पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नहीं छूट रही कमजोर पासवर्ड बनाने की आदत:password और 123456 जैसे पासवर्ड बना रहे भारतीय, एक सेकेंड में हैक हो जाते हैं

नई दिल्ली22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

साइबर क्राइम की घटनाएं बढ़ने के बावजूद भी भारतीय यूजर अपने पासवर्ड को स्ट्रॉन्ग बनाने पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। पासवर्ड मैनेजमेंट कंपनी नॉर्डपास की एक रिपोर्ट के अनुसार पासवर्ड के रूप में सबसे ज्यादा 'password' का ही इस्तेमाल किया गया। 'password' को 34.90 लाख बार पासवर्ड बनाया गया। वहीं 123456 को 1.66 लाख बार पासवर्ड बनाया गया।

वहीं इस साल 'bigbasket' और 'googledumy' भी भारत में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले पासवर्ड में शामिल हैं। इसके अलावा 123456 और 12345678 के पासवर्ड अभी भी लोगों की पसंद बने हुए हैं।

अमेरिका, UK और जापान के लोग भी स्ट्रॉन्ग पासवर्ड बनाने में फिसड्डी
30 देशों के लोगों पर किए गए रिसर्च में सामने आया है कि UK में सबसे ज्यादा पासवर्ड liverpool, qwerty, guest, arsenal, chelsea, liverpool1, password1, football, cheese, thoma और london शब्द हैं।

वहीं जापान में Going ahead, 123456, akubisa2020, sakura, diskunion, ilove12345@, doraemon और daisuki सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले पासवर्ड हैं। अमेरिका की बात करें तो यहां guest, 12345’, baseball, football, soccer, jordan23, iloveyou और shadow में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले पासवर्ड हैं।

एक सेकेंड में हैक हो जाते हैं ऐसे पासवर्ड
रिसर्च में सामने आया है कि जो पासवर्ड सबसे ज्यादा पॉपुलर हैं वे ही हैक करने में सबसे ज्यादा आसान हैं। कुल मिलाकर, भारत में 10 में से 6 पासवर्ड ऐसे हैं जिन्हें एक सेकेंड से भी कम समय में हैक किया जा सकता है।

पासवर्ड बनाने में ये गलतियां न करें

  • आसान शब्दों वाला पासवर्ड नहीं बनाएं।
  • पासवर्ड में 8 से कम कैरेक्टर का यूज नहीं करें।
  • पासवर्ड में अपने नाम, बर्थ डेट का इस्तेमाल नहीं करें।
  • अपने यूजर नेम को भी पासवर्ड नहीं बनाएं।
  • पासवर्ड कभी किसी से पूछकर नहीं बनाएं।

पासफ्रेज का भी इस्तेमाल कर सकते हैं
अपने डेटा और डिवाइस को प्रोटेक्ट करने के लिए पासवर्ड की जगह पासफ्रेज का इस्तेमाल कर रहे हैं। दूसरे पासवर्ड की तुलना में इन्हें बनाना आसान, लेकिन क्रैक करना मुश्किल हो जाता है। खास बात है कि अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर इसका पासवर्ड बनाना और याद रखना आसान होता है। उदारहण से समझिए...

मान लीजिए आप भोपाल में रहते हैं। तब आपने I live in bhopal में से सभी के पहले शब्द यानी Ilib को ले लिया। अब इसमें जीमेल के हिसाब से g या फेसबुक का f या किसी दूसरे ऐप का पहला शब्द ले लिया। साथ ही हमेशा याद रखने वाले नंबर्स भी जोड़ दिए। इसमें आपकी डेट ऑफ बर्थ या ईयर शामिल हो सकती है। तब आपका जीमेल का पासवर्ड Ilibg2015 या फेसबुक का पासवर्ड Ilibf2015 हो सकता है। इसी तरह आप पासफ्रेज बना सकते हैं।