Home » States » MaharashtraSaudi Aramco to buy stake in Maharashtra oil refinery

रत्नागिरी रिफाइनरी में 50% स्टेक लेगी सऊदी आर्मको, 1.43 लाख करोड़ कर सकती है इन्वेस्ट

दुनिया की सबसे बड़ी ऑयल प्रोड्यूसर सऊदी आर्मको भारत में भारी निवेश करने के लिए राजी हो गई है।

1 of

 


नई दिल्ली. दुनिया की सबसे बड़ी ऑयल प्रोड्यूसर सऊदी आर्मको भारत में भारी निवेश करने के लिए राजी हो गई है। सऊदी अरब कंपनी महाराष्ट्र में 44 अरब डॉलर (लगभग 2.86 लाख करोड़ रुपए) के निवेश से बनने वाली मेगा ऑयल रिफाइनरी में 50 फीसदी स्टेक खरीदेगी। इस संबंध में इंटरनेशन एनर्जी फोरम (आईईएफ) कान्फ्रेंस के दौरान एक मेमोरैंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर दस्तखत किए गए। 

 

 

रिफाइनरी में आधे तेल की सप्लाई करेगा सऊदी
इस मौके पर  सऊदी अरब के ऑयल मिनिस्टर खालिद ए. अल फलीह ने कहा कि सऊदी अरब के लिए भारत प्रमुख इन्वेस्टमेंट डेस्टिनेशन है और सऊदी आर्मको वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी के अलावा भी निवेश की संभावनाएं तलाशती रहेगी।
उन्होंने कहा कि सऊदी अरब 6 करोड़ टन क्षमता वाली रिफाइनरी को लगभग आधे तेल की आपूर्ति करेगी। सरकार के स्वामित्व वाली आईओसी, बीपीसीएल और एचपीसीएल के पास इस प्रोजेक्ट की बाकी 50 फीसदी हिस्सेदारी होगी।

 

 

रिफाइनरी के लिए बनाया था ज्वाइंट वेंचर 
यह रिफाइनरी महाराष्ट्र के रत्नागिरी में बनेगी। महाराष्ट्र के पश्चिमी हिस्से में बनने वाली रिफाइनरी के लिए तीन सरकारी कंपनियों इंडियन ऑयल, हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम ने ज्वाइंट वेंचर रत्नागिरी रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स (आरआरपीएल) बनाया है।
सऊदी आर्मको दुनिया की सबसे बड़ी ऑयल प्रोड्यूसर हैं, जो अपने क्रूड के लिए डिमांड सुनिश्चित करने के वास्ते ओवरसीज में रिफाइनरीज में निवेश कर रही है। साथ ही अगले साल आने वाले आईपीओ को देखते हुए मार्केट शेयर बढ़ाने की योजना पर भी काम कर रही है।

 

 

रोज 1530 करोड़ रु का क्रूड इंपोर्ट करता है भारत
दरअसल भारत में क्रूड की खासी ज्यादा खपत होती है और इसके लिए वह आयात पर निर्भर है। यही वजह है कि वह चीन, अमेरिका के बाद दुनिया में क्रूड का तीसरा बड़ा आयातक देश है। वह अपनी जरूरत का लगभग 90 फीसदी आयात से पूरा करता है।
वित्त वर्ष 2016-17 में भारत ने कुल 86 अरब डॉलर (5.60 लाख करोड़ रुपए) का क्रूड आयात किया। इस प्रकार भारत को क्रूड के आयात पर रोजाना 1530 करोड़ रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट