पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ईवी एक्सपो 2022:5 अगस्त से दिल्ली में शुरू होगा इलेक्ट्रिक व्हीकल का मेला, कई नए व्हीकल्स की होगी लॉन्चिंग

नई दिल्ली17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली में एक बार फिर इलेक्ट्रिक व्हीकल का मेला लगने जा रहा है। यह ईवी एक्सपो 2022, 5 से 7 अगस्त के बीच होगा। ये एक्सपो दिल्ली के प्रगति मैदान में होगा। इस एक्सपो का उद्घाटन सूचना और प्रसारण एवं खेल, युवा मामलों के मंत्री अनुराग ठाकुर करेंगे। ईवी एक्सपो का ये 15वां एडिशन है। इवेंट प्रगति मैदान के 11 नंबर हॉल में होगा। इस एक्सपो में इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडस्ट्री के लिए पैसेंजर और सामान के सुविधाजनक और पर्यावरण के अनुकूल के लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल, कम्पोनेंट्स और सर्विसेज से जुड़ी न्यू टेक्नोलॉजी देखने को मिलेगी।

2015 से हो रहा है आयोजन
अल्टीअस ऑटो सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड (Altius Auto Solutions Pvt Ltd) का ईवी एक्सपो, इलेक्ट्रिक व्हीकल, एक्सेसरीज, बैटरी और चार्जिंग सॉल्यूशन से जुड़ा भारत का सबसे बड़ा व्यापक ट्रेड शो है। दिसंबर 2015 से 2017 तक इसका आयोजन नई दिल्ली और कोलकाता में होता रहा है। इसके बाद इसका आयोजन बेंगलुरु, लखनऊ और हैदराबाद में भी आयोजन हुआ है। ये ईवी से जुड़ा सबसे बड़ा इवेंट है। जो हर साल अगस्त में होता है।

ईवी की मांग में तेजी आ रही
ईवी एक्सपो 2022 के ऑर्गेनाइजर राजीव अरोरा ने बताया कि कुछ साल पहले की तुलना में अब हम अपने आसपास के जीवन में इलेक्ट्रिक -मोबिलिटी के बढ़ते अनुकूलन और एकीकरण को देख रहे हैं। हमारे देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की भारी डिमांड और कैपेसिटी है। व्हीकल्स मैन्युफैक्चर्स, बैटरी, कम्पोनेंट, एक्सेसरीज, फाइनेंस, रिसर्च एंड डेवलपमेंट, सर्विसेज को डेवलप करने, प्रोत्साहित करने और सपोर्ट करने की जरूरत है। ईवी एक्सपो इन सभी को एक छत के नीचे एक साथ आने के लिए प्लेटफॉर्म देता है। इन 3 दिनों के दौरान यहां कई लॉन्च देखने को मिलेंगे।

कच्चे तेल पर निर्भरता कम करने की पहल
ईवी एक्सपो 2022, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, भारत सरकार करती है। इसे सूक्ष्म लघु एवं मझौले उद्यम (MSME), प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (PMKVY) और इंटरनेशनल सेंटर फॉर ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (ICAT) के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। अनुज शर्मा, चेयरमैन, इलेक्ट्रिक वाहन समिति, भारत सरकार और संस्थापक ईवी एक्सपो ने कहा कि हाइड्रोकार्बन आधारित ईंधन की बहुत ज्यादा जरूरत की वजह से इसका उपयोग भारत में ज्यादातर व्हीकल्स में किया जाता है।