पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Market Watch
  • SENSEX52558.56-0.41 %
  • NIFTY15777.8-0.58 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48349-0.2 %
  • SILVER(MCX 1 KG)715020.37 %

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सवाल प्राइवेसी का है:84% भारतीयों को प्राइवेट डेटा की सुरक्षा करने वाली फर्म पंसद, सिर्फ एक चौथाई को थर्ड पार्टी पर भरोसा नहीं

नई दिल्ली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दुनियाभर सबसे ज्यादा भारतीय डेटा प्राइवेसी और डेटा सिक्योरिटी के लिए इनसे जुड़ी ऑर्गनाइजेशन के साथ काम करते हैं। कनाडा स्थित इन्फॉर्मेशन मैनेजमेंट कंपनी ओपनटेक्स्ट द्वारा किए गए सर्वे के मुताबिक, 84% भारतीय डेटा प्राइवेसी फर्म के साथ काम करते हैं। सर्वे के दौरान देश के 6000 लोगों से उनकी राय ली गई।

दूसरी तरफ, ब्रिटेन में 49%, जर्मनी में 41%, स्पेन में 36% और फ्रांस में 17% लोग डेटा प्राइवेस फर्म के साथ काम करते हैं। यानी भारतीय अपनी डेटा प्राइवेसी पर ज्यादा ध्यान देते हैं।

थर्ड पार्टी ऑर्गनाइजेशन पर भरोसा नहीं
सर्वे में लगभग एक चौथाई भारतीयों ने बताया कि अपनी निजी जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए उन्हें थर्ड पार्टी ऑर्गनाइजेशन पर भरोसा नहीं है। इस सर्वे को ऐसे वक्त में किया गया जब भारत तेजी से डिजिटल हो रहा है, लेकिन देश में व्यापक डेटा गोपनीयता कानून नहीं है।

22% यूजर्स को इसकी जानकारी नहीं
78% भारतीय उपभोक्ताओं को व्यापक रूप से पता है कि कितने ऑर्गनाइजेशन अपने पर्सनल डेटा (जैसे ईमेल एड्रेस, कॉन्टैक्ट नंबर, बैंक डिटेल आदि) का इस्तेमाल करते हैं। 22% यूजर्स ने कहा कि इसके बारे में जानकारी नहीं है।

कोविड ने डिजिटल परिवर्तन की गति बढ़ाई
ओपनटैक्स के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट और चीफ मार्केटिंग ऑफिसर, लोउ ब्लाट ने कहा, "कोविड-19 संकट ने डिजिटल परिवर्तन की गति को तेज कर दिया है, क्योंकि कंपनियों ने रिमोट वर्किंग और डिजिटल कस्टमर के एक्सपीरियंस को मूव कर दिया है। अब लगभग सभी बिजनेस के इंटरेक्शन के लिए डिजिटल होना जरूर हो गया है। ऐसे में कंपनियां अपने डेटा को ज्यादा सिक्योर करना चाहती हैं। यही वजह है कि लोग डेटा प्राइवेसी से जुड़ी कंपनियों के साथ ज्यादा काम कर रहे हैं।"

61% भारतीय नियमों से अवगत
सर्वे के दौरान ब्रिटेन में 36%, जर्मनी में 32%, स्पेन में 40% और फ्रांस में 30% की तुलना में 10 में से 3 भारतीयों ने कहा कि उनके पास केवल उन कानूनों का वेग आइडिया है जो उनके व्यक्तिगत डेटा की रक्षा करते हैं। 61% भारतीयों ने पुष्टि की कि वे इन नियमों से अवगत हैं। 31% लोगों ने कहा कि वे एक ऑर्गनाइजेशन संगठन के साथ संपर्क में रहेंगे।

खबरें और भी हैं...