विज्ञापन
Home » States » Madhya PradeshIn the name of giving alimony to wife, the youth said in court- I am unemployed

NYAY योजना : 'राहुल पीएम बनेंगे तो 6 हजार मिलेंगे, वह पत्नी को दे दूंगा'

पत्नी को गुजारा भत्ता देने में नाकाम युवक ने कोर्ट में लगाई गुहार- बेरोजगार हूं

In the name of giving alimony to wife, the youth said in court- I am unemployed

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की न्याय योजना इन दिनों चर्चा में है। कोई इसे गेमचेंजर बता रहा है तो कोई इसे नामुमकिन बोल रहा है। लेकिन इंदौर के एक युवक ने इस योजना के बारे में कोर्ट में जो कहा उससे सब हैरत में पड़ गए। आप भी जानिए...

नई दिल्ली. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की न्याय योजना इन दिनों चर्चा में है। कोई इसे गेमचेंजर बता रहा है तो कोई इसे नामुमकिन बोल रहा है। लेकिन इंदौर के एक युवक ने इस योजना के बारे में कोर्ट में जो कहा उससे सब हैरत में पड़ गए। आप भी जानिए...

 

यह भी पढ़ें

 

मेक इन इंडिया की बड़ी कामयाबी, टाटा ने स्वदेशी विमानवाहक पोत के लिए विकसित की लड़ाकू प्रबंधन प्रणाली

 

राहुल जी ने वादा किया है, वे मुझे हर महीने देंगे छह हजार रुपए 

 

युवक ने कोर्ट में कहा कि - बेरोजगार हूं, पत्नी-बेटी के भरण-पोषण के लिए कोर्ट ने हर महीने साढ़े चार हजार रुपए देने का आदेश दिया है। मैं यह रकम नहीं दे सकता। राहुल गांधी ने घोषणा पत्र में वादा किया है कि उनकी सरकार बनी तो हर बेरोजगार के खाते में हर महीने छह हजार रुपए आएंगे। मैं पूरे होशोहवास में लिखकर देता हूं कि राहुलजी के प्रधानमंत्री बनने के बाद जो राशि मुझे दी जाएगी, उसमें से साढ़े चार हजार रुपए हर महीने पत्नी को दे दूंगा। कोर्ट चाहे तो बेरोजगारी भत्ते की रकम में से भरण-पोषण की रकम सीधे पत्नी के खाते में जमा करने का आदेश दे सकती है।

 

यह भी पढ़ें...

India की इस कामयाबी से झूम उठेंगे आप

 

यह है कहानी 

 

शुक्रवार को मप्र के इंदौर शहर में कुटुंब न्यायालय में एक केस पेश हुआ। कोर्ट ने इसे रिकॉर्ड में लेते हुए बहस के लिए 29 अप्रैल तय कर दी। आवेदन देने वाले सुखलिया निवासी आनंद शर्मा का पत्नी दीपमाला से पारिवारिक विवाद चल रहा है। गत 12 मार्च को न्यायालय ने आनंद को आदेश दिया कि वे हर महीने पत्नी को तीन हजार रुपए और बेटी आर्या (12) को डेढ़ हजार रुपए भरण-पोषण के लिए अदा करें। प्रधान न्यायाधीश के समक्ष पेश आवेदन में आनंद ने कहा कि उसकी मंशा न्यायालय के आदेश की अवहेलना करना नहीं है, लेकिन बेरोजगारी के कारण उसके लिए भरण-पोषण दे पाना संभव नहीं है। ऐसे में राहुल गांधी की न्याय योजना से मिलने वाली राशि ली जाए। 

 

2006 में हुआ था विवाह

 

आनंद ने बताया कि उसका विवाह 2006 में हुआ था। शादी के कुछ दिन बाद ही पति-पत्नी में विवाद शुरू हो गया। इस पर दीपमाला ने केस दायर किया है।

 

यह भी पढ़ें...

 

भारत की ताकत के आगे झुका अमेरिका, GSP पर मारी पलटी, निर्यात पर नहीं लगेगा टैक्स

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन