Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »States »Chhattisgarh» Karnataka Most Corrupt State, Andhra, TN, Maharashtra Next In Line Says Study

    कर्नाटक, आंध्र, तमिलनाडु सबसे ज्यादा भ्रष्‍ट, भारत में दी जाती है 10 रु तक की घूस

    कर्नाटक, आंध्र, तमिलनाडु सबसे ज्यादा भ्रष्‍ट, भारत में दी जाती है 10 रु तक की घूस
     
    नई दिल्ली. कर्नाटक के लोगों को  पब्लिक सर्विसेज के लिए सबसे ज्यादा रिश्वत देनी पड़ती है। यह बात सेंटर फॉर मीडिया स्टडीज (सीएमएस) ने ‘सीएमएस इंडिया करप्शन स्टडी 2017’ नाम से रिपोर्ट में सामने आई है। रिपोर्ट के अनुसार कर्नाटक के बाद आंध्र  प्रदेश के लोगों को सबसे जयादा रिश्वत देनी पड़ती है। देश के 20 राज्यों पर किए सर्वे के मुताबिक, साल 2005 में 20,500 करोड़ रुपए घूस में दिए गए, जबकि साल 2016 में 6,350 करोड़ रुपए रिश्वत के तौर पर दिए गए हैं।ये राज्य हैं सबसे ज्यादा भ्रष्ट.....
     
    • सर्वे के मुताबिक 77 फीसदी लोगों ने माना कि पब्लिक सर्विस लेने के लिए कर्नाटक में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार है।
    • कर्नाटक के बाद आंध्र पदेश को 74 फीसदी, तमिलनाडु को 68 फीसदी, महाराष्ट्र को 57 फीसदी, जम्मू और कश्मीर को 44 फीसदी और पंजाब को 42 फीसदी लोगों ने भ्रष्ट माना है।
     
    3,000 लोग हुए सर्वे में शामिल
    • यह सर्वे बीते एक साल में 20 राज्यों के लोगों पर किया गया है।
    • इसमें आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, महाराष्ट्र, कर्नाटक, झारखंड, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और पंजाब जैसे राज्यों में रूरल और अरबन एरिया के 3,000 से अधिक हाउसहोल्ड ने हिस्सा लिया है।
     
    साल 2005 में ये राज्य थे सबसे ज्यादा भ्रष्ट
    • साल 2005 में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार वाले राज्‍यों में बिहार सबसे आगे था। उस सर्वे में करीब 74 फीसदी लोगों ने बिहार को सबसे भ्रष्‍ट स्‍टेट माना था।
    • जम्मू-कश्मीर को 69 फीसदी, ओडिशा 60 फीसदी, राजस्थान 59 फीसदी और तमिलनाडु को 59 फीसदी लोगों ने भ्रष्‍ट माना था।
     
    नोटबंदी में कम हुआ भ्रष्टाचार 
    •   सर्वे में यह भी कहा गया कि नोटबंदी के समय में भ्रष्टाचार का लेवल नवंबर-दिसंबर में कम हुआ था।
    • नीति आयोग के सदस्य बाइबिक  डिब्रॉय ने कहा कि चुनावी सुधार के साथ बड़े करप्शन लिन्क्ड हैं।
    • सीएमएस के चेयरमैन एन भास्कर राव ने कहा कि वह करप्शन की रिपोर्ट काफी समय से लेकर आ रहे हैं।
    • रॉव ने कहा कि वह ये चाहते हैं कि नीति आयोग इस पर विचार करें क्योंकि वह पॉलिसीमेकर हैं। 

       

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY