पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58661.990.29 %
  • NIFTY17489.30.53 %
  • GOLD(MCX 10 GM)462080.13 %
  • SILVER(MCX 1 KG)59537-0.64 %

Nutrition Week 2021:क्या आप जानते हैं कि हेल्दी डाइट और एक्सरसाइज के बावजूद हो सकते हैं मोटे, 50 के बाद हार्ट डिजीज का खतरा, जानिए बचने के तरीके

13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हम जानते हैं कि डाइट और लाइफस्टाइल हमारे वजन, डाइजेशन, एनर्जी लेवल, इम्यूनिटी, मूड आदि को काफी प्रभावित करता है। फिर भी हम इसे लगातार नजर अंदाज करते हैं।

जसलोक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर की डायटीशियन रक्षा मिश्रा कहती हैं कि फिजिकल और मेंटल हेल्थ के लिए न्यूट्रिशन से भरपूर डाइट बेहद जरूरी है। यह हमें ताजे फल और सब्जियों से आसानी से मिल सकती है, लेकिन अलग-अलग तरीके से तैयार सब्जी या फल शरीर पर अलग प्रभाव डालते हैं। जैसे कि ऑर्गेनिक तरीके से तैयार सब्जियां हमें जो न्यूट्रिशन दे सकती हैं वो पेस्टिसाइड्स डालकर तैयार हुई सब्जियों से नहीं मिल सकता है।

डेली न्यूट्रिशन इनटेक का महत्व

रक्षा कहती हैं कि न्यूट्रिशन एक हेल्दी लाइफस्टाइल का जरूरी पहलू है। फल और सब्जियों के रंग उनके हेल्दी कंपाउंड्स, जैसे कि मेसोन्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सिडेंट की वजह से अलग-अलग होते हैं। दिमाग और बॉडी को हेल्दी रखने का सबसे आसान तरीका है कि आप अपनी डाइट में सभी कलरफुल फलों और सब्जियों को शामिल करें।

तो चलिए सबसे पहले जानते हैं न्यूट्रिशन से भरपूर डाइट लेने के फायदे…

वेट मैनेजमेंट
कई लोग वजन घटाने के लिए फैड डाइट शुरू कर देते हैं, जबकि न्यूट्रिशन से भरपूर डाइट हेल्दी वेट मैनेजमेंट के लिए और बॉडी के सभी फंक्शन को अच्छी तरह से जारी रखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है। हेल्दी वेट मैनेजमेंट के लिए सबसे पहले जंक फूड और अनहेल्दी स्नैक्स से दूरी बना लें तो फैड डाइट की जरूरत नहीं होगी।

क्रॉनिक डिजीज से बचाते हैं
टाइप-2 डायबिटीज और दिल की बीमारी जैसी कई क्रॉनिक डिजीज खराब न्यूट्रिशन और मोटापे के कारण होती हैं। फूड बेस्ड न्यूट्रिशन कई तरह की गंभीर बीमारियों से बचाते हैं जैसे कि किडनी फेल्योर।

इम्यून सिस्टम मजबूत होता है
इम्यून सिस्टम को बेहतर ढंग से काम करने के लिए विटामिन और मिनरल की जरूरत होती है। हेल्दी डाइट इम्यून सिस्टम को अच्छी तरीके से काम करने में मदद करती है और इम्यूनोडेफिशिएंसी की समस्याओं से बचाव करती है।

एज इफेक्ट को कम करती है
कुछ चीजें, जैसे कि टमाटर और बैरीज बढ़ती उम्र में भी आपकी एनर्जी और जोश को बढ़ाए रखते हैं। साथ ही बढ़ती उम्र के इफेक्ट को भी कम करते हैं।

मेंटल हेल्थ के लिए भी फायदेमंद
हेल्दी फूड आपको खुश रखने में भी मदद करता है। प्रोटीन से भरपूर चीजों में पाए जाने वाले आयरन और ओमेगा-3 फैटी एसिड जैसे न्यूट्रिशन आपके मूड को बूस्ट करने या अच्छा करने में मदद करते हैं। यह आपको मेंटल हेल्थ से जुड़ी समस्याओं से बचाते हैं।

स्ट्रेस किस तरह हमारी हेल्थ को प्रभावित करता है-

हेल्दी डाइट और एक्सरसाइज के बावजूद स्ट्रेस कोर्टिसोल और इंसुलिन को बढ़ाता है, जिससे हमारे शरीर में एक्स्ट्रा फैट जमा होने लगता है।

डायटीशियन रक्षा कहती हैं कि अपने न्यूट्रिशन इनटेक को जानने और उसे बैलेंस रखने के लिए एक फूड डायरी बनाएं। इसमें हर बात नोट करें, जैसे कि आप कितना खाते हैं, क्या खाते हैं, एनर्जी लेवल कैसा है, डाइजेशन कैसा है, इमोशनली और फिजिकली आप कैसा महसूस कर रहे हैं।

50 के दशक में महिलाओं के लिए ओमेगा -3 फैटी एसिड जरूरी
50 के दशक में महिलाओं को दिल से जुड़ी बीमारियों का रिस्क बढ़ जाता है, मेनोपॉज शुरू हो जाता है, एस्ट्रोजन का स्तर गिर जाता है और स्मॉल वेसल्स डिजीज का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में इन महिलाओं को ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर डाइट, जैसे फिश को डाइट में शामिल करना चाहिए। इससे कोलेस्ट्रॉल कम होता है और हार्ट हेल्दी रहता है। इसके साथ ही नट्स, सीड्स और लो-फैट मीट, जैसे चिकन को भी डाइट में शामिल करना चाहिए।

जो लोग अपनी डाइट में इन चीजों को शामिल नहीं कर सकते उन्हें रजिस्टर्ड डाइटीशियन न्यूट्रिशनिस्ट यानी RDN से सलाह लेकर सप्लीमेंट शुरू कर देने चाहिए। 60 के दशक में अक्सर लोगों में प्रोटीन कम हो जाता है, साथ ही मांसपेशियों में भी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं। इसलिए हाई प्रोटीन डाइट के साथ-साथ एक्सरसाइज भी जरूरी है।