• Home
  • Personal finance
  • Many mutual fund companies may have similar Franklin Templeton events, and the fund invests in unsecured securities

निवेश में सावधानी /म्युचुअल फंड की कई कंपनियों में फ्रैंकलिन टेंपल्टन जैसी हो सकती हैं और घटनाएं, असुरक्षित सिक्योरिटीज में फंड का है निवेश

अगर सभी निवेशक पैसे वापस लेने लगे तो सब कुछ विफल हो जाएगा अगर सभी निवेशक पैसे वापस लेने लगे तो सब कुछ विफल हो जाएगा

  • फ्रैंकलिन टेम्पल्टन में निवेशकों के फंसे हैं पैसे
  • कंपनी जल्द ही शुरु करेगी पैसे का भुगतान

Moneybhaskar.com

May 20,2020 03:55:00 PM IST

मुंबई. फ्रैंकलिन टेंम्पल्टन की डेट स्कीम जैसी घटनाएं कई और फंड में हो सकती हैं। फ्रैंकलिन टेंम्पल्टन में निवेशकों के 31,000 करोड़ रुपए फंसे हैं। हालांकि फंड निवेशकों को पैसे वापस करने की योजना बना रहा है, पर इसमें काफी समय लगेगा।

कई कंपनियों ने इस तरह के पेपर्स में किया है निवेश

कई म्यूचुअल फंड कंपनियां इस तरह के पेपर्स में निवेश की हैं। इसमें प्रमुख रूप से निप्पॉन इंडिया एएमसी, आईडीबीआई एमएफ, डीएसपी एमएफ, एलआईसी एमएफ और बड़ौदा एमएफ के कुछ शीर्ष डेट फंड्स हैं। यह फंड "सब-एएए" रेटेड सिक्योरिटीज में निवेश किए हैं। इस तरह के सिक्योरिटीज को सुरक्षित नहीं माना जाता है। खासकर फ्रैंकलिन टेम्पल्टन के डेट फंड की असफलता के बाद।

लिक्विडिटी नहीं होने पर बढ़ जाती हैं दिक्कतें

वैल्यू रिसर्च के संस्थापक धीरेंद्र कुमार कहते हैं कि यह चिंताजनक है। क्योंकि यह एक उदाहरण है और यही वजह है कि लोग म्यूचुअल फंड से बाहर निकल रहे हैं। वास्तविकता यह है कि यदि लिक्विडिटी समाप्त हो जाती है तो किसी को भी ऐसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। अब तक वे इसे अच्छी तरह से मैनेज कर पाए हैं। ये दुर्घटनाएं हैं। जब लिक्विडिटी समाप्त हो जाती है तो उन्हें नकारा नहीं जा सकता।

कम रेटेड वाली सिक्योरिटीज में निवेश है खतरा

फ्रैंकलिन टेम्पल्टन ने कम रेटेड वाली सिक्योरिटीज में होर्डिंग किया जो डेट मार्केट में जोखिम से बचने के बीच illiquid हो गए। इससे डेट जारी करने वाली कुछ कंपनियां अपने रिडेम्पशन की जिम्मेदारियों के दायित्वों से चूक गईं। म्यूचुअल फंड के लगभग 18,500 करोड़ रुपए का निवेश "सब-एएए" पेपर्स में किया गया है जो 2020 में मैच्योर होगा। चेन्नई स्थित प्राइम इन्वेस्टर की संस्थापक विद्या बाला ने कहा कि किसी को सामूहिक रूप से विचार करने के बजाय विशिष्ट फंड कटेगरी को देखने की जरूरत है।

कुछ स्कीम ज्यादा जोखिम वाली हो सकती हैं

उन्होंने कहा, "कुछ स्कीम्स दूसरों की तुलना में बड़े जोखिम में हो सकती हैं। यदि कम अवधि या अल्ट्रा शॉर्ट-टर्म फंड में 30-40 प्रतिशत illiquid या कम रेटेड पेपर हैं, तो यह सही नहीं होता है। इसी तरह शॉर्ट टर्म के फंड में 20-25 फीसदी एसेट्स को इलिक्विड या कम रेटेड पेपर्स में रखना ठीक हो सकता है। लेकिन अगर यह 50-60 प्रतिशत है, जैसे कि फ्रैंकलिन के साथ था, तो कोई एक स्कीम निश्चित रूप से लिक्विडिटी की कमी का सामना कर सकती है।

इस तरह की कुछ कंपनियों का है समावेश

कम अवधि वाले फंड की जिन स्कीम्स में एएए-रेटेड पेपर से नीचे में होल्डिंग्स का 30 प्रतिशत से अधिक है, उनमें बड़ौदा ट्रेजरी एडवांटेज फंड (कुल होल्डिंग का 47.33 प्रतिशत), एलएंडटी लो ड्यूरेशन फंड (45.09 प्रतिशत), डीएसपी लो ड्यूरेशन फंड (44.22) प्रतिशत, एलआईसी एमएफ बचत कोष (42.46 प्रतिशत) और एचडीएफसी लो अवधि फंड (36.23 प्रतिशत) शामिल हैं।

इन कंपनियों का 30 प्रतिशत से है ज्यादा निवेश

आंकड़ों से पता चला है कि अल्ट्रा शॉर्ट फंड श्रेणी में निप्पॉन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट टर्म (76.61 फीसदी) और आईडीबीआई अल्ट्रा एसटी (35.25 फीसदी) के पास ऐसे पेपर्स में 30 फीसदी से ज्यादा पैसा है। यहां तक कि कम अवधि के फंड के लिए आईडीबीआई एमएफ (69.35 प्रतिशत), बड़ौदा एमएफ (42.33 प्रतिशत) और एचएसबीसी एमएफ (26.72 प्रतिशत) की योजनाएं उन अनुपातों में सब-एएए रेटेड पेपर हैं जिन्हें जोखिम भरा माना जा सकता है।

बड़ा रिडेंम्प्शन डाल सकता है दबाव

कंपनियां अपने पास सरप्लस नकदी को रखने के लिए इनमें से कुछ फंड श्रेणियों का उपयोग करती हैं। लॉकडाउन से कैश फ्लो पर दबाव के साथ ही इस क्लास के फंड्स पर रिडेम्पशन का दबाव बना हुआ है। यदि कोई फंड कम अवधि या अल्ट्रा शॉर्ट अवधि से संबंधित है, तो लिक्विडिटी बहुत महत्वपूर्ण है। क्योंकि, कॉर्पोरेट से पैसा बहुत आ रहा है और बाहर भी जा रहा है। एक बड़ा रिडेम्पशन दबाव डाल सकता है।

लिक्विडिटी से निपटने के लिए नकदी में निवेश

म्यूचुअल फंड हाउसों ने भी ऐसे किसी भी रिडेम्पशन दबाव से निपटने के लिए लिक्विडिटी के मुद्दे को किनारे कर दिया है। उदाहरण के लिए, आईडीबीआई अल्ट्रा शॉर्ट फंड, बड़ौदा ट्रेजरी एडवांटेज फंड और एलएंडटी लो अवधि फंड ने अप्रैल के अंत तक अपने पोर्टफोलियो का 35 प्रतिशत से अधिक नकद में निवेश किया। उन्होंने कहा कि सेकेंडरी मार्केट में सब-एएए डेट पेपर्स के लिए लिक्विडिटी की स्थिति खराब है। अगर सभी निवेशक पैसे वापस लेने लगे तो सब कुछ विफल हो जाएगा।

डिफ़ॉल्ट रूप से कुछ फंड कैटेगरीज़ में कम रेटेड पेपर्स के लिए हाई एक्सपोजर होते हैं। क्योंकि वे लंबी अवधि के निवेश के लिए होते हैं। कम रेटेड पेपर रखने वाले मध्यम अवधि के फंड पर कोई रोक नहीं है। इन फंड में निवेश के लिए कम से कम तीन साल या उससे अधिक का समय होना चाहिए। निवेशक लंबी अवधि के लिए ऐसी स्कीम्स में प्रवेश करते हैं।

X
अगर सभी निवेशक पैसे वापस लेने लगे तो सब कुछ विफल हो जाएगाअगर सभी निवेशक पैसे वापस लेने लगे तो सब कुछ विफल हो जाएगा

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.