पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48832.030.06 %
  • NIFTY14617.850.25 %
  • GOLD(MCX 10 GM)470210.83 %
  • SILVER(MCX 1 KG)689701.52 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कॉफी के कई फायदे:कॉफी नहीं पीते हैं तो अब शुरू करें, इसके एंटी-ऑक्सीडेंट खुशी के साथ 10 साल तक उम्र बढ़ा देंगे; बस बनाने का सही तरीका सीख लें

10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आमतौर पर आप कॉफी को ताजगी के लिए पीते होंगे, लेकिन कॉफी कई बीमारियों से लड़ने में फायदेमंद भी हो सकती है। बशर्ते आप जरूरत के मुताबिक ही कॉफी का सेवन करें। सुबह-सुबह एनर्जी के लिए कई लोग अपने दिन की शुरुआत कॉफी से करते हैं, लेकिन अगर आप इसका सेवन गलत समय पर या ज्यादा मात्रा में करते हैं तो यह आपके लिए हानिकारक भी हो सकती है। ब्रिटेन में हुई एक स्टडी से पता चला है कि कॉफी पीने वालों में मौत की आशंका करीब 10 साल तक कम हो जाती है। ये स्टडी करीब पांच लाख लोगों पर की गई।

अगर आप दिन में दो कप से ज्यादा कॉफी पी जाते हैं, तो घबराने की जरूरत नहीं है। अमेरिकी रिसर्च का दावा है कि कॉफी पीने के गुण उन लोगों में भी पाए गए हैं जिनमें अनुवांशिक खामियां थीं। कॉफी न पीने वालों की तुलना में कॉफी पीने वालों की उम्र लंबी होती है। टफ्ट्स यूनिवर्सिटी की न्यूट्रिशन एक्सपर्ट एलिस लिष्टेनश्टाइन कहती हैं कि कॉफी पीने से ही जवान रहा जा सकता है। इसलिए कॉफी पीनी चाहिए। हालांकि अमेरिका के नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट की रिसर्चर एरिका लॉफ्टफील्ड के मुताबिक अब तक यह नहीं पता चल पाया है कि किस वजह से कॉफी पीने से उम्र लंबी होती है।

कॉफी के एंटीऑक्सीडेंट खुश रहने में मदद करते हैं
कॉफी में एक हजार से भी अधिक केमिकल कंपाउंड पाए जाते हैं जिनमें एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो कोशिकाओं की रक्षा करते हैं और खुश रहने में भी मदद करते हैं। एक अन्य स्टडी में पाया गया है कि कॉफी पीने से डायबिटीज से बचा जा सकता है क्योंकि इसे पीने से शरीर इंसुलिन को सही तरीके से इस्तेमाल करता है। पर कॉफी में एक्स्ट्रा फैट या कैलोरी डालना नुकसानदेह साबित हो सकता है।

अमेरिका के नेशनल कैंसर स्कूल में रिसर्चर एरिका लॉफ्टफील्ड ने कॉफी को लेकर स्टडी की। इसके मुताबिक यदि हम 24 घंटे में 4 से 5 कप यानी 400 मिलीग्राम कॉफी पीते हैं तो इसके कई फायदे हैं।

कॉफी कैंसर के खतरे को कम करती है

शोधकर्ताओं ने अमेरिका, यूरोप और जापान में अलग-अलग जगहों पर 16 स्टडी कीं। इसमें 10 लाख लोगों को शामिल किया। इसमें से 57 हजार लोग ऐसे थे, जो कैंसर से पीड़ित थे। शोधकर्ताओं ने ज्यादा कॉफी पीने वालों की कम कॉफी पीने वालों से तुलना की तो पाया कि ज्यादा कॉफी पीने वालों में कैंसर का रिस्क 12% तक कम हुआ। इन लोगों का 20% तक वेट लॉस भी हुआ।

सालों से लोग यह मानते आए हैं कि कॉफी कैंसर का कारण बन सकती है, लेकिन 2015 में अमेरिकी एडवाइजरी कमेटी ने डाइट को लेकर गाइडलाइन बनाई। जिसमें पहली बार कॉफी के नॉर्मल यूज को हेल्दी डाइट का हिस्सा माना गया। इसके बाद से लोगों की सोच बदल गई।

2017 में ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ने लिखा कि कॉफी का नॉर्मल यूज फायदेमंद ज्यादा और नुकसानदेह कम है। जर्नल के लेखकों ने 200 अध्ययनों का रिव्यू किया और फिर बताया कि सामान्य तौर पर कॉफी पीने वालों को हृदय से जुड़े रोग कम होते हैं।

सेहतमंद रहने के लिए एक दिन में कितने कप कॉफी सही?

स्टडी की रिपोर्ट के मुताबिक, लोगों को सीमित मात्रा में ही कॉफी का सेवन करना चाहिए। रिपोर्ट में बताया गया है कि लोगों को एक दिन में सिर्फ 5 कप कॉफी ही पीनी चाहिए। 6 कप या इससे ज्यादा कॉफी पीने से दिल की बीमारियों का खतरा 22 फीसदी तक बढ़ जाता है। आप भी अगर कॉफी के शौकीन हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि आप एक दिन में कितने कप कॉफी पीते हैं।

कॉफी बनाने का तरीका उसे फायदेमंद या नुकसानदेह बनाता है

  • आप किस तरह की कॉफी बनाते हैं, डार्क या हल्की? कॉफी बीन्स को ग्राइंड करके या नॉर्मल? इन तरीकों से कॉफी के टेस्ट पर फर्क पड़ता है, लेकिन अमेरिकी नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट में सीनियर रिसर्चर नियल फ्रीडमैन कहती हैं कि कॉफी बनाने के तरीके से इससे होने वाले फायदों पर भी फर्क पड़ता है। कितना फर्क पड़ता है, अभी इस पर अध्ययन जारी है।
  • फ्रीडमैन उदाहरण देते हुए बताती हैं कि बहुत से लोग कॉफी बीन्स को रोस्ट करके कॉफी बनाते हैं, जो कॉफी से क्लोरोजेनिक एसिड की मात्रा को कम कर देता है। एस्प्रेसो कॉफी में पानी का बहुत कम इस्तेमाल किया जाता है, जिससे उसमें कॉफी के कंपाउंड्स की मात्रा बहुत ज्यादा होती है।

जल्दबाजी में कॉफी बनाकर पीने से ज्यादा एसिड बनता है

जामा इंटरनल मेडिसिन ने ब्रिटेन में 5 लाख लोगों की कॉफी हैबिट का अध्ययन किया। इसमें पाया कि अलग-अलग तरीकों से कॉफी बनाकर पीने से लोगों में कोई बड़ा फर्क नहीं पड़ा, लेकिन क्विक कॉफी से लोगों में ज्यादा एसिड बनता दिखा। स्टडी में शामिल असिस्टेंट प्रोफेसर सी. कोर्नेलिस के मुताबिक अलग-अलग तरीकों से कॉफी बना कर पीने से कोलेस्ट्रॉल लेवल ऊपर-नीचे हो सकता है।

खबरें और भी हैं...