बिज़नेस न्यूज़ » States » Gujaratनोटबंदी से हुआ 1.5 लाख करोड़ का नुकसान, GDP ग्रोथ अब भी यूपीए से कमः मनमोहन

नोटबंदी से हुआ 1.5 लाख करोड़ का नुकसान, GDP ग्रोथ अब भी यूपीए से कमः मनमोहन

पूर्व प्रधानमंत्री और इकोनॉमिस्‍ट मनमोहन सिंह ने पीएम नरेंद्र मोदी और उनकी आर्थिक नीतियों पर बड़ा हमला बोला है।

1 of

नई दिल्‍ली. गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री और इकोनॉमिस्‍ट मनमोहन सिंह ने  पीएम नरेंद्र मोदी और उनकी आर्थिक नीतियों पर बड़ा हमला बोला है।  उन्‍होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी की वजह से देश की इकोनॉमी को बड़ा नुकसान हुआ है। मनमोहन सिंह ने साथ ही यह भी कहा कि जीडीपी के ताजा आंकड़ों से ज्‍यादा खुश होने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि ये आंकड़े अब भी यूपीए शासन काल से कम हैं। 

 

नोटबंदी से 1.5 लाख करोड़ का नुकसान

पूर्व पीएम ने कहा कि हमें पिछले साल नोटबंदी की बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है। इस एक फैसले से देश की इकोनॉमी को 1.5 लाख करोड़ का नुकसान हुआ है। मनमोहन सिंह ने आगे कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कालाधन के खिलाफ लड़ाई को सलाम करता हूं लेकिन नोटबंदी के फैसले से कालेधन को बढ़ावा मिला है।  उन्‍होंने साथ ही  नोटबंदी में 100 से ज्‍यादा लोगों की मौत पर दुख भी जताया।" 

 

 

जीडीपी के आंकड़ों पर न हों खुश 

उन्होंने GDP में आई तेजी का स्वागत किया लेकिन कहा कि अभी खुश होना जल्दबादी होगी। उन्‍होंने कहा कि अभी चिंताएं दूर नहीं हुई हैं। उन्‍होंने कहा, 'पहले क्वार्टर में जीडीपी गिरकर 5.7 फीसदी पर पहुंच गई। नोटबंदी और जीएसटी का सबसे ज्यादा असर छोटे और मझोले उद्योग पर हुआ है। अगर 2017-2018 में ग्रोथ 6.7 फीसदी पर पहुंच भी गया तो भी ये यूपीए के दस साल के औसत 10.6 फीसदी ग्रोथ से कम ही रहेगा। '

 

मैं जानता हूं आप बुरे दौर में हैं 


सूरत में सभा को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि मैं जानता हूं आप बुरे दौर से गुजर रहे हैं। यह एक ऐसी समस्या है जो आपके द्वारा पैदा नहीं की गई थी। मैं कांग्रेस की ओर से आपके सामने आया हूं। मैं जानता हूं कि आप नोटबंदी और जीएसटी के दोहरी मार से झेल रहे हैं। नोटबंदी की वजह से लोगों ने कालेधन को सफेद बना लिया। आप नोटबंदी से उबर ही रहे थे कि जीएसटी की मार झेलनी पड़ी। किसी ने आपका हाल जानने की कोशिश नहीं कि किस तरह से आपका धंधा चला. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं गुजरात से हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट