• Home
  • Personal finance
  • Before taking a gold loan and a personal loan, understand what is the difference between the two and which is better, interest rates and processing fees are important.

पर्सनल फाइनेंस /गोल्ड लोन और पर्सनल लोन लेने से पहले समझिए क्या है दोनों में अंतर और कौन सा है बेहतर, ब्याज दरें और प्रोसेसिंग फीस हैं महत्वपूर्ण

कोरोना के मद्देनजर आनेवाले समय में बैंक और एनबीएफसी को गोल्ड लोन के सेगमेंट में अच्छा अवसर दिख रहा है कोरोना के मद्देनजर आनेवाले समय में बैंक और एनबीएफसी को गोल्ड लोन के सेगमेंट में अच्छा अवसर दिख रहा है

  • गोल्ड लोन तब लिया जाता है जब आपको पैसे की बहुत ज्यादा जरूरत हो
  • होम लोन या कार लोन जैसे प्रोडक्ट इमर्जेंसी जैसे समय से बिलकुल अलग हैं

मनी भास्कर

Jul 03,2020 08:26:01 PM IST

मुंबई. वैसे तो लोन लेना कोई बहुत अच्छी बात नहीं है। पर हर जिंदगी का सच यही है कि बिना लोन जिंदगी गुजरती नहीं है। आपके जीवन में तमाम तरह के ऐसे अवसर आते हैं जब आप लोन लेने की सोचते हैं। यह होम लोन हो सकता है, कार लोन हो सकता है, क्रेडिट लोन हो सकता है या कोई और लोन हो सकता है। लेकिन पर्सनल या गोल्ड लोन आप तभी लेते हैं जब आपको कोई इमर्जेंसी हो। अगर आप इन दोनों लोन को लेना चाहते हैं तो हम बता रहे हैं कि इनमें क्या अंतर है और आपके लिए कौन सा लोन बेहतर है।

कम पड़ रहे पैसों को पूरा करने में मदद करता है गोल्ड लोन

गोल्ड लोन और पर्सनल लोन दोनों बहुत ही कम समय में आपको उपलब्ध होते हैं। यह आपके लिए इमर्जेंसी या फिर कहीं कम पड़ रहे पैसों को पूरा करने में मददगार सिद्ध हो सकते हैं। इसलिए जिनके पास ज्यादा सोना है वे इन दोनों में से कौन सा लोन लेना है, इसे लेकर फैसला कर सकते हैं। आइए जानते हैं इन दोनों लोन के बारे में कि इनको कैसे लिया जा सकता है।

लोन के प्रोसेसिंग का समय

पर्सनल लोन लेनेवाले को जरूरत होती है कि वह अपनी पे स्लिप, आईटीआर फार्म्स और अन्य तमाम डॉक्यूमेंट के साथ लोन के आवेदन को फाइल करे। इन डॉक्यूमेंट्स का वेरीफिकेशन करने में थोड़ा समय लगता है। पर्सनल लोन मिलने में 2 से 7 दिन का समय लगता है। हालांकि कुछ बैंक या एनबीएफसी यह दावा करती हैं कि वे बहुत ही कम समय में पर्सनल लोन को पास कर देती हैं।

कितनी हो सकती है लोन की राशि

पर्सनल लोन में आपको 50 हजार से 20 लाख रुपए तक का कर्ज मिल सकता है। यह आपकी योग्यता पर निर्भर करता है। कुछ एनबीएफसी या बैंक यह दावा करते हैं कि वे 30-35 लाख रुपए तक का पर्सनल लोन देते हैं। यह आमतौर पर कर्ज की अवधि और कर्ज लेनेवाले के रीपेमेंट की क्षमता पर निर्भर है।

लोन के रीपेमेंट की क्षमता

गोल्ड लोन के एवज में लिया जाने वाला कर्ज एक सुरक्षित कर्ज माना जाता है। गोल्ड के वैल्यूएशन और जमा कराई गई गारंटी के आधार पर तय होता है। यह भी ध्यान रखना चाहिए कि आरबीआई ने सोने के मूल्य का केवल 75 प्रतिशत ही लोन देने का नियम बनाया है।

गोल्ड और पर्सनल लोन की ब्याज दर

पर्सनल लोन की ब्याज दर सालाना 8.45 से 26 प्रतिशत तक होती है। यह कर्ज की अवधि पर निर्भर होता है। साथ ही इसमें मूल्य के आधार पर लोन का रेशियो और रीपेमेंट के विकल्प को भी देखा जाता है। सोने के एवज में लिए जाने वाले कर्ज की ब्याज दर तब ज्यादा होती है जब आप ज्यादा समय के लिए कर्ज लेते हैं। जिन लोगों की अच्छी क्रेडिट प्रोफाइल है, उनके लिए ब्याज दरें थोड़ी कम हो सकती हैं। पर्सनल और गोल्ड लोन दोनों में ब्याज दरों में बहुत ही मामूली फर्क होता है।

जिनकी क्रेडिट प्रोफाइल कमजोर होती है उनके लिए गोल्ड लोन थोड़ा सस्ता होता है।

कर्ज का समय

पर्सनल लोन का समय एक से पांच साल का होता है। हालांकि कुछ बैंक और एनबीएफसी थोड़ा ज्यादा समय के लिए भी कर्ज देते हैं। यह सात साल तक का भी हो सकता है। गोल्ड लोन के लिए समय सात दिन से तीन साल या फिर पांच साल तक भी हो सकता है। हालांकि आप जितने ज्यादा समय के लिए कर्ज लेंगे, आपको ब्याज उतना ज्यादा देना होगा। जो लोग एक से दो साल के अंदर कर्ज लौटाना चाहते हैं उनके लिए गोल्ड लोन थोड़ा कम लागत पर मिल सकता है।

जो लोग ज्यादा कर्ज चाहते हैं और लंबे समय के लिए चाहते हैं उनके लिए पर्सनल लोन बेहतर साबित हो सकता है।

लोन का रीपेमेंट

पर्सनल लोन का रीपेमेंट आपको ईएमआई के जरिए करना होता है। इसमें ब्याज और प्रिंसिपल दोनों शामिल होते हैं। दूसरी ओर सोने के एवज में कर्ज रीपेमेंट के तमाम विकल्प देता है। इसमें आप ईएमआई के अलावा भी पेमेंट कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर कुछ गोल्ड लोन देनेवाले कर्ज लेने वालों को यह सुविधा देते हैं कि वे केवल ब्याज वाला ही हिस्सा महीने में दें। जबकि मूलधन या प्रिंसिपल समय समाप्त होने पर दें। यानी मैच्योरिटी पर आप दे सकते हैं।

कुछ लोन देनेवाले ब्याज को पहले ही ले लेते हैं। अगर आप सोने के एवज में कर्ज पर कम अवधि में चुकाना चाहते हैं तो ईएमआई के अलावा दूसरा विकल्प चुन सकते हैं।

प्रोसेसिंग फीस अलग-अलग

पर्सनल लोन के लिए प्रोसेसिंग फीस आमतौर पर कुल लोन राशि का 3 प्रतिशत होती है। सोने के एवज में कर्ज पर कुछ बैंक या एनबीएफसी 0.10 से 2 प्रतिशत तक का प्रोसेसिंग फीस वसूलते हैं। इसलिए आपको पर्सनल लोन या गोल्ड लोन लेने से पहले दोनों के विकल्प को देखना चाहिए। आपकी अगर प्रोसेसिंग फीस ज्यादा है तो यह आपके लिए थोड़ा महंगा हो सकता है।

ज्यादा समय के लिए पर्सनल लोन और कम समय के लिए गोल्ड लोन

हालांकि गोल्ड लोन और पर्सनल लोन दोनों आपकी जरूरतों और प्रोफाइल पर निर्भर करता है। कुल मिलाकर पर्सनल लोन उनके लिए सही है जो ज्यादा और लंबे समय के लिए कर्ज चाहते हैं। गोल्ड लोन उनके लिए है जो कम पैसा और कम समय के लिए चाहते हैं और जिनकी रीपेमेंट की क्षमता अच्छी हो। पर्सनल लोन उनके लिए सही है जो अच्छी क्रेडिट प्रोफाइल रखते हैं।

X
कोरोना के मद्देनजर आनेवाले समय में बैंक और एनबीएफसी को गोल्ड लोन के सेगमेंट में अच्छा अवसर दिख रहा हैकोरोना के मद्देनजर आनेवाले समय में बैंक और एनबीएफसी को गोल्ड लोन के सेगमेंट में अच्छा अवसर दिख रहा है

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.