Home » Personal Finance » Property » UpdateImportance of power of attorney

क्या है पावर ऑफ अटार्नी का महत्‍व

पावर ऑफ अटार्नी एक ऐसा दस्‍तावेज है जिसके जरिए कोई व्‍यक्ति किसी दूसरे व्‍यक्ति को अपनी संपत्ति के बारे में निर्णय लेने का अधिकार देता है।

Importance of power of attorney

पावर ऑफ अटार्नी एक ऐसा दस्‍तावेज है जिसके जरिए कोई व्‍यक्ति किसी दूसरे व्‍यक्ति को अपनी संपत्ति के बारे में निर्णय लेने का अधिकार देता है। दूसरे शब्दों में कहें, तो पावर ऑफ अटार्नी एक प्रकार का न्‍यायिक अधिकार पत्र होता है जो प्रॉपर्टी के मालिकाना हक वाले व्‍यक्ति के बदले में किसी दूसरे व्‍यक्ति को कानूनी या व्‍यावसायिक निर्णय लेने के लिए अधिकृत करता है। यहां ध्यान देने वाली बात यह भी है कि प्रॉपर्टी के अलावा बैंक खाते, शेयरों और म्यूचुअल फंड आदि के लिए आप किसी को पावर ऑफ अटार्नी दे सकते हैं।

अटार्नी और प्रिंसिपल

इसमें पावर ऑफ अटार्नी को लागू करने वाला व्‍यक्ति अटार्नी कहलाता है और जिसके लिए वह यह काम करता है, उसे प्रिंसिपल कहा जाता है। पावर ऑफ अटार्नी के तहत अधिकृत व्‍यक्ति उस प्रॉपर्टी से संबंधित निर्णय लेने के लिए स्‍वतंत्र होता है।

पावर ऑफ अटार्नी दो प्रकार के होते हैं- जनरल पावर ऑफ अटार्नी और स्पेशल पावर ऑफ अटार्नी। जनरल पावर ऑफ अटार्नी के तहत अटार्नी के पास सभी तरह के फैसले लेने का अधिकार होता है। स्‍पेशल पावर ऑफ अटार्नी के तहत अटार्नी को किसी खास काम के लिए अधिकृत किया जाता है।

क्‍या सावधानी बरतें

पावर ऑफ अटार्नी देते समय आप अपना हक किसी दूसरे को दे रहे होते हैं, इसलिए यह कभी भी ऐसे व्‍यक्ति‍ को न दें जिस पर आपका विश्‍वास न हो। हमेशा विश्‍वासपात्र को ही पावर ऑफ अटार्नी देना चाहिए।

कैसे बनता है पावर ऑफ अटार्नी

पावर ऑफ अटार्नी बनाने के कानून देश के विभिन्न राज्यों में अलग-अलग हैं। कहीं यह सब-रजिस्‍ट्रार के ऑफिस से बनता है, तो कहीं नोटरी के पास से। 100 रुपए से लेकर 1000 रुपए के नॉन ज्‍यूडिशियल स्‍टाम्‍प पेपर पर पावर ऑफ अटार्नी बनाया जाता है। पावर ऑफ अटार्नी में निष्‍पादित करने वाले व्‍यक्ति के हस्‍ताक्षर, जिसके नाम से पावर ऑफ अटार्नी बन रहा है, के अलावा दो गवाहों के भी हस्‍ताक्षर होते हैं।

समय सीमा

प्रॉपर्टी के पावर ऑफ अटार्नी की समय सीमा एक साल की होती है। यदि एक साल के अंदर ही लगने लगे कि अटार्नी बेजा फायदा उठा रहा है, तो वकील से इस विषय में मदद ले सकते हैं। ऐसे में पुलिस और न्‍यायालय में शिकायत की जा सकती है। समय सीमा समाप्‍त होने से पहले ही पावर ऑफ अटार्नी को रद्द भी किया जा सकता है।
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट