पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57858.150.64 %
  • NIFTY17277.950.75 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486870.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)63687-1.21 %
  • Business News
  • Tech auto
  • Facebook Loses Attempt To Dismiss Antitrust Lawsuit Demanding It Sells WhatsApp And Instagram

फेसबुक एंटीट्रस्ट मामला:बिक सकते हैं वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम, अमेरिकी एजेंसी से हारी जुकरबर्ग की कंपनी तो हो जाएगा ये सच

नई दिल्ली11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

फेसबुक भले ही अब मेटा हो गई हो, लेकिन उसकी प्रॉब्लम खत्म होने का नाम नहीं ले रहीं। मेटा पर लंबे समय से एंटीट्रस्ट के आरोप लग रहे हैं। उस पर आरोप हैं कि वो दूसरी छोटी कंपनियों को सर्वाइव का मौका नहीं दे रही। वो अपने कॉम्पिटिशन को बढ़ने नहीं देती है। अगर फेसबुक को दिखता है कि कोई उसे टक्कर दे रहा है तो उसे किसी भी तरीके से या तो अपने साथ मर्ज कर लेती है।

अब एंटीट्रस्ट मामले में अमेरिकी एजेंसी फेडरल ट्रेड कमीशन (FTC) को एक बड़ी जीत हासिल हुई है। ऐसे में FTC मेटा को कोर्ट में घसीट सकता है। FTC चाहता है कि मेटा अपने पॉपुलर प्लेटफॉर्म वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम को बेच दे। इस खबर में जानते हैं कि क्या वाकई मार्क जुकरबर्ग के मेटा के लिए इन ऐप्स को बेचने की स्थिति बन सकती है।

FTC को कोर्ट से बड़ी जीत मिली

एंटीट्रस्ट मामले में अमेरिकी एजेंसी FTC को एक बड़ी जीत मिली है। माना जा रहा है कि अब FTC मेटा को कोर्ट में घसीट सकता है। FTC चाहता है कि मेटा अपने दो पॉपुलर ऐप्स वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम को बेच दे। FTC अमेरिकी सरकार की इंडिपेंडेंट एजेंसी है जो कंज्यूमर के हितों की रक्षा करती है।

पिछले साल FTC ने फेसबुक को कथित एंटीट्रस्ट वॉयलेशन के लिए चैलेंज किया था, लेकिन तब डिटेल्स के अभाव में कोर्ट ने FTC की इस दलील को खारिज कर दिया था। एक बार फिर से FTC ने केस को रिफाइल किया और इस बार FTC को सफलता हाथ लगी। अब इस मामले में फेडरल जज ने FTC को इजाजत दी है कि वो मेटा को एंटीट्रस्ट के उल्लघंन के लिए कोर्ट में घसीटे।

FTC चाहता है कि मेटा अपने दो ऐप्स बेच दे
अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट जज जेम्स बोसबर्ग ने कहा है कि FTC के पास पर्याप्त सबूत हैं। इसने साबित हो जाएगा कि मेटा ने सोशल नेटवर्किंग में मोनोपॉली बना ली है। पिछली बार FTC ने इस बात को साबित करने के लिए कोई डेटा नहीं दिया था। FTC का कहना है कि मेटा मोनोपॉली कर रहा है, इसलिए उसे वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम बेच देना चाहिए। जज जेम्स बोसबर्ग ने ये भी कहा कि FTC के पास फेसबुक के खिलाफ पिछली बार की तुलना में इस बार पर्याप्त सबूत है।

जज जेम्स बोसबर्ग ने लिखा कि FTC ने इस बार कॉमसोर्स का भी डेटा यूज किया है जिसमें ये दिखाया गया है कि 2016 के बाद से मेटा के डेली एक्टिव यूजर्स की संख्या 70% से ज्यादा हैं। शॉर्ट में कहा जाए तो FTC ने इस बार अपना होमवर्क अच्छे से किया है। मेटा ने अदालत से FTC के इस मुकदमे को खारिज करने की अर्जी लगाई थी, लेकिन इस बार कोर्ट ने फेसबुक की इस अर्जी को खारिज कर दिया। दरअसल, मेटा अपने दोनों सोशल प्लेटफॉर्म ऐप्स वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम को बेचना नहीं चाहेगा।

फेसबुक के खिलाफ ज्यादा सबूत जुटाने होंगे: FTC हेड
FTC का मुख्य काम कंज्यूमर के हितों को सुरक्षित करना है और सिविल एंटीट्रस्ट कानून को एनफोर्स कराना है। बीते दिनों अमेरिकी प्रेसिडेंट जो बाइडन ने FTC की हेड के तौर पर लीना खान को चुना है। 22 वर्षीय लीना अब तक की सबसे कम उम्र की FTC चैयरमैन हैं। एंटीट्रस्ट मामले में लीना को काफी स्ट्रिक्ट माना जाता है। लीना ने कहा कि जज का ये फैसला काफी अहम है और ये हमारी बड़ी जीत है। इसके बाद भी आगे की राह आसान नहीं है। हमें फेसबुक के खिलाफ ज्यादा सबूत जुटाने होंगे।

जज ने मेटा की दलील खारिज करके FTC को हरी झंडी दी है। इसके बाद भी हमारी राह आसान नहीं है। जज ने इस बात का भी इशारा किया है कि FTC के लिए ये लड़ाई आसान नहीं होने वाली। फेसबुक ने जब 2012 में इंस्टाग्राम को 1 बिलियन डॉलर (करीब 7,200 करोड़ रुपए) में खरीदा था तब इसका अप्रूवल FTC ने ही दिया था। वहीं, 2014 में वॉट्सऐप को 19 बिलियन डॉलर (लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपए) में खरीदने का अप्रूवल भी FTC ने दिया था। अब FTC की दलील है कि फेसबुक ने जानबूझ कर एक एक करके इन ऐप्स को खरीदा था। वो कॉम्पिटिशन को खत्म करके एकाधिकार बनाना चाहता था।

कोर्ट के फैसले से नाराज नहीं फेसबुक

कोर्ट ने FTC की कुछ दलीलों खारिज भी किया है, जिसकी फेसबुक को खुशी है। इसमें एक दलील ये भी थी कि फेसबुक अपने कॉम्पिटिशन को पर्याप्त डेटा का एक्सेस नहीं देता है। फेसबुक ने बचाव में कहा कि ये पॉलिसी 2018 में ही बदली जा चुकी है।