बिज़नेस न्यूज़ » States » Uttarakhandमोदी सरकार की इस डील से बौखलाया चीन, कहा-आग से खेल रहा है भारत

मोदी सरकार की इस डील से बौखलाया चीन, कहा-आग से खेल रहा है भारत

भारत ने इस बार चीन पर उसका ही दांव चल दिया है, जिससे वह बुरी तरह बौखला गया है।

1 of

नई दिल्ली. भारत ने इस बार चीन पर उसका ही दांव चल दिया है, जिससे वह बुरी तरह बौखला गया है। दरअसल मोदी सरकार ने चीन के उस पड़ोसी देश के साथ डील की है, जो उसका कट्टर विरोधी है। इस डील से बौखलाए चीन ने भारत को सीधे धमकी दे डाली है। चीन ने कहा कि भारत ने यह डील करके आग से खेलने का काम किया है, जो उसके लिए खतरनाक हो सकता है।

 

भारत ने की यह डील

हाल ही में भारत और ताईवान के बीच इंडस्ट्रियल सहयोग को बढ़ावा देने के लिए 14 दिसंबर को एक समझौता किया। इसके तहत ताईवान, भारत में निवेश बढ़ाएगा। दोनों देशों के बीच बढ़ती नजदीकियों का असर निवेश के तौर पर भी दिख रहा है। यही वजह रही कि इस साल जनवरी और सितंबर के बीच भारत-चीन के बीच बाईलेटरल ट्रेड 40 फीसदी बढ़कर 4.7 अरब डॉलर तक पहुंच चुका है।

 

यह भी पढ़ें-अमिताभ बच्चन ऐसे बना रहे पैसे से पैसा, नहीं चलाते कोई कंपनी

 

बोला चीन-आग से खेल रहा है भारत

इस समझौते को लेकर चीन और ताइवान में काफी शोर देखने को मिल रहा है। ताइवानी मी़डिया में समझौते की सराहना की जा रही है कि इससे दोनों पक्षों के बीच व्यापार और निवेश को बढ़ावा मिलेगा। वहीं चीन के सरकारी अख़बारों ने इस समझौते को लेकर भारत को चेताया है।

चीन के ग्लोबल टाइम्स ने लिखा कि भारत-ताइवान के मामले में आग से खेल रहा है।

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है, ''भारतीय एक्सपर्ट्स इसे दोनों पक्षों के बीच जरूरी राजनीतिक और रणनीतिक संबंध करार दे रहे हैं।''

 

यह भी पढ़ें-इस महिला के हाथ में है माल्या की किस्मत, हर घंटे के लेती है 1.60 लाख रु

 

आगे भी पढ़ें

 

भारत के लिए खतरनाक साबित होगी यह डील

 

ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, ''ताइवान कार्ड भारत-चीन संबंधों के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। दरअसल ऐसा करते हुए भारत भूल जाता है कि वह खुद कई समस्याओं से जूझ रहा है। भारत को ध्यान रखना चाहिए कि वन चाइना पॉलिसी की लाइन पार करने के खतरे का सामना करना उसके बस की बात नहीं है।''


 

डोकलाम का बदला नहीं ले सकता भारत

ग्लबोल टाइम्स ने लिखा, ''भारत अगर सोचता है कि वो ताइवान कार्ड के ज़रिए दबाव बनाकर डोकलाम गतिरोध का बदला ले सकता है तो वो भ्रम में है। भारत ने ताइवान कार्ड का इस्तेमाल किया तो उसी की मुसीबत बढ़ेगी।'' पिछले हफ़्ते ही भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर एनसएसए स्तर की बैठक हुई थी।

 

आगे भी पढ़ें

 

 

वन चाइना पॉलिसी को मानता है भारत

 

भारत आधिकारिक रूप से वन चाइना पॉलिसी को मानता है। वन चाइना पॉलिसी मानने का मतलब है कि भारत, ताइवान को अलग देश नहीं बल्कि चीन का हिस्सा ही स्वीकार करता है। दूसरी तरफ़ भारत ताइवान से द्विपक्षीय संबंधों को भी बढ़ा रहा है।

 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट