विज्ञापन
Home » Personal Finance » Retirement » Updateknow what is gpf, epf and ppf

जानिए क्या है जीपीएफ, ईपीएफ और पीपीएफ

सरकारी कर्मचारियों के लिए जो संचित निधि की व्यवस्था है, उसको जनरल प्रॉविडेंट फंड (जीपीएफ) कहा जाता है।

1 of
 
सरकारी कर्मचारियों के लिए जो संचित निधि की व्यवस्था है, उसको जनरल प्रॉविडेंट फंड (जीपीएफ) कहा जाता है। इसमें केवल सरकारी कर्मचारियों का योगदान होता है, सरकार का कोई योगदान नहीं होता।

संगठित व असंगठित क्षेत्रों के कर्मचारियों के लिए संचित निधि की जो व्यवस्था है, उसको इम्प्लॉयीज प्रॉविडेंट फंड (ईपीएफ) कहा जाता है। इसमें नियोक्ता और कर्मचारी दोनों का योगदान होता है।

इसके अतिरिक्त कोई भी व्यक्ति ऐच्छिक रूप से जिस संचित निधि में निवेश कर सकता है, उसे पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) कहा जाता है।
 
आगे की स्लाइड में जानें कैसे और कहां होगा खाता चालू- 
 

 
कैसे और कहां खुलता है पीपीएफ खाता

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) खाता कोई भी वयस्क व्यक्ति खोल सकता है, चाहे वह सरकारी नौकरी में हो या निजी क्षेत्र की नौकरी में या स्वरोजगार करता हो। इसके अलावा कोई संरक्षक अपने पाल्य के लिए भी यह खाता खोल सकता है। यह खाता कुछ चुनिंदा सरकारी और निजी बैंकों की चुनिंदा शाखाओं में खुलता है। इसके अलावा डाक घर में भी यह खाता खोला जा सकता है।

इसके लिए आपको वही कागजात देने होते हैं जो कोई अन्य खाता खोलने के लिए देने पड़ते हैं। इसके अलावा आपको नॉमिनी का फॉर्म भरना होता है। साथ ही ईसीएस का फॉर्म भी आपको भर कर जमा करना पड़ता है, ताकि हर महीने जितनी राशि आपने उस पीपीएफ खाते में जमा करने के लिए तय की है, वह आपके खाते से स्वतः कटती रहे, लेकिन ध्यान रहे, एक व्यक्ति के एक से अधिक पीपीएफ खाते नहीं रह सकते। 
 

इनऐक्टिव पीपीएफ खाता कैसे होगा चालू

अगर किसी वित्तीय वर्ष के दौरान किसी पीपीएफ खाते में पैसे जमा नहीं होते, तो वह इनएक्टिव हो जाता है। अगर आपका पीपीएफ खाता इनएक्टिव हो गया है तो फिर आपको इस पर कर्ज नहीं मिल सकता। इस खाते को फिर से चालू करने के लिए आपको चाहिए कि आप उस बैंक या डाक घर शाखा को इस आशय का आवेदन दें जहां पर आपका खाता है। इसके बाद आपको स्वयं उस शाखा में जा कर अपना वैरिफिकेशन कराना होगा। इसके लिए आपको हर साल के लिए 500 रुपए के हिसाब से पैसे जमा करने होंगे जितने सालों तक आपने पैसे जमा नहीं किए हैं। इसके अलावा आपको इसके साथ हर साल के लिए कुछ आर्थिक दंड भी देना पड़ेगा, लेकिन ध्यान रहे, अगर आपका पीपीएफ खाता परिपक्व हो चुका है तो वह फिर से चालू नहीं किया जा सकता।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन