• Home
  • Tech auto
  • Tata Motors Bajaj and MG Motors announce help to fight epidemic auto companies to manufacture ventilators

कोरोनावायरस /टाटा मोटर्स, बजाज और एमजी मोटर्स ने महामारी से लड़ने के लिए किया मदद का ऐलान, मास्क और वेंटिलेटर का भी निर्माण करेंगी ऑटो कंपनियां

  • एमजी भारत में अपने खुद के डिजाइन के वेंटिलेटर का विनिर्माण कर सकती है।

Moneybhaskar.com

Apr 05,2020 01:58:33 PM IST

नई दिल्ली. आर्थिक मंदी की चुनौती के बीच बीएस4 से बीएस6 में शिफ्ट होने की वजह से ऑटो कंपनियों की कमाई पर जोरदार चपत लगी है। इसके बावजूद ऑटो कंपनियों की ओर से कोरोना वायरस की महामारी से लड़ने के लिए मदद का ऐलान किया गया है। एमजी मोटर इंडिया अपने हलोल संयंत्र में वेंटिलेटर विनिर्माण के लिए जीई सहित तीन चिकित्सा उपकरण कंपनियों से बातचीत कर रही है। कंपनी अपना खुद का वेंटिलेटर भी विकसित कर रही है। इसका प्रोटोटाइप एक सप्ताह में तैयार होने की उम्मीद है। कंपनी ने कहा कि अगर हमारे प्रोटोटाइप को मंजूरी मिल जाती है, तो एमजी भारत में अपने खुद के डिजाइन के वेंटिलेटर का विनिर्माण कर सकती है।

अन्य कंपनियां मदद को आई आगे

  • बजाज ने ये भी ऐलान किया है कोरोना के खिलाफ लड़ाई में 100 करोड़ रुपए का योगदान दिया है। बजाज ने कहा है कि हम बहुत बारीकी से इस महामारी से लड़ रहे हैं और कोरोना वायरय के फैलने की दशा में मरीजों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। कंपनी निजी और सरकारी हॉस्पिटल पर नज़र बनाए हुए हैं जिनके आईसीयू को बेहतर बनाने के अलावा मरीजों के लिए वेंटिलेटर्स और स्वास्थ्य कर्मचारी, डॉक्टर्स, नर्स और मेडिकल स्टाफ के लिए सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराए जाएंगे।
  • भारत के सबसे बड़े व्यापारिक घरानों में से एक और टाटा मोटर्स की मूल कंपनी, टाटा संस ने 500 करोड़ रुपए की मदद का ऐलान किया है। इसके अतिरिक्त टाटा संस अपनी तरफ से भी 1,000 करोड़ रुपए देगी।
  • हीरो मोटोकॉर्प सहित हीरो समूह की विभिन्न कंपनियों ने कोरोनावायरस महामारी के चलते एक और महत्वपूर्ण कदम में 100 करोड़ रू के योगदान का एलान किया है। इस राशि का आधा हिस्सा, 50 करोड़ रुपए, हाल ही में बनाए गए पीएम-केयर फंड में दिया जाएगा और शेष 50 करोड़ रुपए अन्य राहत प्रयासों में खर्च किए जाएंगे। इसमें ग्रामीण इलाकों में दोपहिया एम्बुलेंस के रूप में मोटरसाइकिलों को तैनात करना, मास्क, सैनिटाइज़र, दस्ताने और 100 वेंटिलेटर बांटने के अलावा रोज़ 10,000 लोगों को भोजन कराना शामिल है.
  • मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने कोरोना वायरस महामारी के लिए वाहनों की वारंटी और सर्विस समय सीमा बढ़ा दी है। कंपनी ने 15 मार्च 2020 से 30 अप्रैल 2020 के बीच खत्म हो रही मुफ्त सर्विस, वारंटी को बढ़ाकर 30 जून 2020 कर दिया गया है।
  • इससे पहले इंडिया यामाहा मोटर ने लॉकडाउन की वजह से 15 अप्रैल 2020 के दौरान खत्म हो रही सर्विस और नॉर्मल वारंटी का लाभ जून 2020 तक के लिए बढ़ा दिया है।
  • घरेलू कंपनी महिंद्रा ने इस महामारी से बचाव के लिए फेस कवच बनाने की बात कही है। यही नहीं महिंद्रा और देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया वेंटिलेटर बनाएंगी। जबकि हुंडई टेस्ट किट मंगाएगी। नंद महिंद्रा के अनुसार वेंटिलेटर प्रोटोटाइप की लागत 5-10 लाख रुपए के बीच होती है, एक बार बनाने के बाद ये सिर्फ 7,500 रुपए से कम में मिलेंगी।
  • Hyundai Motor India (हुंडई मोटर इंडिया) की सीएसआर शाखा ने कोरोनावायरस से बचाव के लिए दक्षिण कोरिया से परीक्षण किट आयात करने के लिए एक आदेश जारी किया है। कंपनी के अनुसार, परीक्षण किट 25 हजार लोगों के काम आ सकती हैं। किट का वितरण प्रभावित क्षेत्रों में अस्पतालों में केंद्र और राज्य सरकारों के परामर्श से किया जाएगा।
  • अर्थमूविंग एवं कंस्‍ट्रक्‍शन इक्विपमेंट बनाने वाली कंपनी, जेसीबी इंडिया लिमिटेड ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में मदद के लिए एशियन इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, फरीदाबाद के साथ साझेदारी की है। इस परियोजना को जेसीबी इंडिया के सीएसआर इनिशिएटिव से आंशिक रूप से वित्‍त पोषित किया जाएगा। कंपनी पीपीई, दवाइयां, टेस्टिंग किट, सिक्युरिटी सूट्स तथा डॉक्टरों और स्वास्थ्य रक्षा में जुटे कर्मचारियों के लिए कंज्‍यूमेबल्‍स बनाने हेतु फंड जुटाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। इससे कोविड-19 प्रकोप के दौरान फरीदाबाद और आसपास के क्षेत्रों में इस बीमारी से प्रभावित मरीजों को पूरी तरह से मेडिकल सुविधाएं मुहैया कराने की तैयारियों में संयुक्त रूप से तेजी आएगी।
X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.