर 12 से 3 तक घर से बाहर न ही निकले तो अच्छा रहेगा।
  • शराब, चाय, कॉफी और सॉफ्ट ड्रिंक न पिएं।
  • धूप में खड़ी कार के अंदर बच्चों या पालतू जानवरों को न छोड़ें।
  • धूप में डार्क कलर, सिंथेटिक और टाइट कपड़े पहनकर न जाएं।

लू लगने पर क्या न करें?

डॉक्टर मेधावी अग्रवाल के अनुसार...

  • अगर कोई व्यक्ति बेहोश है या उल्टी कर रहा है तो उसे पीने के लिए कुछ न दें।
  • बॉडी टेम्परेचर कम करने के लिए अपने मन से दवा न दें।
  • मरीज को ऐसे कमरे में न रखें, जहां सीधी धूप आती है।
  • AC वाले कमरे से उठकर सीधे धूप न जाएं।
  • धूप से आकर तुरंत हाथ-मुंह न धोएं।

इस मौसम में क्या खाएं

  • बेल का रस लेने से शरीर ठंडा रहता है। गर्मी के मौसम में दस्त और डायरिया की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है। बेल इससे राहत देता है।
  • आम पन्ना बॉडी को हाइड्रेट करता है। डाइजेस्टिव सिस्टम सही रखता है। फूड पॉइजनिंग से बचाता है।
  • हरी सब्जियों में कैरोटीनॉयड होता है, जो बॉडी में विटामिन-A बनाने का काम करता है। कड़ी धूप में ये स्कीन को प्रोटेक्ट करता है। साथ ही शरीर का तापमान सामान्य रखता है।
  • तरबूज, खरबूज, खीरा, ककड़ी जैसे फल खाएं। इनमें पानी होता है, जो डिहाइड्रेशन से बचाता है। तरबूज में मौजूद लाइकोपीन त्वचा को धूप में नुकसान पहुंचाने से बचाता है।

किन लोगों को है लू से सबसे ज्यादा खतरा

  • बुजुर्ग
  • पहले से बीमार लोग
  • कमजोर इम्यून वाले

अंत में जानते हैं हीटवेव पर अलर्ट कहां-कहां जारी किया गया

ज्यादातर राज्यों में पारा नीचे आने के आसार नहीं हैं।

  • उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में अगले 5 दिनों तक लू चलती रहेगी।
  • राजस्थान, मध्य प्रदेश, विदर्भ में अगले 4 दिनों तक लू (हीटवेव) का ऑरेंज अलर्ट जारी है।