Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »States »Uttarakhand» Trivendra Singh Rawat Will Be New CM Of Uttarakhand

    त्रिवेंद्र सिंह रावत आज लेंगे उत्तराखंड के CM पद की शपथ

    त्रिवेंद्र सिंह रावत आज लेंगे उत्तराखंड के CM पद की शपथ
    देहरादून। त्रिवेंद्र सिंह रावत आज उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने शुक्रवार को ही उनके नाम की घोषणा कर दी थ। देहरादून में भाजपा के केंद्रीय पर्यवेक्षकों नरेंद्र तोमर और सरोज पांडे की मौजूदगी में हुई पार्टी विधानमंडल दल की बैठक में रावत को सर्वसम्मति से नेता चुना गया।  
     
    शपथ ग्रहण में पीएम मोदी हो सकते हैं शामिल
     
    नए सीएम का शपथ ग्रहण समारोह कल यानी 18 मार्च को शाम यहां परेड ग्राउंड में होगा जिसमें पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अलावा कई केंद्रीय मंत्रियों के हिस्सा लेने की उम्मीद है।
     
    ये भी थे सीएम पद की रेस में
     
    - पिथौरागढ़ से विधायक प्रकाश पंत। राज्य में बीजेपी का ब्राह्मण चेहरा, 2 बार मंत्री भी रह चुके हैं।
    - चौबट्टाखाल से विधायक सतपाल महाराज। ये कांग्रेस सहित कई पार्टियों में रह चुके हैं। 2014 में बीजेपी में शामिल हुए थे। महाराज और त्रिवेंद्र सिंह रावत, दोनों ठाकुर हैं।
     
    कौन हैं त्रिवेंद्र सिंह रावत
     
    त्रिवेंद्र सिंह रावत उत्तराखंड के डोईवाला से जीतकर तीसरी बार विधायक बने हैं। रावत का आरएसएस का बैकग्राउंड हैं। इसके अलावा उत्तराखंड में पहले विधानसभा चुनाव में त्रिवेंद्र रावत 2002 और 2007 में विधायक रह चुके हैं। लेकिन रावत 2012 और उसके बाद डोईवाला में उपचुनाव हार गए थे। उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष की दौड़ में भी त्रिवेंद्र रावत शामिल हुए थे, लेकिन उनकी जगह तीरथ सिंह रावत को राज्य में भाजपा की कमान सौंपी गई। राजनाथ सिंह ने त्रिवेंद्र रावत को भाजपा का राष्ट्रीय सचिव और यूपी के सहप्रभारी बनाया। फिलहाल त्रिवेंद्र सिंह रावत झारखंड के प्रभारी भी हैं। 
     
     
    रावत के नाम पर इन वजहों से लगी मुहर

    - त्रिवेंद्र सिंह रावत आरएसएस के प्रचारक रहे हैं। अमित शाह के साथ भी इनकी खूब पटरी बैठती है। लोकसभा चुनावों में शाह यूपी के प्रभारी थे तो रावत सह-प्रभारी। तब बीजेपी के 80 में से 73 कैंडिडेट्स जीते थे। 
    - इसके बाद शाह ने रावत को 2014 में विधानसभा चुनाव से पहले झारखंड का प्रभारी बनाया तो पहली बार पार्टी की बहुमत की सरकार बनी। रावत को फिर नमामि गंगे समिति का नेशनल कन्वीनर बनाया गया। 
    - रावत को एडमिनिस्ट्रेशन चलाने का तजुर्बा भी है। वे खंडूरी और रमेश पोखरियाल की कैबिनेट में मंत्री रहे हैं।
     
    असेंबली का गणित
    - कुल सीटें: 70
    - बीजेपी: 57 सीटें
    - कांग्रेस: 11 सीटें
    - अन्य: 2 सीटें
     
     

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY