बिज़नेस न्यूज़ » States » Uttar Pradeshयोगी ऐसे देंगे 3 साल में 40 लाख नौकरियां, किया है ये खुलासा

योगी ऐसे देंगे 3 साल में 40 लाख नौकरियां, किया है ये खुलासा

योगी ने साफ तौर पर कहा कि निवेशकों की चिंताओं को दूर करने के लिए प्रदेश सरकार ने पिछले 11 महीनों में काफी काम किया है।

1 of

नई दिल्‍ली. उत्‍तर प्रदेश को इंडस्‍ट्री के लिहाज से अनुकूल बनाने और रोजगार से अधिक से अधिक अवसर पैदा करने के उद्देश्‍य से योगी सरकार इन्‍वेस्‍टर्स समिट कर रही है। बुधवार को यूपी इन्‍वेस्‍टर्स समिट के पहले दिन यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि प्रदेश में पहली बार आयोजित हो रही इन्वेसटर्स समिट यहां निवेश को इच्छुक उद्योगपतियों के लिए संभावनाए तैयार करेगी। 

 

जॉब के मोर्चे पर विपक्ष के आरोपों को झेल रही मोदी सरकार के लिए यह राहत की खबर हो सकती है कि यूपी की बीजेपी सरकार युवाओं के लिए अधिक से अधिक रोजगार के अवसर तैयार करने की दिशा में काम कर रही है। मुख्‍यमंत्री योगी ने साफ तौर पर कहा कि निवेशकों की चिंताओं को दूर करने के लिए प्रदेश सरकार ने पिछले 11 महीनों में काफी काम किया है। कई नीतियां बनाई हैं जिससे उद्योगपतियों को निवेश लायक माहौल मिल सके।

 

40 लाख युवाओं को मिल सके रोजगार 
मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा कि हमारा प्रयास है कि उप्र में अगले तीन साल के भीतर 40 लाख युवाओं को रोजगार मुहैया कराया जा सके। हमारी सरकार 'वन डिस्ट्रिक्‍ट, वन प्रोडक्ट' पर काम रही है। इसके तहत जिले के बेहतरीन उत्पादों की मार्केंटिंग की जा रही है। योगी ने कहा कि सरकार बनने के बाद पूर्वांचल एक्सप्रेस वे और बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे पर काफी तेजी से काम हो रहा है। 

 

इन इंडस्‍ट्री पर है फोकस
योगी ने बताया कि समिट का मकसद यूपी को विकसित राज्‍यों के बीच खड़ा करना है। हमारा फोकस फूड प्रोसेसिंग, डेयरी, हैंडलूम एंड टेक्‍सटाइल, एमएसएमई, आईटी, स्‍टार्टअप्‍स, इलेक्‍ट्रॉनिक मैन्‍युफैक्‍चरिंग, फिल्‍म्‍स, टूरिज्‍म और सिविल एविएशन क्षेत्र पर है। उन्‍होंने बताया कि इन्‍वेस्‍टमेंट के लिए जरूरी बुनियादी चीजों जैसे कानू-व्‍यवस्‍था, बुनियादी ढांचा, बिजली और सड़क उपलब्‍ध करा रहे हैं।   

 

आगे पढ़ें. .. यूपी में बिजनेस करना ऐसे होगा आसान 

 

एक जगह मिलेंगे अप्रूवल 
मुख्‍यमंत्री ने कहा कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस अप्रूवल्‍स, परमिशंस, लाइसेंस को एक ही छत के नीचे उपलब्‍ध कराया जाएगा। हम डिजिटल क्लियरेंस लागू करने जा रहे हैं, जिसकी मॉनिटरिंग सीधे सीएम ऑफिस से होगी। नए आं‍त्रप्रेन्‍योरर्स के लिए हम अपनी तरह की विशेष पॉलिसी देंगे। इसके लिए आईआईटी कानपुर, बीएचयू और 30 इंजीनियरिंग के साथ भागीदारी हुई है। उन्‍होंने बताया कि हम पूर्वांचल और बुंदेलखंड एक्‍सप्रेसवे बना रहे है जिससे कि इंडस्ट्रियल कॉरिडोर को कनेक्‍ट करेंगे और रिजनल कनेक्टिविटी को बेहतर बनाएंगे। इससे टूरिज्‍म का भी विकास होगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट