• Home
  • Tech auto
  • Huawei 5G technology can help fight coronavirus which America continues to threaten to world as a threat

हुआवे की जिस 5जी तकनीक को अमेरिका दुनियाभर के लिए खतरा बताता रहा खतरा, चीन ने उसी के दम पर कोरोना वायरस से लड़ाई में दर्ज की जीत

  • 5जी तकनीक और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) से लैस होने की वजह से चीन में वस्तुओं की सप्लाई चेन प्रभावित नहीं हुई। 

Moneybhaskar.com

Mar 19,2020 05:52:00 PM IST

नई दिल्ली. चीन में एक वक्त कोरोना वायरस का प्रकोप अपने चरम पर था, जिससे निपटने में 5G तकनीक का काफी अहम रोल रहा है। हुवावे की जिस 5जी तकनीक को अमेरिका दुनियाभर के लिए खतरा बताता रहा, चीन ने हुआवे की इसी 5जी तकनीक के दम पर कोरोना वायरस से लड़ाई में बड़े हद तक जीत दर्ज की।

मरीजों की जा सकी रियर टाइम मॉनिटरिंग

हुआवे और डिलाइट के साझा शोध में इसका खुलासा हुआ है। दरअसल 5G तकनीक में थर्मल इमेज का सपोर्ट मिलता है, जो कोरोना वायरस से ग्रसित लोगों की पहचान करने में मददगार साबित होती है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इसकी मदद से कोरोना वायरस के मरीज की सटीक जानकारी हासिल की जा सकती है। साथ ही पीड़ित मरीज के तामपान की रियल टाइम मॉनिटरिंग संभव है। इससे व्यक्ति के शरीर के अचानक बढ़ने वाले तापमान की पहचान की जा सकेगी। दरअसल चीन में 5G तकनीक का विस्तार काफी बड़े पैमाने पर हो चुका है, जिसने चीन की कोरोना के खिलाफ लड़ाई में काफी मदद की। मौजूदा वक्त में चीन में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या तेजी से घट चुकी है।

बिना देरी संभव हो सकता इलाज


टेलीकम्यूनिकेशन ऑपरेटर्स ने हुआवे के साथ मिलकर तेजी से अस्पताओं तक 5G नेटवर्क पहुंचाया, जहां पर कोविद-19 से ग्रसित मरीजों का इलाज चल रहा था। इससे हर एक नागरिग की स्क्रीनिंग करने से लेकर सटीक डेटा हासिल करने में मदद मिली। इतना ही नहीं, तेज रफ्तार इंटरनेट कनेक्शन, बिना देरी के जरुरतमंद तक इलाज पहुंचाने जैसी सुविधा 5जी की मदद से ही संभव हो सकी। इसके अलावा मरीजों के एक स्थान से दूसरी जगह ट्रांसफर करने के दौरान रिमोट मॉनिटरिंग एंड डायग्नोसिस की जा सकी। यह 5जी तकनीक ही थी, जिसकी वजह से कोरोना वायरस के मरीज के बिना मूवमेंट के उनका इलाज संभव हो सका। साथ ही मेडिकल एक्सपर्ट इलाज के दौरान दूसरे डॉक्टर्स से टेलीकॉन्फ्रेंसिंग से संपर्क कर सके। इसके अलााव आपदा प्रबंधन विभाग 5जी तकनीक और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) नेटवर्क से लैस रहा। इससे चीन में वस्तुओं की सप्लाई चेन प्रभावित नहीं हुई।

X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.