पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48735.90.09 %
  • NIFTY14707.050.07 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475690 %
  • SILVER(MCX 1 KG)698750 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भारत में रिस्टेबल की डिमांड:2020 में 54 लाख से ज्यादा स्मार्टवॉच और फिटनेसबैंड बिके, कोरोनाकाल में फिट रहने से मिली शानदार ग्रोथ

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

2020 में कोरोनावायरस की वजह से लगभग सभी इंडस्ट्री को नुकसान हुआ। हालांकि, इस बीच कई इंडस्ट्री का मुनाफा कई गुना बढ़ गया। बढ़ने वाली इंडस्ट्री में एक नाम रिस्टेबल का भी है। भारत में रिस्टेबल (फिटनेस बैंड, स्मार्टवॉच) मार्केट बीते साल 3,800 करोड़ रुपए को क्रॉस कर गया। टेकआर्क (techARC) की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में कुल 5.4 मिलियन (करीब 54 लाख) रिस्टेबल यूनिट का शिपमेंट हुआ।

चीनी कंपनी शाओमी और रियलमी कैलेंडर ईयर में वॉल्यूम और वेल्यू के लिए टॉप-5 में लीडर्स रहे। स्मार्ट एक्सेसरीज ब्रांड नोइस 2020 में वॉल्यूम को हिसाब से लिस्ट में तीसरे नंबर पर रहा। हालांकि, रेवेन्यू के मामले में एपल और सैमसंग सबसे आगे रहे।

स्मार्टफोन को बार-बार अनलॉक नहीं करना पड़ता
टेकआर्क के फाउंडर और चीफ एनालिस्ट, फैजल कावोसा ने कहा, "रिस्टेबल हेल्थ और फिटनेस ट्रैकिंग को लेकर यूजर्स के लिए अब जरूरी गैजेट बन गया है। साथ ही फोन पर आने वाले मैसेज और नोटिफिकेशन भी इसी पर दिख जाते हैं। ऐसे में स्मार्टफोन को बार-बार अनलॉक नहीं करना पड़ता। सिर्फ जरूरी रिप्लाई या कॉल अटैंड करने के लिए ही फोन की जरूरत होती है।"

2020 में इस वजह से बड़ा रिस्टेबल का मार्केट

कोरोना की वजह से फिट रहने के लिए लॉकडाउन में फिटनेस डिवाइसेस की खरीद में 55% की बढ़ोतरी हुई। सेंसर टावर के मुताबिक कोरोना काल में फिटनेस ऐप डाउनलोडिंग में 47% की बढ़ोतरी दर्ज की गई। इस दौरान 65.6 करोड़ लोगों ने फिटनेस ऐप डाउनलोड किए। मई 2020 में करीब 34 लाख लोगों ने स्ट्रावा ऐप डाउनलोड किया। बीते साल 7 करोड़ से ज्यादा लोगों ने फिट रहने के लिए स्मार्टवॉच और फिटनेस बैंड खरीदे। 2019 की तुलना में यह आंकड़ा 33% ज्यादा रहा।

2020 में रिस्टबैंड्स की तुलना में स्मार्टवॉच ज्यादा बिकीं

  • रिस्टबैंड: 2019 की तुलना में 2020 में रिस्टबैंड्स की बिक्री में 34.3% की गिरावट दर्ज की गई। पिछले साल कुल 33 लाख रिस्टबैंड्स की बिक्री हुई। भारत में रिस्टबैंड्स की बिक्री शुरू होने से लेकर अब तक 2020 पहला ऐसा साल रहा जिसमें इस कैटेगरी में गिरावट देखने को मिली। इस गिरावट के मुख्य वजह यह है कि इसी कीमत में अब कई वॉच बाजार में उपलब्ध हैं। 46.7% मार्केट शेयर के साथ शाओमी ने 2020 में इस कैटेगरी को लीड किया। रियलमी 12.3% मार्केट शेयर के साथ दूसरे स्थान पर रही।
  • स्मार्टवॉच: एक ओर जहां रिस्टबैंड्स की मांग घट रही थी, वहीं दूसरी ओर वॉच की मांग काफी बढ़ गई। पिछले साल कुल 26 लाख वॉच बिकीं। इसमें सालाना 139.3% की वृद्धि दर्ज की गई। 2020 के चौथी तिमाही में 280% की ग्रोथ के साथ देश में 13 लाख स्मार्टवॉच बिकीं। 24.5% मार्केट शेयर के साथ नॉइज ने कैटेगरी को लीड किया, जिसके बाद 15.7% शेयर के साथ रियलमी रही। वॉच कैटेगरी में स्मार्टवॉच की हिस्सेदारी 24.5% रही।

इंडियंस को पंसद आई एपल वॉच
इंटरनेशनल डेटा कॉर्पोरेशन (IDC) की रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 में वियरेबल सेगमेंट में अमेरिकन कंपनी एपल का दबदबा रहा। स्मार्टवॉच कैटेगरी में उसका ग्लोबल मार्केट शेयर 51% रहा। रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले साल देश में 2.6 मिलियन (26 लाख) यूनिट का शिपमेंट किया गया। सालाना आधार पर इसमें 139.3% की ग्रोथ रही है। इस दौरान फिटनेस बैंड की मांग में कमी आई, लेकिन स्मार्टवॉच की डिमांड बढ़ गई।

  • एपल वॉच 3 और 6 सीरीज में ग्रोथ रही: IDC के अनुसार, जो स्मार्टवॉच थर्ड-पार्टी एप्लिकेशन पर रन करती हैं उनका मार्केट शेयर 24.5% है। वहीं, एपल ने 51% मार्केट शेयर के साथ इस कैटेगरी में लीडर रही। IDC इंडिया के रिसर्च डायरेक्टर, क्लाइंट डिवाइसेस एंड आईपीडीएस, नवकेंद्र सिंह ने कहा, "2020 में भारत में मुख्य रूप से एपल वॉच 3 और वॉच 6 सीरीज में ग्रोथ देखने को मिली। एपल वॉच ने भारतीय ग्राहकों पर अपनी पकड़ को मजबूत किया है।"
  • प्रमोशनल डिस्काउंट का फायदा मिला: भारतीय बाजार में एपल वॉच की पुरानी सीरीज पर कीमतों में कटौती और सीरीज 5 और सीरीज 6 पर प्रमोशनल डिस्काउंट के साथ बैंक ऑफर्स के चलते ग्राहकों ने इसे जमकर खरीदा। IDC इंडिया में एसोसिएट रिसर्च मैनेजर, क्लाइंट डिवाइस, जयपाल सिंह ने कहा कि स्मार्टवॉच में अब कीमत अब ग्राहकों के लिए ज्यादा बड़ी चुनौती नहीं है।
  • सीरीज 6 और SE की 1.29 करोड़ यूनिट बेची: काउंटरपॉइंट ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि एपल वॉच सीरीज 6 और SE की दुनियाभर में डिमांड देखने को मिली है। कंपनी ने इनकी कुल 12.9 मिलियन (1.29 करोड़) यूनिट बेची हैं। 2020 के आखिरी क्वार्टर में कंपनी का वॉच का मार्केट शेयर 40% रहा था। 2020 में दूसरी कंपनियों की सालाना ग्रोथ जहां 1.5% की दर से आगे बढ़ी, तो दूसरी तरफ एपल ने अपनी दमदार बिक्री को बरकार रखा। उसके मार्कट शेयर में 6% की ग्रोथ देखने को मिली।