• Home
  • Tech
  • WhatsApp ensures it took strict action against breach of privacy by pegasus

कार्रवाई /इजरायली स्पाईवेयर द्वारा भारतीयों की जासूसी के मामले में भारत सरकार के समर्थन में व्हॉट्सएप

  • व्हाट्सएप ने पेगासस के खिलाफ कड़ा एक्शन लेने का दावा किया है
  • आईटी मंत्रालय ने मामले में व्हॉट्सएप से 4 नवंबर तक जवाब मांगा है

Moneybhaskar.com

Nov 01,2019 07:12:01 PM IST

नई दिल्ली. इजरायली सॉफ्टवेयर से भारतीय पत्रकारों और एक्टिविस्ट की जासूसी मामले में व्हॉट्सएप ने शुक्रवार को कहा कि उसने कड़ा एक्शन लिया है और वह भारत सरकार का समर्थन करती है। व्हॉट्सएप ने बताया था कि पेगासस के जरिए कुछ अज्ञात इकाइयां वैश्विक स्तर पर जासूसी कर रही हैं। कई भारतीय पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता भी इस जासूसी का शिकार बने हैं। व्हॉट्सएप ने मंगलवार को कैलिफोर्निया की संघीय अदालत में इजराइल की साइबर इंटेलिजेंस कंपनी एनएसओ ग्रुप के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। आईटी मंत्रालय ने मामले में व्हॉट्सएप से 4 नवंबर तक जवाब मांगा है।

भारत सरकार ने मामले में मांगा है व्हॉट्सएप से जवाब

आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को मामले का संज्ञान लिया। एक ट्वीट के जरिए प्रसाद ने कहा कि भारत सरकार मैसेजिंग प्लेटफॉर्म व्हॉट्सएप पर लोगों की निजता के हनन को लेकर चिंतित है। सरकार ने व्हॉट्सएप से इस बारे में जवाब मांगा है कि किस तरह से लोगों की निजता का हनन किया गया है और व्हॉट्सएप लाखों भारतीयों की प्राइवेसी को सुनिश्चित करने के लिए क्या कदम उठा रहा है।

भारत सरकार के समर्थन में है व्हॉट्सएप

एजेंसी की खबर के मुताबिक, व्हॉट्सएप के प्रवक्ता ने बताया कि वो भारत सरकार के सभी नागरिकों की निजता को बचाने के सख्त रवैए से सहमत है। इसलिए उन्होंने साइबर अटैक करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है। व्हॉट्सएप के मुताबिक कंपनी सभी यूजर्स के डाटा की सुरक्षा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। हालांकि कंपनी के प्रवक्ता ने इस बारे में नहीं बताया कि क्या उसने सरकार के सवाल का जवाब दे दिया है। एनएसओ ने व्हॉट्सएप के लगाए गए सभी आरोपों से इनकार कर दिया है। व्हॉट्सएप के मुताबिक इस हमले से सिविल सोसायटी के कम से कम 100 लोग प्रभावित हुए हैं, हालांकि यह संख्या बढ़ भी सकती है।

चार महाद्वीपों के उपयोगकर्ता बने जासूसी का शिकार

व्हॉट्सएप ने यह नहीं बताया था कि भारत में कितने लोगों को इस जासूसी का निशाना बनाया गया। कंपनी ने कहा कि मई में उसे एक ऐसे साइबर हमले का पता चला जिसमें उसकी वीडियो कॉलिंग प्रणाली के जरिये प्रयोगकर्ताओं को मालवेयर भेजा गया। व्हॉट्सएप ने कहा कि उसने करीब 1,400 प्रयोगकर्ताओं को विशेष व्हॉट्सएप संदेश के जरिये इसकी जानकारी दी है। हालांकि कंपनी ने भारत में इस स्पाइवेयर हमले से प्रभावित लोगों की संख्या नहीं बताई है लेकिन उसके प्रवक्ता ने कहा कि इस सप्ताह हमने जिन लोगों से संपर्क किया है उनमें भारतीय प्रयोगकर्ता भी शामिल हैं।

X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.