Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »States »Haryana» Haryana Finance Ministry Presented State Budget 2017-18

    हरियाणा ने पेश किया 1.02 लाख करोड़ रु का बजट, किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य

    चंडीगढ़। हरियाणा के फाइनेंस मिनिस्टर कैप्टन अभिमन्यु ने मनोहर लाल खट्टर सरकार का तीसरा बजट पेश किया है। फाइनेंस मिनिस्टर ने साल 2017-18 के लिए 1,02,329 करोड़ रुपए का बजट पेश किया है। राज्य का बजट पहली बार 1 लाख करोड़ रुपए के पार गया है। इस बजट में टैक्स में किसी तरह की बढ़ोतरी नहीं करने और किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया है।
     
     
    इंडस्‍ट्री के लिए बढ़ाया आवंटन
     
    हरियाणा सरकार के मुताबिक स्टार्टअप में हरियाणा 14वें स्थान पर आ गया है। इंडस्‍ट्री के लिए 399 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया है। हरियाणा में 15 आईटीआई खोले जाएंगे। आईटी और इलेक्ट्रॉनिक्‍स के लिए 125.86 करोड़ रुपए का आवंटन किया जाएगा। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 72.14 करोड़ रुपए दिए जाएंगे। हरियाणा में जल्द ही फिल्म नीति लाई जाएगी।
     
    एग्री सेक्‍टर के लिए बढ़ाया आवंटन
     
    हरियाणा सरकार ने बजट में एग्रीकल्‍चर सेक्‍टर के लिए 3,206 करोड़ रुपए का आवंटन किया है। राज्‍य के गुहला-चीका में नई सॉयल टेस्टिंग लैब शुरू होगी। किसानों की आय बढ़ाने के लिए क्लस्टर योजना बनाई जाएगी। किसानों को डेयरी फार्मिंग के लिए 50 फीसदी सब्सिडी मिलेगी। सरकार ने किसानों की आय दोगुनी करने का टारगेट रखा है। 100 गावों में वाई-फाई की सुविधा दी गई है। पंचायतों के लिए 4,963 करोड़ रुपए दिए जाएंगे।
     
    पिछले साल की तुलना में रहा बड़ा बजट
     
    2017-18 के बजट में बीते साल से 13.18 फीसदी अधिक है। पिछले फाइनेंशियल की तुलना में राजकोषीय घाटा कम हुआ है। राज्य में विकास कार्यों के लिए 14,932 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। हरियाणा में प्रति व्यक्ति आय 5.9 की दर से बढ़ने की उम्मीद है। राज्य की विकास दर 9 फीसदी रहने की उम्मीद है। राज्य का सकल घरेलू उत्पाद 8.7 फीसदी रहा और इसका अगले साल 9 फीसदी रहने की उम्मीद है।
     
    बजट हाईलाइट्स
     
    - कृषि सेक्टर 3.2 फीसदी की ग्रोथ रही और इसका अगले साल का टारगेट 7 फीसदी की दर से बढ़ने की उम्मीद है।
    - संसाधनों को शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में बांटने की कोशिश
    - राजकोषीय घाटा अगले फाइनेंशियल ईयर में 1 फीसदी से भी कम करने का टारगेट।
    - विकास के लिए 14,932 करोड़ कुल पूंजीगत खर्च होगा।
    - ‘हरियाणा ग्राम उदय’ योजना की शुरुआत।
     
    अगली स्लाइड में जानें – बजट हाईलाइट्स    
     

    और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY