पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58490.93-0.89 %
  • NIFTY17396.9-1.07 %
  • GOLD(MCX 10 GM)46149-0.06 %
  • SILVER(MCX 1 KG)59920-1.88 %

चिप की कमी का असर:टोयोटा सालाना 3 लाख व्हीकल मैनुफैक्चरिंग में करेगी कटौती, सितंबर में 70 हजार यूनिट्स प्रोडक्शन पर होगा असर

नई दिल्ली10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सेमीकंडक्टर की कमी से ऑटोमोबाइल कंपनियां अब तक उबर नहीं पाई हैं। अगस्त में भले ही कई कंपनियों को सालाना और मासिक आधार पर ग्रोथ मिली हो, लेकिन उन्होंने इस बात को माना है कि सेमीकंडक्टर की वजह से ये ग्रोथ कम रही। सितंबर में भी सेमीकंडक्टर का असर कई कंपनियों पर देखने को मिल रहा है।

मारुति और महिंद्रा के बाद अब टोयोटा मोटर ने भी चिप की कमी की वजह से सालाना 3 लाख व्हीकल मैन्युफैक्चरिंग में कटौती करने का ऐलान किया है।

अक्टूबर तक 3.30 लाख यूनिट्स के प्रोडक्शन पर होगा असर
इसकी वजह से ग्लोबल लेवल पर सितंबर में 70 हजार यूनिट्स प्रोडक्शन पर असर होगा, जिसमें 1.5 लाख यूनिट्स जापान और 40,000 यूनिट्स अन्य देशों की होंगी। वहीं अगस्त की तुलना में अक्टूबर में 3.30 लाख यूनिट्स के प्रोडक्शन पर असर होगा, जिसमें 30 हजार यूनिट्स जापान और 1.8 लाख यूनिट्स अन्य देशों की होगी।

भारत में इसके असर को कंपनी ने जानकारी नहीं दी
हालांकि भारत में बिदादी (कर्नाटक) में स्थित इसके प्रोडक्शन प्लांट पर क्या असर होगा इस बात की जानकारी कंपनी नहीं दी है। कंपनी भारत में टोयोटा इनोवा क्रिस्टा, फॉर्च्यूनर, अर्बन क्रूजर, ग्लैंजा, यारिस, कैमरी और वेलफायर मॉडल्स बेचती है, जो कि देश में मैनुफैक्चर भी होते हैं।

टोयोटा ने इसकी वजह दक्षिण पूर्व एशिया में कोविड -19 के बढ़ते मामले को बताया है। प्रोडक्शन में कटौती के साथ, टोयोटा का लक्ष्य अब अगले साल 31 मार्च तक 90 लाख व्हीकल का ही प्रोडक्शन करेगा।

महिंद्रा भी कर चुकी है 7 दिन का 'नो प्रोडक्शन डे' घोषित
महिंद्रा एंड महिंद्रा ने अनाउंस किया है उसकी ऑटोमोटिव डिवीजन को सेमीकंडक्टर्स की आपूर्ति का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में इस महीने करीब 7 दिन 'नो प्रोडक्शन डे' रहेंगे। कंपनी ने एक्सचेंज फाइलिंग में कहा था कि चिप की कमी के चलते वो अपने ऑटोमोटिव डिवीजन प्लांट्स में 'नो प्रोडक्शन डे' मनाएगी। इस वजह से सितंबर में उसके प्रोडक्शन वॉल्यूम पर 20 से 25% की कमी का अनुमान है।

सेमीकंडक्टर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में इस्तेमाल होते हैं
सेमीकंडक्टर सिलिकॉन चिप होती है। ये गाड़ी, कंप्यूटर और सेलफोन से लेकर कई दूसरे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में इस्तेमाल होते हैं। ये बेहतर तरीके से कंट्रोल और मेमोरी फंक्शन से संबंधित काम करते हैं।

कुछ महीनों से ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री में सेमीकंडक्टर का इस्तेमाल पूरी दुनिया में बढ़ा है, क्‍योंकि नए मॉडल ब्लूटूथ कनेक्टिविटी, नेविगेशन और हाइब्रिड-इलेक्ट्रिक सिस्टम जैसी इलेक्ट्रॉनिक सर्विस से लैस हैं।

खबरें और भी हैं...