पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48690.8-0.96 %
  • NIFTY14696.5-1.04 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475690 %
  • SILVER(MCX 1 KG)698750 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जापान सिक्योरिटी फर्म की रिपोर्ट:बीते साल हर मिनट 1 लाख से ज्यादा साइबर अटैक हुए, फिशिंग ईमेल की मदद से लोगों को किया टारगेट

नई दिल्ली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जापान की आईटी सिक्योरिटी कंपनी ट्रेंड माइक्रो ने बताया कि 2020 में हर मिनट 119,000 साइबर खतरों का पता लगाया। इससे पिछले साल 62.6 बिलियन (6260 करोड़) खतरों का सामना करना पड़ा। इनमें से 91% फिशिंग ईमेल के तौर पर सामने आए। कंपनी ने बीते साल करीब 14 मिलियन (1.4 करोड़) फिशिंग URL का पता लगाया। इनकी मदद से घर पर काम कर रहे लोगों को टारगेट करना था।

ट्रेंड माइक्रो 2020 एनुअल साइबरसिटी रिपोर्ट को 'अ कॉन्स्टेंट स्टेट ऑफ फ्लक्स' का टाइटल दिया गया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, कॉरपोरेट सिस्टम की धुरी बनने या बॉटनेट्स में IoT (इंटरनेट ऑफ थिंग्स) डिवाइसेस के साथ समझौता करने वाले साइबर अपराधियों के लिए होम नेटवर्क पिछले साल प्रमुख ड्रॉ था।

बीते साल 210% की बढ़ोतरी हुई
रिपोर्ट के मुताबिक, वर्क्र फ्रॉम होम करने वाले यूजर्स पर बीते साल साइबर अटैक में 210% की बढ़ोतरी हुई। ये लगभग 2.9 बिलियन (190 करोड़) तक रहा। जो साइबर अटैक किए गए उसमें ज्यादातर राउटर या स्मार्ट डिवाइस शामिल थे। इसमें लोगों को लॉगइन करने के लिए मजबूर किया गया।

घर से काम करने वाले लोगों पर अटैक हुए
ट्रेंड माइक्रो के ग्लोबल थ्रेड्स कम्युनिकेशंस के डायरेक्टर, जॉन क्ले ने कहा, "2020 में बिजनेसेस को अपने विस्तारित बुनियादी ढांचे पर संकट का सामना करना पड़ा, जिसमें होम वर्कर्स के नेटवर्क भी शामिल हैं।"

डेटा चुराकर पेमेंट के लिए किया गया मजबूर
रिपोर्ट के मुताबिक, रैनसमवेयर की मदद से फैमिली में 34% साइबर अटैक की बढ़ोतरी हुई है। इन केस में हैकर्स यूजर्स का डेटा चुराकर उनको पेमेंट करने के लिए मजबूर करते थे। बीते साल इस तरह के साइबर अटैक ज्यादा देखने को मिले हैं। सरकार, बैंकिंग, मैन्युफैक्चरर और हेलथकेयर सेक्टर को भी टारगेट किया गया।