घरेलू कर्मचारियों को दोबारा कैसे बुलाएं /एक्सपर्ट्स ने बताईं 5 बातें; उनपर शक नहीं भरोसा करें, संक्रमण के जोखिम को लेकर भी खुलकर करें बातचीत

  • कर्मचारियों की आर्थिक मदद करें, उन्हें मास्क, ग्लव्ज और पीपीई जैसे सुरक्षा उपकरण मुहैया कराएं
  • किसी व्यक्ति के संपर्क में आने से बचने के लिए हो सके तो काम के दौरान घर से बाहर चले जाएं
  • कर्मचारियों को काम के लिए बेहतर वेंटिलेशन वाली जगह दें, क्योंकि उन्हें संक्रमण होने का ज्यादा खतरा

मनी भास्कर

Jul 01,2020 06:22:50 PM IST

तारा पार्कर पोप. कोरोनावायरस महामारी फैलने के बाद सरकार ने लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के आदेश दिए थे। इसके बाद से ही दुनियाभर में लोगों ने घरेलू कर्मचारियों को काम के लिए मना कर दिया गया था। अब जब देश में अनलॉक-2 शुरू हो चुका है तो कई लोग इस बात को लेकर चिंतित हैं कि क्या बाई, नाई, प्लंबर, सब्जीवाले, दूधवाले की घर में वापसी सुरक्षित होगी या नहीं।

याद रखें कर्मचारी ज्यादा जोखिम में हैं
अगर आप एम्पलॉयर हैं और इस मामले अपने स्वास्थ्य को लेकर ज्यादा चिंतित हैं, तो याद रखें कर्मचारियों को संक्रमित होने का ज्यादा जोखिम है। ऐसे में कुछ सुरक्षा के उपाय, जैसे मास्क-ग्लव्ज देना, हो सके तो आने-जाने की व्यवस्था करना, बीमार होने पर पेड लीव देकर आप उन्हें हेल्दी रख सकते हैं।

फारोस ग्लोबल हेल्थ एडवाइजर्स में मैनेजिंग डायरेक्टर और येल यूनिवर्सिटी में लेक्चरर शान सो लिन कहते हैं कि निश्चित रूप से जोखिम उन्हें बीमारी की ओर ले जाता है और यह जरूरी नहीं की वे आपको संक्रमित करें। कई सबूत हैं, जिसमें लोगों से ज्यादा मिलने वाले कर्मचारी बीमार हो रहे हैं, न कि ग्राहक।

घरेलू कर्मचारियों पर भरोसा बढ़ाने के लिए 5 बातों पर अमल करें-

1. बातचीत और भरोसा सबसे ज्यादा जरूरी
आमतौर पर घरेलू कर्मचारी अपने स्वास्थ्य, सुरक्षा और वेतन के बारे में बात करने में सहज नहीं होते हैं। ऐसे में एम्पलॉयर को बातचीत की शुरुआत करनी चाहिए। अपने परिवार को सुरक्षित रखने का सबसे अच्छा तरीका है सिक लीव देना।

खुद के या परिवार के किसी सदस्य के बीमार होने की स्थिति में कर्मचारियों को घर पर ही रहने के लिए कहें। अपने कर्मचारी को यह भरोसा दिलाएं कि अगर उनके परिवार में या वे खुद बीमार हो गए तो उनका वेतन प्रभावित नहीं होगा। डॉक्टर सो लिन कहते हैं कि भरोसा दोनों तरफ से होना होगा। अगर आपके घर में भी कोई बीमार है तो यह बात हाउसकीपर को बतानी होगी।

2. हो सके तो काम के दौरान अलग रहें
जो लोग किसी खराब वेंटिलेशन वाली बंद जगह पर संक्रमित व्यक्ति के साथ ज्यादा वक्त बिताते हैं तो उनमें इंफेक्शन की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे काम जिसमें ह्यूमन कॉन्टेक्ट की जरूरत नहीं है, घर में रहने वालों को काम के दौरान बाहर निकल जाना चाहिए।

वर्जीनिया टेक में एयरोसोल साइंटिस्ट लिंसे मार के मुताबिक, वेंटिलेशन को बेहतर बनाने के लिए ज्यादा से ज्यादा दरवाजे और खिड़कियां खोलने की कोशिश करें। अगर घर से बाहर जाना संभव नहीं हो तो सभी लोगों को एक अलग जगह या कमरे में रहने की कोशिश करनी चाहिए।

हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के डिपार्टमेंट ऑफ पॉपुलेशन मेडिसिन में असिस्टेंट प्रोफेसर और इंफेक्शियस डिसीज एपिडेमियोलॉजिस्ट जूलिया मार्कस के मुताबिक, घर के सभी सदस्यों को बाहर करना ही सबसे सुरक्षित तरीका है। क्योंकि इससे किसी भी इंसान में सीधा संपर्क नहीं होगा। पेमेंट रिपोटली करें और आपने किसी भी व्यक्ति से सीधा कॉन्टेक्ट न रखकर जोखिम को कम कर दिया है।

3. मास्क और ग्लव्ज मुहैया कराएं
एम्पलॉयर्स को कर्मचारियों को मास्क और ग्लव्ज देना चाहिए। इसके साथ ही उन्हें घर में पहनने के लिए भी करें। मास्क और ग्लव्ज कर्मचारी की सुरक्षा के लिए हैं। घर में सांस के जरिए वायरस का जोखिम कम होने के बावजूद कर्मचारी अपने कामों के कारण रिस्क पर होते हैं। मास्क और ग्लव्ज कर्मचारियों को चेहरा छूने से बचाने में भी मदद करेगा।

डॉक्टर मार्कस के मुताबिक वे लोग आपके घर में हर चीज पर खांसने के लिए नहीं आ रहे हैं। संभावना है कि सफाई के बाद सतहों पर कुछ ड्रॉपलेट्स रह सकते हैं, लेकिन कर्मचारी से संक्रमण फैलने के लिए ऐसी कई घटनाओं की जरूरत होगी।

4. कर्मचारियों से बात करें
अगर वे ज्यादा जोखिम वाले पेशे में हैं तो एम्प्लॉयर्स को यह बात कर्मचारियों को बताना चाहिए। इसके अलावा उन्हें यह भी बताएं कि वे महामारी के दौरान सुरक्षित रहने के लिए क्या उपाय कर रहे हैं।

नेशनल डॉमेस्टिक वर्कर्स एलायंस की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर पू कहते हैं कि हम अपने सदस्यों से यह सुन रहे हैं कि सुरक्षा की जिम्मेदारी का भार पूरी तरह वर्कर पर है। एम्प्लॉयर्स उम्मीद कर रहे हैं कि बिना सैलरी बढ़ाए कर्मचारी टेस्ट कराएं, खुद अपना टैक्सी किराया दें और अपना पीपीई किट लाएं।

5. घरेलू कर्मचारियों की चिंता नहीं करते कई लोग
बेटेनिया शेफर्ड फिलाडेल्फिया में हाउस क्लीनर का काम करती हैं। उन्होंने मार्च और अप्रैल में काम नहीं किया और कंस्ट्रक्शन का काम करने वाले उनके पति के पास भी काम नहीं था। शेफर्ड ने दोबारा मई में घरों में सफाई करना शुरू किया, लेकिन काम धीमा था। उनके घर रहने के दौरान केवल एक परिवार ने उन्हें भत्ता दिया। जबकि किसी अजनबी ने फोन का बिल भरने में मदद की।

शेफर्ड कहते हैं कि कई लोग अपने घरेलू कर्मचारियों की चिंता नहीं करते हैं। हाउस क्लीनर सबसे ज्यादा जरूरी है, इस महामारी के दौरान किसी भी चीज से ज्यादा कीमती। क्योंकि हम सफाई करते हैं ताकी कुछ भी दूषित न रह जाए। उन्होंने घरेलू कर्मचारियों के लिए बनाए गए फंड से खुद मास्क और ग्लव्ज खरीदे हैं, लेकिन उन्हें कोरोनावायरस के संपर्क में आने का डर है। क्योंकि वे रेंटल होम साफ करती हैं, जहां दूसरे देशों से लोग आते हैं।

आया और घरेलू स्वास्थ्य कर्मचारी ज्यादा जोखिम में होते हैं, क्योंकि उनका काम बच्चों और घर के बुजुर्गों के नजदीक रहना है। इन हालात में परिवार को कर्मचारी को फैमिली बबल में शामिल करने के बारे में सोचना चाहिए। उन सभी जोखिमों के बारे में विचार करें जो कर्मचारी आपके घर लेकर आए हैं या आपका घर उनके परिवार तक पहुंचा रहा है। अगर हो सके तो उनके सुरक्षित आने-जाने की व्यवस्था करें।

कम्युनिटी में कोरोना पॉजिटिव ज्यादा हैं तो सतर्क हो जाएं
अपने इलाके और समुदाय के हाल पर भी गौर करें। अगर केस बढ़ने लगें या पॉजिटिविटी रेट 5 फीसदी से ज्यादा हो जाए तो आप क्वारैंटाइन नियमों को सख्त करना चाहेंगे। अपने कर्मचारी को भी ऐसा करने दें। पू कहती हैं कि परिवार और कर्मचारियों के बीच अच्छी बातचीत को बढ़ावा देना चाहिए। जोखिम को लेकर खुलकर बात करें।

X

Recommended News

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.