Home » States » Uttarakhandअंग्रेजों की इस कंपनी के पीछे पड़े बाबा रामदेव, मार्केट पर कब्जे की है तैयारी- Baba Ramdev aims to be

अंग्रेजों की इस कंपनी के पीछे पड़े बाबा रामदेव, बाजार पर कब्जे की है तैयारी

बाबा रामदेव अब भारत में सक्रिय कई विदेशी कंपनियों के लिए खतरा बनते जा रहे हैं।

1 of

नई दिल्ली. स्वदेशी के सहारे पतंजलि को आगे बढ़ाने में लगे बाबा रामदेव अब भारत में सक्रिय कई विदेशी कंपनियों के लिए खतरा बनते जा रहे हैं। हालांकि उनकी सबसे बड़ी टारगेट अंग्रेजों की एक कंपनी है। यह कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर (एचयूएल) है, जो देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनियों में शामिल है। रामदेव कभी एचयूएल का नाम लेने से संकोच भी नहीं करते। हाल में उन्होंने दावा किया कि पतंजलि अगले साल तक यानी दो साल में एचयूएल को पीछे छोड़ देगी।

 

यह भी पढ़ें-अंबानी से 19 गुनी दौलत संभालता है यह शख्स, प्लेन में कटते हैं साल के 250 दिन

 

ब्रिटेन की कंपनी की भारतीय इकाई है एचयूएल

-लगभग 3 लाख करोड़ रुपए के मार्केट कैपिटल वाली एचयूएल दरअसल ब्रिटेन की एफएमसीजी कंपनी यूनिलीवर की भारतीय इकाई है।

-यूनिलीवर अनुमानित तौर पर दुनिया की छठी बड़ी एफएमसीजी कंपनी है

-सालाना 35 हजार करोड़ रुपए के प्रोडक्ट्स की बिक्री के साथ एचयूएल की भारतीय बाजार पर बादशाहत कायम है।

-वहीं बाबा रामदेव की पतंजलि ने वित्त वर्ष 2016-17 में 10,561 करोड़ रुपए की बिक्री की थी। अब रामदेव अपनी इसी सक्सेस के दम पर अंग्रेजों की इस कंपनी को टक्कर देने की तैयारी कर रहे हैं।

 

आगे भी पढ़ें

 

 

यह है ऑनलाइन सेल की स्ट्रैटजी

पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ और एमडी आचार्य बालकृष्ण ने हाल में कहा था कि वह ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए 1,000 करोड़ रुपए के टर्नओवर का टारगेट है। पतंजलि‍ आयुर्वेद ने ई-कॉमर्स कंपनि‍यों के साथ एग्रीमेंट कर ऑनलाइन मार्केट प्‍लेस में एंट्री कर ली है। अब पतंजलि‍ के सभी प्रोडक्‍ट्स पेटीएम मॉल, बि‍ग बास्‍केट, फ्लि‍पकार्ट, ग्रोफर्स, अमेजन, नेटमेड्ड, 1 एमजी, शॉपक्‍लूज और दूसरी वेबसाइट्स पर भी मिलेंगे।

 

आगे भी पढ़ें

 

एक्सपोर्ट करेगी पतंजलि आयुर्वेद

पतंजलि आयुर्वेद स्वदेश के बाद विदेश में भी अपनी पैठ बनाने की तैयारी में है। वह जल्द ही चीन, म्यांमार, बांग्लादेश जैसे देशों में पतंजलि के प्रोडक्ट एक्सपोर्ट करेंगे। पतंजलि का टारगेट पहले एशियाई देशों को टारगेट करना है। इसके लिए पतंजलि झारखंड के साहिबगंज में प्रोडक्शन यूनिट शुरू करेगा। केंद्र सरकार का प्लान साहिबगंज को ईस्ट एशियाई देशों के साथ रोड़, वाटरवेज और हवाई रास्ते से जोड़ने का प्लान है।

 

 

पतंजलि आयुर्वेद लाएगा छोटे पैकेज

मार्च तक पतंजलि सभी प्रोडक्ट केटेगरी में छोटे पैकेट लेकर आएगा। पतंजलि के शैंपू, क्रीम के छोटे पाउच मार्केट में आ जाएंगे। उसके अभी तक पाउच जैसे छोटे पैकेज नहीं थे लेकिन अब वह जल्द इन्हें भी मार्केट में लेकर आएगा। पतंजलि के 350 से अधिक प्रोडक्ट रेन्ज है।

 

आगे भी पढ़ें

 

 

20 हजार कर्मचारियों की करेगी हायरिंग

पतंजलि आयुर्वेद के अभी 2 लाख के करीब सेलर और डिस्ट्रीब्यूटर हैं। पतंजलि का इन सेलर और डिस्ट्रीब्यूटर की संख्या बढ़ाकर 5 लाख करने की है। अभी 5 से 20 लाख स्टोर है वह अगले एक साल में इसकी संख्या बढ़ाकर 50 लाख सेलर करने का प्लान है। अपनी मार्केटिंग को बेहतर करने के लिए 20 हजार कर्मचारियों की हायरिंग कर रहा है।

 

 

दोगुने टर्नओवर का है टारगेट

हाल में पतंजलि ने कि‍ड्स और एडल्‍ट डायपर्स और सस्‍ते सेनि‍टरी नैपकि‍न सेगमेंट्स में एंट्री की है। बीते माह कंपनी ने सोलर इक्‍युपमेंट मैन्‍युफैक्‍चरिंग में उतरने का एलान किया है। एफएमसीजी के अलावा कंपनी दूसरे सेक्‍टर्स जैसे एजुकेशन और हेल्‍थकेयर में भी है। 2016-17 में पतंजलि का टर्नओवर 10,500 करोड़ रुपए के पार चला गया और इस फाइनेंशि‍यल ईयर में कंपनी का मकसद दोगुनी ग्रोथ का है।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट