विज्ञापन
Home » States » PunjabUnique Initiatives: To Avoid Pesticides, Farming in 3 Acres

लौकी कड़वी लगी तो डॉक्टर इंजीनियर्स करने लगे खेती, आप भी जानिए इस दिलचस्प वाकये को

अनूठी पहल: पेस्टीसाइड्स से बचने के लिए कर रहे हैं 3 एकड़ में खेती 

1 of

नई दिल्ली. पेस्टीसाइड के दुष्प्रभाव से हम सभी भली भांति परिचित है। कोई दूसरा विकल्प न होने की वजह से मजबूरी में ही हमें पेस्टीसाइट युक्त सब्जियां व अनाज को अपने आहार में शामिल करना पड़ता है। चंडीगढ़ में भी एक परिवार के साथ ऐसा हुआ। बस, फिर क्या था उस परिवार ने दूसरे परिवारों का साथ लिया और किराए पर जमीन लेकर शुरू कर दी खेती। आप भी जानिए इस दिलचस्प किस्से को। 

हमारे सहयोगी प्रकाशन दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक करीब 4 माह पहले चंडीगढ़ में रहने वाले देवेंद्र अग्रवाल को भोजन करते समय लौकी कुछ कड़वी लगी। उन्होंने उसे कच्चा खाकर भी देखा लेकिन उसका स्वाद ठीक नहीं था। तीन तक पेट भी खराब रहा। इलाज के लिए अपने ही कजिन डॉ.सचिन गुप्ता से परामर्श लेने पहुंचे। वहां उनका इलाज तो हुआ लेकिन एक योजना भी बन गई। योजना थी कि बाजार में मिलनी वाली सब्जियों में अब जमकर पेस्टीसाइड इस्तेमाल हो रहा है, इसलिए हमें खुद ही खेती कर सब्जी उगानी चाहिए। 

ऐसे शुरू हुई तैयारी 

 

दैनिक भास्कर के संवाददाता ननु जोगिंदर सिंह की खबर के मुताबिक मोहाली के कैंसर स्पेशलिस्ट डॉ.सचिन गुप्ता खुद भी दूसरे लोगों से संपर्क में रहकर अपनी सब्जी उगाने की तैयारी कर रहे थे। इसके अब लगभग 20 परिवारों ने मिल कर एक ग्रुप बनाया और जमीन ठेके पर लेने की तैयारी शुरू की। ये तैयारियां चल ही रही थीं कि देखते-देखते इस समूह से 40 परिवार जुड़ गए। इन जैविक सब्जियों की खेती के लिए उन्होंने ना सिर्फ मजदूर रखे बल्कि खुद भी सभी अपनी-अपनी सुविधानुसार वहां पर काम करते हैं। इन 40 परिवारों में कई डॉक्टर्स, इंजीनियर और दूसरे प्रोफेशनल शामिल हैं। इन परिवारों ने करीब तीन एकड़ जमीन ली है जिसका सालभर का किराया 50 हजार रुपए होता है। खास बात यह है कि जमीन के मालिक खुद भी यहां की सब्जी खाते हैं। चार महीने बाद अब सब्जियां होनी शुरू हो गई हैं।  ग्रुप से जुड़ी इंजीनियर वंदना कहती हैं कि वह बेटी और पति के साथ हर सप्ताह खेत पर जाती हैं। 

ये 40 परिवार खुद करते हैं खेती, इनमें डॉक्टर और इंजीनियर जैसे लोग शामिल हैं 

 

 उनके युवा हो चुके बच्चों ने वहां पर खुद बीज भी लगाए। वे बताती हैं कि हर रविवार को कुछ परिवार इकट्‌ठे होकर वहां जाते हैं। इससे पिकनिक के साथ ही खेती भी हो जाती है। उन्होंने अब अपने घरों में भी मशरूम की खेती शुरू कर दी है। सभी परिवारों ने 15 हजार रुपए प्रति परिवार इकट्‌ठे किए थे। इसी फंड में से वर्कर्स, लीज वाले की पेमेंट और बीज-खाद आदि का काम करना शुरू किया है। चंडीगढ़, पंचकूला और मोहाली में पांच सेंटर्स पर ये सब्जियां पहुंचती हैं जो सभी परिवारों को नजदीक पड़ता है। गांव से ही आने वाले एक ड्राइवर को इसकी अदायगी की जाती है। सब मिल-जुल कर एक दूसरे तक पहुंचा देते हैं। वंदना कहती हैं कि बाजार से सब्जियां खरीदने पर भी लगभग इतना ही खर्च आता था। लेकिन अब ये मेथी, मूंगरे और मटर आदि लाते हैं तो परिवार के लोग खुश होकर खा लेते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन