पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX48690.8-0.96 %
  • NIFTY14696.5-1.04 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475690 %
  • SILVER(MCX 1 KG)698750 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कैस्परस्काई रिपोर्ट:2020 में देश के 45% ऑनलाइन यूजर्स पर हुआ लोकल साइबर अटैक, 20 करोड़ से ज्यादा डिवाइस को पहुंचाया नुकसान

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोविड-19 महामारी के दौरान देश में इंटरनेट यूजर्स की संख्या की बढ़ी है। तो दूसरी तरफ, साइबर अटैक के मामलों में भी तेजी से बढ़ोतरी हुई है। ऑनलाइन शॉपिंग से लेकर ई-लर्निंग तक, देश में सभी तरह के प्लेटफॉर्म पर लोकल थ्रेड्स में बढ़ोतरी हुई है। ग्लोबल सिक्योरिटी फर्म कैस्परस्काई के मुताबिक, देश में 45% ऑनलाइन यूजर्स पर साइबर अटैक किए गए हैं।

सिक्योरिटी फर्म ने 13 करोड़ से ज्यादा इंटरनेट थ्रेड्स का पता लगाया है। इनसे देश के 35% इंटरनेट यूजर्स प्रभावित हुए हैं। वहीं, इस तरह के मामले में देश का ग्लोबल लेवल पर 43वां स्थान रहा।

20 करोड़ से ज्यादा डिलाइस ब्लॉक किए
कैस्परस्काई की लेटेस्ट रिपोर्ट के मुताबिक, जनवरी से दिसंबर 2020 के बीच 20 करोड़ से ज्यादा कंज्यूमर डिवाइसेस को ब्लॉक किया गया। कंपनी के सीनियर सिक्योरिटी रिसर्चर, सौरभ शर्मा ने कहा कि भारत के साथ एशिया पैसिफिक रीजन में साइबर अटैक के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है।"

व्यक्तिगत इंटरनेट यूजर को निशाना बनाया
साइबर अटैक अब सिर्फ बिजनेसेस या सरकारी निकायों पर नहीं मंडरा रहे, बल्कि अब व्यक्तिगत इंटरनेट यूजर को भी टारगेट किया जा रहा है। हैकर्स की नजर में ऐसे यूजर्स को नुकसान पहुंचाना ज्यादा आसान होता है। उनकी फाइनेंशियल डिटेल या दूसरे डेटा आसानी से हासिल किया जा सकता है।

सौरभ ने बताया, "हाल ही में, साइबर अपराधियों द्वारा कुछ संवेदनशील डेटा का दुरुपयोग करने देश के अंदर लोगों को टारगेट करने के लिए ज्यादा साइबर अटैक किए गए हैं।" हमले के लिए हैकर्स द्वारा उसे डिवाइस पर ऐसी फाइल डाउनलोड कराई जाती है जिससे उसके डेटा आसानी से चुराया जा सके।

2020 की पहली छमाही में 60% की बढ़ोतरी
कैस्परस्काई ने रिपोर्ट में कहा कि रिमोटली वर्किंग या वर्क फ्रॉम होम करने वाले कर्मचारी या स्टूडेंट्स को हैकर्स द्वारा ज्यादा टारगेट किया जा रहा है। ज्यादातर केस में यूजर के डिवाइस में सिक्योरिटी सॉफ्टवेयर नहीं होता है। 2020 की पहली छमाही में थ्रेड्स के मामलों में 60% की बढ़ोतरी रही।

साइबर अटैक के मामले में भारत 18वें स्थान पर रहा
भारत में सर्वर द्वारा होस्ट किए गए हमलों का हिस्सा 0.19% रहा। ये जनवरी से दिसंबर 2020 की अवधि में 77 लाख से अधिक घटनाएं हैं। इन्होंने भारत को दुनियाभर में 18वें स्थान पर रखा। रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि साइबर अपराधी क्राइम करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल सबसे ज्यादा करते हैं।

खबरें और भी हैं...