पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दिल्ली-मुंबई और बेंगलुरु में अगले महीने से चलेगी उबर ग्रीन:ग्लोबल EV प्रोजेक्ट लॉन्च करेगी कंपनी, फाइनेंसिंग और चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए की पार्टनरशिप

नई दिल्ली12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उबर अगले महीने भारत में ग्लोबल EV प्रोजेक्ट 'उबर ग्रीन' लॉन्च करेगी। कंपनी ने बुधवार (24 मई) को ऐलान किया कि वह जून महीने से इलेक्ट्रिक व्हीकल सर्विस शुरू करेगी, जिसके बाद पैसेंजर राइड बुक करते समय इलेक्ट्रिक व्हीकल का ऑप्शन चूज कर सकेंगे।

कंपनी ने बताया कि अभी ये सर्विस दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु में शुरु होगी। इसके बाद कंपनी दूसरे शहरों में अपनी इलेक्ट्रिक व्हीकल सर्विस को एक्सटेंड करेगी।

25,000 EV कारों को प्लेटफार्म में जोड़ेगी कंपनी
कंपनी ने ऐलान किया है कि वह 2025 तक 25,000 EV कारों और 2024 तक 10 हजार इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स को अपने प्लेटफार्म से जोड़ेगी।

EV कारों के लिए कंपनी ने लीथियम अर्बन टेक्नोलॉजी, एवरेस्ट फ्लीट प्राइवेट लिमिटेड और मूव के साथ पार्टनरशिप की है। वहीं, इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स के लिए उबर ने जिप इलेक्ट्रिक के साथ पार्टनरशिप किया है।

EV फाइनेंसिंग के लिए उबर ने SIDBI के साथ हाथ मिलाया
उबर ने EV फाइनेंसिंग के लिए SIDBI के साथ पार्टनरशिप करने का ऐलान किया है। इसके साथ ही EV चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए कंपनी ने Jio-BP और GMR ग्रीन एनर्जी से हाथ मिलाया है।

ऑन-डिमांड ईवी एक्सपीरियंस को भारत ला रही कंपनी
उबर ने ट्वीट कर कहा, 'इंट्रोड्यूजिंग उबर ग्रीन- एक ऑल-इलेक्ट्रिक, जीरो टेलपाइप एमिशन व्हीकल जो कुछ ही टैप में ऑन-डिमांड ईवी एक्सपीरियंस को भारत में ला रहा है!'

सभी पैसेंजर को EV सर्विस देना चाहती है कंपनी
उबर में मोबिलिटी और बिजनेस ऑपरेशंस के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट एंड्रयू मैकडोनाल्ड ने कहा, 'हम 2040 तक अपने प्लेटफॉर्म पर हर राइड को इलेक्ट्रिफाई करने के अपने कमिटमेंट को पूरा करना चाहते हैं, जिसके लिए भारत बेहद अहम है। कंपनी ने भारत के लगभग 125 शहरों में सिर्फ ग्रीन कार का यूज करने का फैसला लिया है।

इसके लिए हमने EV फाइनेंसिंग, EV चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए अलग-अलग कंपनियों से पार्टनरशिप की है। हम 2040 तक उबर प्लेटफॉर्म पर सभी पैसेंजर को EV सर्विस देना चाहते हैं।'

काफी चुनौतीपूर्ण काम है पूरी तरह से इलेक्ट्रिक व्हीकल चलाना
उबर इंडिया और साउथ एशिया के प्रेसिडेंट प्रभजीत सिंह ने कहा कि पूरी तरह से इलेक्ट्रिक व्हीकल को चलाना काफी चुनौतीपूर्ण काम है, लेकिन इसके लिए हम कई कंपनियों के साथ पार्टनरशिप कर रहे हैं। इसके साथ ही ड्राइवर्स को इस बदलाव में ढालने का प्रयास भी कर रहे हैं।