पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52344.450.04 %
  • NIFTY15683.35-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47122-0.57 %
  • SILVER(MCX 1 KG)68675-1.23 %
  • Business News
  • Tech auto
  • Can Reach Office Comfortably; Take Care Of These Things, You Will Not Be Afraid To Ride A Bike

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बारिश में टू- व्हीलर को फिसलने से बचाएं:आराम से ऑफिस पहुंच सकते हैं; इन बातों का ख्याल रखिए, बाइक चलाने में डर नहीं लगेगा

नई दिल्ली13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

देश में कोरोना के मामले कम हो रहे हैं। जिससे राज्य सरकार लॉकडाउन में ढ़ील देना शुरू कर रही है। अब तक ऑफिस में कर्मचारियों की संख्या को 50 प्रतिशत तक कर दिया गया है। जिससे लोग मोटरसाइकिल या स्कूटर पर फिर से ऑफिस जाना शुरू कर देंगे। बारिश में टू-व्हीलर चलाना हर किसी के बस की बात नहीं होती है। क्योंकि इस बारिश की वजह से सड़क में फिसलन बढ़ जाती हैं। इससे डरने से अच्छा है कि हम बारिश में भी गाड़ी चलाने के स्किल को बढ़ा लें। ताकि एक्सीडेंट से बच सके।

सवारी करने से पहले इन बातों का रखें ख्याल

लॉकडाउन की वजह से गाड़ी घर में ही खड़ी थी और इनमें खराबी हो सकती है। इसलिए गाड़ी को अच्छे से चेक करना सही ऑप्शन होगा। क्योंकि जो समस्या बारिश से पहले कम होती थी, वह बढ़ सकती है। इसलिए सवारी करने से पहले इन बातों का ख्याल रखें।

टायर को चेक करना

यदि टायर बहुत ज्यादा खराब है तो उन्हें बदलना ही सबसे अच्छा है। टायर को पानी फैलाने के लिए डिजाइन किया जाता है, इसलिए गीली सतहों पर चलाने के लिए टायर में ग्रिप होना चाहिए। हालांकि ग्रिप होना ही पर्याप्त नहीं होता है। जब टायर बहुत पुराने हो जाते हैं, तो रबर कड़ा जाता है।जिससे टायर की गीली सतह पर पकड़ खत्म हो जाती है। ये कुछ इस प्रकार हो जाएगा जैसे गंजे लोगों के सिर में पानी नहीं रुकता है।

वाटर प्रूफिंग

गाड़ी में गियर को वाटरप्रूफ कर सकते हैं। यदि बजट कम है तो यह काफी महंगा हो सकता है। बजट हो तो ऐसे रेन गियर लें जो आपके नियमित राइडिंग गियर पर फिट हो। अपने को बचाने के लिए रेनकोट पहन सकते हैं। यह ढीली रहे जिससे बाइक चलाने में मुश्किल न हो। इतनी भी ढ़ीली न हो कि हवा में फड़फड़ाए। आप बाइक पर जितना अधिक कंफर्ट होंगे उतना ही अच्छा गाड़ी चलाने में ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

वाटर प्रूफ जूते

बारिश में गाड़ी चलाने के लिए जूते पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता है। लोग स्लीपर या अमूमन सैंडल का उपयोग करते हैं। सूखे पैर आपको बाइक पर कंफर्ट महसूस कराते हैं। इसलिए आपको वाटर प्रूफ जूते पर खर्च करना चाहिए।

चमकदार कपड़े पहनें

बारिश में कम रोशनी के होने से ज्यादा दूर की चीजें नहीं दिखती है जिससे एक्सीडेंट बढ़ जाते हैं। इसलिए जरूरी है कि गाड़ी में कुछ चमकीली स्टिप्स को लगा ले। कपड़े रंगीन पहने। रेनकोट भी चमकीली रंग की पहन कर गाड़ी चलाएं।

बाइक पर ब्रेकिंग सिस्टम सही रखें

गीली सतह में सही ब्रेकिंग सिस्टम होना जरूरी है। यदि आपकी बाइक में ABS ब्रेकिंग सिस्टम है तो उसे रोकना आसान होगा। लेकिन बाइक पुरानी है और उसमें ABS नहीं है, तो आपको ब्रेक लगाते समय ज्यादा सावधानी रखनी होगी। यह समझना होगा कि ब्रेक लगाते समय कितनी देर बाद गाड़ी रुकती है। जब लगे कि टायर एक दम से लॉक हो रहे हैं, तो ब्रेक को थोड़ा कम करें। सूखी सतह पर एक ही ब्रेक से काम चल जाता है। लेकिन गीली सतह में दोनों ब्रेक का इस्तेमाल करना अच्छा होगा।

स्पीड को कम रखें

बारिश में पता नहीं होता है कि फिसलन कहां ज्यादा है। क्योंकि इससे सड़क की सतह से तेल और जमी हुई मैल बाहर आ जाती है। जिससे सड़क ज्यादा फिसलन वाली हो जाती है। इसलिए बरसात में गाड़ी की स्पीड सामान्य से कम रखें।

सड़क के बीच में न चलें

सड़क में जेबरा क्रॉसिंग, लेन सेपरेटर में ज्यादा फिसलन होती है। जहां तक ​​हो सके उन पर चलाने से बचें। दूसरी गाड़ियां के तेल बीच सड़क पर गिराते हुए जाते हैं। इसलिए बीच लेन में चलने से बचें। इसके बजाय, एक तरफ से चिपके रहें और दूसरे वाहनों से दूरी बनाकर पीछे चलें। यह न केवल आपको गिराए गए तेल से बचाएगा, बल्कि आपको एक सूखी सड़क वाली सतह भी मिलेगी। क्योंकि अन्य वाहनों से इन जगहों से पानी चला जाता है।

हेडलाइट्स ऑन रखें

अब तो RTO के भी नियम है कि बाइक की लाइट ऑटोमेटिक ऑन रहेगी। हेडलाइट ऑन रहने से गाड़ी की तरफ ध्यान बढ़ता है। जिससे गाड़ी को दूर होने पर रियर मिरर से भी देख सकते हैं। बारिश में दिन की रोशनी भी कम होती जिससे हेडलाइट्स आपकी मदद करती है।

गाड़ी को चलाने के बाद किन बातों का ध्यान रखें

बाइक को सुरक्षित रूप से पार्क करने के बाद उसमें ध्यान देना जरूरी है। ताकि आपकी अगली रायडिंग बिना किसी परेशानी के हो सके।

साफ-सफाई

मानसून के दौरान, अन्य मौसमों की तुलना में अपनी बाइक को अधिक बार धोना चाहिए। बाइक में स्प्रे की गई मिट्टी से गाड़ी के पार्ट में जंग लग सकती है। इसलिए नियमित रूप से धोने के बाद उन्हें अच्छी तरह से सुखाना जरूरी है।

गाड़ी की चेन

आजकल ज्यादातर बाइक्स में चेन कवर नहीं होते हैं। जिन पर बारिश के दौरान अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अपनी बाइक धोते समय, चेन पर विशेष ध्यान दें, और एक बार धोने और सूखने के बाद उस पर ग्रिसिंग करें। इससे गाड़ी लंबे समय तक बिना किसी दिक्कत के चलती रहेगी।

खबरें और भी हैं...