पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57260.580.27 %
  • NIFTY17053.950.16 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47964-0.39 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62820-0.87 %

जरूरत की खबर:जानिए कौन-कौन से फैक्टर माइग्रेन का बढ़ावा देते हैं; क्या हैं इसके लक्षण और कैसे इससे बचा जाए

8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण कई लोगों में माइग्रेन देखने को मिलता है। माइग्रेन एक तरह का असहनीय सिरदर्द है, जो आमतौर पर सिर के आधे हिस्से में होता है, लेकिन कभी-कभी सिर के पूरे हिस्से में भी दर्द होता है। माइग्रेन नॉर्मल सिरदर्द से अलग है, लेकिन इसे आम सिरदर्द समझकर कई बार नजरअंदाज कर दिया जाता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, माइग्रेन का सटीक कारण पता करना मुश्किल है पर खराब डाइट और गड़बड़ लाइफस्टाइल इसके लिए बहुत हद तक जिम्मेदार है।

ज्यादातर माइग्रेन स्ट्रेस, नींद की कमी, ज्यादा काम, कम पानी पीने और टाइम से खाना न खाने की वजह से ट्रिगर होता है। कई लोगों में माइग्रेन का कारण जेनेटिक भी होता है। माइग्रेन किसी भी उम्र में हो सकता है। इसके कई स्टेज हैं, ध्यान न देने पर ये लाइफ टाइम बना भी रह सकता है।

हेल्थलाइन की रिपोर्ट के अनुसार आइए जानते हैं माइग्रेन के ट्रिगर होने के कारण, इसके लक्षण, अलग-अलग स्टेज और बचने के उपाय ...

सिरदर्द बहुत ही आम बीमारी है, हम सबको कभी न कभी सिरदर्द की शिकायत होती है। ऐसे में कैसे पहचाना जाए कि ये नॉर्मल सिरदर्द है या माइग्रेन। इनमें से कोई एक या एक से ज्यादा लक्षणों को पहचानकर माइग्रेन का अंदाजा लगाया जा सकता है।

माइग्रेन की गंभीरता को चार स्टेज में देखा जाता है। माइग्रेन में सिरदर्द कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों तक बना रहता है। सही समय पर इलाज न मिलने के कारण माइग्रेन का दर्द कई दिनों तक तकलीफ दे सकता है।

लाइफ स्टाइल और डाइट में कुछ बदलाव से माइग्रेन में काफी राहत मिलती है। कुछ खास उपायों से माइग्रेन होने के खतरे को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। हालांकि दर्द होने की स्थिति में डॉक्टर की सलाह से ही दवाइयां लें।